गोवा में BJP सरकार ने हासिल किया विश्वासमत, CM सावंत को 20 विधायकों का समर्थन

विरोध में कॉन्ग्रेस के 14 और शरद पवार की राष्ट्रवादी कॉन्ग्रेस पार्टी (NCP) के 1 विधायक ने मत दिया। भाजपा के 7 विधायक अल्पसंख्यक समुदाय से आते हैं।

गोवा के नए मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने सदन में बहुमत साबित कर दिया है। सावंत के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी ने फ्लोर टेस्ट 20-15 से पास कर लिया। बता दें कि 36 सदस्यीय गोवा विधानसभा में बहुमत के लिए 19 का जादुई आँकड़ा चाहिए होता है। भाजपा को इस से 1 अधिक यानि 19 विधायकों का समर्थन मिला, वहीं विरोध में सिर्फ़ 15 विधायक थे। इसी तरह 5 मतों के अंतर से प्रमोद सावंत के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार ने विश्वासमत हासिल कर लिया। प्रमोद सावंत को भाजपा के 11, महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी (MGP) के 3, गोवा फॉरवॉर्ड पार्टी (GFP) एवं 3 निर्दलीय का भी समर्थन मिला।

विरोध में कॉन्ग्रेस के 14 और शरद पवार की राष्ट्रवादी कॉन्ग्रेस पार्टी (NCP) के 1 विधायक ने मत दिया। भाजपा के 7 विधायक अल्पसंख्यक समुदाय से आते हैं। पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद सत्ता के लिए चल रही रस्साकशी में प्रमोद सावंत ने रात के 2 बजे ही शपथ ले लिया था।

गोवा में मनोहर पर्रिकर के उत्तराधिकारी के रूप में प्रमोद सावंत को पार्टी ने जिम्मेदारी सौंपी है। प्रमोद सावंत ने रात 2 बजे गोवा के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी। प्रमोद सावंत को गोवा की राज्यपाल मृदुला सिन्हा ने पद और गोपनियता की शपथ दिलाई। बता दें कि प्रमोद सावंत के अलावा गोवा में दो डिप्टी सीएम भी बनाए गए हैं। इस अवसर पर प्रमोद सावंत ने कहा, “पार्टी ने जो जिम्मेदारी मुझे दी है उसे निभाने की मेरी पूरी कोशिश रहेगी। मैं जो भी कुछ हूँ मनोहर पर्रिकर की वजह से ही हूँ। उन्होंने ही मुझे राजनीति में लाया और उन्हीं के बदौलत मैं गोवा विधानसभा का स्पीकर बना।”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

पेशे से किसान और आर्युर्वेदिक डॉक्टर प्रमोद सावंत मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेने से पहले गोवा विधानसभा के अध्यक्ष हैं। 45 वर्षीय डॉ. सावंत की पत्नी सुलक्षणा भी बीजेपी में नेत्री हैं और साथ में शिक्षिका भी हैं। गोवा बीजेपी के नेता 45 साल के डॉ. प्रमोद सावंत का जन्म 24 अप्रैल 1973 को हुआ। सैंकलिम विधानसभा क्षेत्र से चुनकर आए डॉ. प्रमोद सावंत का पूरा नाम डॉ. प्रमोद पांडुरंग सावंत है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

सुब्रमण्यम स्वामी
सुब्रमण्यम स्वामी ने ईसाइयत, इस्लाम और हिन्दू धर्म के बीच का फर्क बताते हुए कहा, "हिन्दू धर्म जहाँ प्रत्येक मार्ग से ईश्वर की प्राप्ति सम्भव बताता है, वहीं ईसाइयत और इस्लाम दूसरे धर्मों को कमतर और शैतान का रास्ता करार देते हैं।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

154,435फैंसलाइक करें
42,730फॉलोवर्सफॉलो करें
179,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: