Monday, July 22, 2024
Homeराजनीतिमोदी सरकार ने मालदीव को दिया झटका, सहायता राशि ₹170 करोड़ घटाई: पिछले साल...

मोदी सरकार ने मालदीव को दिया झटका, सहायता राशि ₹170 करोड़ घटाई: पिछले साल की थी ₹770 करोड़ की मदद, अब श्रीलंका को देंगे ज्यादा पैसा

मालदीव ने अपने पाँव पर कुल्हाड़ी खुद ही मारी है। पिछले तीन सालों से सरकार लगातार उनके लिए सहायता राशि बढ़ा रही थी। लेकिन, इस बार भारत विरोधी बयानों की वजह से जो विवाद उपजा उसके बाद भारत सरकार का यह फैसला आया है।

मालदीव के राष्ट्रपति मोहम्मद मुइज्जू की सरकार को भारत विरोधी बयानों के चलते अब तगड़ा नुकसान उठाना पड़ेगा। भारत ने मालदीव को दी जाने वाली आर्थिक सहायता को घटा दिया है। इसका ऐलान अंतरिम बजट 2024-25 में किया गया है। वहीं नेपाल और श्रीलंका जैसे पड़ोसियों को दी जाने वाली सहायता बढ़ा दी गई है।

वित्त मंत्रालय ने बजट 2024-25 में भारत द्वारा मित्र देशों को दी जाने वाली सहायता की जानकारी दी है। वित्त मंत्रालय द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, भारत सरकार 2024-25 में मालदीव को ₹600 करोड़ की सहायता देगी। वर्ष 2024-25 में मोदी सरकार ने मालदीव को दी जाने वाली सहायता को 22% घटा दिया है।

मालदीव को वित्त वर्ष 2023-24 ₹770 करोड़ की सहायता दी गई थी। इस बार के बजट में मालदीव को ₹600 करोड़ की सहायता देने का ऐलान किया गया है। इससे पहले लगातार सरकार मालदीव को दी जाने वाली सहायता को बढ़ा रही थी। ऐसा तीन वर्षों में पहली बार हुआ है कि मालदीव की सहायता को घटाया गया है।

मालदीव को दी जाने वाली आर्थिक सहायता 2022-23 के मुकाबले 2023-24 में चार गुने से भी अधिक कर दी गई थी। मालदीव को 2022-23 में जहाँ ₹183 करोड़ की सहायता दी गई थी तो वहीं यह 2023-24 में बढ़ कर ₹770 करोड़ हो गई। अब इसे सरकार ने घटाने का निर्णय लिया है। सरकार के इस निर्णय के पीछे मालदीव की नई नवेली मुइज्जू सरकार के भारत विरोधी रवैये को कारण माना जा रहा है।

गौरतलब है कि हाल ही में मालदीव के राष्ट्रपति बने मोहम्मद मुइज्जू लगातार भारत विरोधी भावनाओं को भड़का रहे हैं। हाल ही में उनकी सरकार में शामिल मंत्रियों ने भारत और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के विरुद्ध अपमानजनक बातें कही थी। इसको लेकर दोनों देशों के बीच कई दिनों तक कूटनीतिक स्तर पर तनातनी चली थी। मोहम्मद मुइज्जू खुद भी भारत विरोधी भावनाओं को भड़का कर सत्ता में आए हैं। उन्होंने हाल ही में भारत के सैनिकों को भी 15 मार्च तक वापस जाने को कहा था।

इन्हीं सब रवैयों को देखते हुए भारत ने मालदीव की सहायता से हाथ खींचने चालू कर दिए हैं। वरना भारत अपने पड़ोस के देशों को लगातार आर्थिक सहायता उनके विकास के लिए देता आया है। मालदीव को भारत ने इसी नीयत से सहायता दी थी। जिस दौरान सहयता बढ़ाई गई, तब यहाँ पर इब्राहिम मोहम्मद सोलिह राष्ट्रपति थे जो कि भारत के समर्थक माने जाते थे। अब मालदीव को भारत के इस कदम से तगड़ा झटका लगेगा क्योंकि भारत जो सहायता देता है, वह मालदीव के बजट का लगभग 1.5% है।

भारत ने 2024-25 में नेपाल और श्रीलंका को दी जाने वाली सहायता को बढ़ाने का निर्णय लिया है। नेपाल को 2023-24 के दौरान ₹650 करोड़ की सहायता दी गई थी। अब 2024-25 में नेपाल को ₹700 करोड़ की वित्तीय सहायता दी जाएगी। वहीं श्रीलंका को अब ₹60 करोड़ की जगह ₹75 करोड़ की सहायता भारत देगा।

विभिन्न देशों को दी जाने आर्थिक सहायता का ब्यौरा मालदीव
विभिन्न देशों को दी जाने आर्थिक सहायता का ब्यौरा

बांग्लादेश और म्यांमार को भी भारत ने क्रमशः ₹120 करोड़ और ₹250 करोड़ की सहायता देने का निर्णय लिया है। भारत अपने पड़ोसी भूटान को ₹2068 करोड़ की सहायता और लोन देगा। इसके अलावा ईरान में बन रहे चाबहार पोर्ट के लिए भी भारत ने ₹100 करोड़ देने का ऐलान किया है। अफगानिस्तान को ₹200 करोड़ की सहायता दी जाएगी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -