Monday, March 1, 2021
Home राजनीति आम लोगों को मिलने वाली है बड़ी राहत, दो दर्जन वस्तुओं पर घट सकता...

आम लोगों को मिलने वाली है बड़ी राहत, दो दर्जन वस्तुओं पर घट सकता है जीएसटी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कल एक कार्यक्रम में कहा था कि केंद्र सरकार 99 फीसदी वस्तुओं को जीएसटी के 18 प्रतिशत के स्लैब में लाने पर काम कर रही है। इसके बाद ही इस कयास को बल मिला था कि शनिवार को होने वाली महत्वपूर्ण बैठक में जीएसटी में इन बदलावों को हरी झंडी मिल सकती है।

नरेन्द्र मोदी सरकार करीब दो दर्जन वस्तुओं पर जीएसटी (वस्तु एवं सेवा कर) कम करने के लिए तैयार दिख रही है और जल्द ही इस पर निर्णय लिए जाने की उम्मीद है। बता दें कि अभी 28 प्रतिशत वाले स्लैब के दायरे में करीब तीन दर्जन चीजें हैं जिसे सरकार निचली स्लैब में लाने का भरसक प्रयास कर रही है। ख़बरों के अनुसार एसी, टीवी, डिश वाशर, डिजिटल कैमरा इत्यादि चीजें जो अभी 28 प्रतिशत वाले समूह में है, उनपर जीएसटी घटा कर उन्हें 18 प्रतिशत वाले समूह में लाया जा सकता है। शनिवार को जीएसटी काउंसिल की बैठक होने वाली है जिसके बाद इसकी औपचारिक घोषणा होने की संभावना है।

कल अंग्रेजी समाचार चैनल रिपब्लिक टीवी के एक कार्यक्रम में बोलते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इस ओर संकेत दिए थे। प्रधानमंत्री ने कहा था कि केंद्र सरकार 99 फीसदी वस्तुओं को जीएसटी के 18 प्रतिशत के स्लैब में लाने पर काम कर रही है। उन्होंने यह भी बताया था कि अप्रत्यक्ष कर की नई प्रणाली जीएसटी स्थापित हो चुकी है और हम चीजों को जितना हो सके उतना सरल करने की कोशिश में लगे हैं। प्रधानमंत्री ने कहा था;

“आज जीएसटी व्यवस्था काफी हद तक स्थापित हो चुकी है और हम उस दिशा में काम कर रहे हैं, जहां 99 प्रतिशत चीजें जीएसटी के 18 प्रतिशत कर स्लैब में आयें। हमारा मानना है कि उद्यमों के लिये जीएसटी को जितना अधिक से अधिक सरल किया जाना चाहिए। शुरुआती दिनों में जीएसटी अलग-अलग राज्यों में मौजूद वैट या उत्पाद शुल्क के आधार पर तैयार किया गया था। हालांकि समय-समय पर बातचीत के बाद कर व्यवस्था में सुधार हो रहा है।”

इसके बाद ही इस कयास को बल मिला था कि शनिवार को होने वाली महत्वपूर्ण बैठक में जीएसटी में इन बदलावों को हरी झंडी मिल सकती है। नयी दिली में होने वाली ये बैठक जीएसटी काउंसिल की तीसवीं बैठक होगी जिसकी अध्यक्षता वित्त मंत्री अरुण जेटली करेंगे।

बता दें कि अभी रोजमर्रा की कई चीजों सहित स्वास्थ सेवाएँ, बच्चों के उपयोग में आने वाली कई चीजों और सेनेटरी पैड्स इत्यादि को शून्य प्रतिशत (0%) जीएसटी वाले स्लैब में रखा गया है यानी कि इन पर कोई कर नहीं लगता। दैनिक जागरण के सूत्रों के मुताबिक अभी जीएसटी के दायरे में कुल 1200 से 1300 आइटम शामिल हैं, जिसमें ढाई से तीन प्रतिशत आइटम ऐसे हैं जिन पर 28 प्रतिशत टैक्स लगता है। माना जा रहा है कि अगले निर्णय के बाद से जीएसटी के सबसे ऊपरी स्लैब में अब 226 आइटम्स की बजाय 35 आइटम्स ही रह जाएंगे।

नवभारत टाइम्स में प्रकाशित एक रिपोर्ट की माने तो निजी इस्तेमाल के लिए एयरक्राफ्ट, रिवॉल्वर और पिस्तौल जीएसटी के सबसे अधिक 28 पर्सेंट के स्लैब में शामिल रहेंगे। इसके अलावा जिन चीजों में कमी देखने को मिलेगी, उनमें हाउसहोल्ड अप्लायंसेज शामिल होंगे। इसके अलावा सीमेंट, टायर और ऑटो पार्ट्स पर राहत मिलेगी। इसके अलावा कृषि उत्पादों पर भी सरकार की ओर से छूट दी जा सकती है, जो फिलहाल 18 पर्सेंट के दायरे में हैं।

वहीं सरकार के कर संग्रह के लक्ष्य पर भी इस निर्णय के असर पड़ने की उम्मीद है लेकिन आने वाले आम चुनावों को देखते हुए सरकार राजस्व की चिंता न कर लोक-लुभावन नीतियों के पक्ष में फैसला ले सकती है। ऐसे में सरकार कर संग्रह के मामले में सालाना बजट में तय किये गये लक्ष्य से पीछे रहेगी। माना जा रहा है कि इस से सरकार के पास जीएसटी संग्रह में लक्ष्य से 50,000 करोड़ रुपये कम आएंगे।

वहीं अगर कुछ उत्पादों पर जीएसटी से पहले और उसके बाद लगने वाले कर प्रतिशत की तुलना करे तो जनता को काफी राहत मिली है।

  • टीवी, फ्रिज, वाशिंग मशीन पर जीएसटी से पहले 31.3% कर लगता था जबकि जीएसटी में ये उत्पाद 18% के दायरे में होंगे। यानी इन उत्पादों पर जीएसटी के आने से आम जनों को 13.3% कर की भरी बचत होगी।
  • वहीं फर्नीचर पर जीएसटी के लागू होने से पहले तक 25-31 प्रतिशत तक कर लगता था जो अब सिर्फ 18% रह जाएगा।
  • मोबाइल फ़ोन पर 18-25 प्रतिशत तक लगने वाले कर में भी जीएसटी के आने से जनता को बचत हुई है और अब इनपर सिर्फ 12 प्रतिशत कर लगता है।

जीएसटी के आने के बाद से सरकार को भी मिलने वाले राजस्व में इजाफा हुआ है और कर देने वाले लोगों की संख्या भी बढ़ी है जीके कारण सरकार जनता को और राहत देने के मूड में दिखाई पड़ रही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किसे लगेगा वैक्सीन, कहाँ कराएँ रजिस्ट्रेशन, कितने रुपए होंगे खर्च… 9 सवाल और उसके जवाब से जानें हर एक बात

कोरोना वैक्सीनेशन का दूसरा चरण 1 मार्च 2021 के साथ शुरू हो गया है। दूसरे फेज में 60 साल से ज्यादा और गंभीर रोग से ग्रस्त लोगों को...

केरल में कॉन्ग्रेस ने मुस्लिम वोटरों पर लगाया बड़ा दाँव, मुस्लिम लीग को दे दी 26 सीटें

केरल में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए कॉन्ग्रेस ने 'इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (IUML)' के साथ सीट शेयरिंग फॉर्मूला फाइनल कर लिया है।

’50 करोड़ भारतीय मर जाए’ – यह दुआ करने वाले मौलाना को कॉन्ग्रेस-लेफ्ट गठबंधन में 30 सीटें, फिर भी दरार!

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले वामदलों, कॉन्ग्रेस और मौलाना अब्बास सिद्दीकी के ISF के बीच हुए गठबंधन में दरार दिख रही है।

असम का गमछा, पुडुचेरी की नर्स: PM मोदी ने हँसते-हँसते ली कोरोना वैक्सीन की पहली डोज

अब जब आम लोगों को कोरोना के खिलाफ बनी वैक्सीन लगनी शुरू हो गई है, पीएम नरेंद्र मोदी ने मार्च 2021 के पहले ही दिन कोरोना वैक्सीन की डोज ली।

यूपी में सभी को दी जाएगी एक यूनिक हेल्थ आईडी, शहरों में हजारों गरीबों को घर देने की तैयारी में योगी सरकार

जल्द व बेहतर इलाज उपलब्ध कराने के लिए उत्तर प्रदेश के सभी लोगों के स्वास्थ्य का इलेक्ट्रॉनिक रिकॉर्ड तैयार किया जाएगा। नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन (एनडीएचएम) के अंतर्गत प्रदेश सरकार ने इसकी तैयारी शुरू कर दी है।

सोनिया को राहुल बाबा को PM बनाने की चिंता, स्टालिन को उधयनिधि को CM- 2जी, 3जी, 4जी सब तमिलनाडु में: अमित शाह

गृह मंत्री ने कहा कि सोनिया गाँधी को राहुल बाबा को प्रधानमंत्री बनाने की चिंता है और स्टालिन जी को उधयनिधि को मुख्यमंत्री बनाने की चिंता है। इन्हें ना देश की चिंता है और ना तमिलनाडु की, उनको बस अपने परिवार की चिंता है।

प्रचलित ख़बरें

‘अल्लाह से मिलूँगी’: आयशा ने हँसते हुए की आत्महत्या, वीडियो में कहा- ‘प्यार करती हूँ आरिफ से, परेशान थोड़े न करूँगी’

पिता का आरोप है कि पैसे देने के बावजूद लालची आरिफ बीवी को मायके छोड़ गया था। उन्होंने बताया कि आयशा ने ख़ुदकुशी की धमकी दी तो आरिफ ने 'मरना है तो जाकर मर जा' भी कहा था।

पत्थर चलाए, आग लगाई… नेताओं ने भी उगला जहर… राम मंदिर के लिए लक्ष्य से 1000+ करोड़ रुपए ज्यादा मिला समर्पण

44 दिन तक चलने वाले राम मंदिर निधि समर्पण अभियान से कुल 1100 करोड़ रुपए आने की उम्मीद की गई थी, आ गए 2100 करोड़ रुपए से भी ज्यादा।

कोर्ट के कुरान बाँटने के आदेश को ठुकराने वाली ऋचा भारती के पिता की गोली मार कर हत्या, शव को कुएँ में फेंका

शिकायत के अनुसार, वो अपने खेत के पास ही थे कि तभी आठ बदमाशों ने कन्धों पर रायफल रखकर उन्हें घेर लिया और फायरिंग करने लगे।

असम-पुडुचेरी में BJP की सरकार, बंगाल में 5% वोट से बिगड़ रही बात: ABP-C Voter का ओपिनियन पोल

एबीपी न्यूज और सी-वोटर ओपिनियन पोल के सर्वे की मानें तो पश्चिम बंगाल में तीसरी बार ममता बनर्जी की सरकार बनती दिख रही है।

‘मैं राम मंदिर पर मू$%गा भी नहीं’: कॉन्ग्रेस नेता राजाराम वर्मा ने की अभद्र टिप्पणी, UP पुलिस ने दर्ज किया मामला

खुद को कॉन्ग्रेस का पदाधिकारी बताने वाले राजाराम वर्मा ने सोशल मीडिया पर अयोध्या में बन रहे भव्य राम मंदिर को लेकर अभद्र टिप्पणी की है।

माँ बन गई ईसाई… गुस्से में 14 साल के बेटे ने दी जान: लाश के साथ ‘जीसस के चमत्कार’ की प्रार्थना

झारखंड के चतरा स्थित पन्नाटांड़ में एक किशोर ने कुएँ में कूद कर आत्महत्या कर ली क्योंकि वो अपने माँ के ईसाई धर्मांतरण से दुःखी था।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,201FansLike
81,844FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe