Thursday, May 6, 2021
Home राजनीति आम लोगों को मिलने वाली है बड़ी राहत, दो दर्जन वस्तुओं पर घट सकता...

आम लोगों को मिलने वाली है बड़ी राहत, दो दर्जन वस्तुओं पर घट सकता है जीएसटी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कल एक कार्यक्रम में कहा था कि केंद्र सरकार 99 फीसदी वस्तुओं को जीएसटी के 18 प्रतिशत के स्लैब में लाने पर काम कर रही है। इसके बाद ही इस कयास को बल मिला था कि शनिवार को होने वाली महत्वपूर्ण बैठक में जीएसटी में इन बदलावों को हरी झंडी मिल सकती है।

नरेन्द्र मोदी सरकार करीब दो दर्जन वस्तुओं पर जीएसटी (वस्तु एवं सेवा कर) कम करने के लिए तैयार दिख रही है और जल्द ही इस पर निर्णय लिए जाने की उम्मीद है। बता दें कि अभी 28 प्रतिशत वाले स्लैब के दायरे में करीब तीन दर्जन चीजें हैं जिसे सरकार निचली स्लैब में लाने का भरसक प्रयास कर रही है। ख़बरों के अनुसार एसी, टीवी, डिश वाशर, डिजिटल कैमरा इत्यादि चीजें जो अभी 28 प्रतिशत वाले समूह में है, उनपर जीएसटी घटा कर उन्हें 18 प्रतिशत वाले समूह में लाया जा सकता है। शनिवार को जीएसटी काउंसिल की बैठक होने वाली है जिसके बाद इसकी औपचारिक घोषणा होने की संभावना है।

कल अंग्रेजी समाचार चैनल रिपब्लिक टीवी के एक कार्यक्रम में बोलते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इस ओर संकेत दिए थे। प्रधानमंत्री ने कहा था कि केंद्र सरकार 99 फीसदी वस्तुओं को जीएसटी के 18 प्रतिशत के स्लैब में लाने पर काम कर रही है। उन्होंने यह भी बताया था कि अप्रत्यक्ष कर की नई प्रणाली जीएसटी स्थापित हो चुकी है और हम चीजों को जितना हो सके उतना सरल करने की कोशिश में लगे हैं। प्रधानमंत्री ने कहा था;

“आज जीएसटी व्यवस्था काफी हद तक स्थापित हो चुकी है और हम उस दिशा में काम कर रहे हैं, जहां 99 प्रतिशत चीजें जीएसटी के 18 प्रतिशत कर स्लैब में आयें। हमारा मानना है कि उद्यमों के लिये जीएसटी को जितना अधिक से अधिक सरल किया जाना चाहिए। शुरुआती दिनों में जीएसटी अलग-अलग राज्यों में मौजूद वैट या उत्पाद शुल्क के आधार पर तैयार किया गया था। हालांकि समय-समय पर बातचीत के बाद कर व्यवस्था में सुधार हो रहा है।”

इसके बाद ही इस कयास को बल मिला था कि शनिवार को होने वाली महत्वपूर्ण बैठक में जीएसटी में इन बदलावों को हरी झंडी मिल सकती है। नयी दिली में होने वाली ये बैठक जीएसटी काउंसिल की तीसवीं बैठक होगी जिसकी अध्यक्षता वित्त मंत्री अरुण जेटली करेंगे।

बता दें कि अभी रोजमर्रा की कई चीजों सहित स्वास्थ सेवाएँ, बच्चों के उपयोग में आने वाली कई चीजों और सेनेटरी पैड्स इत्यादि को शून्य प्रतिशत (0%) जीएसटी वाले स्लैब में रखा गया है यानी कि इन पर कोई कर नहीं लगता। दैनिक जागरण के सूत्रों के मुताबिक अभी जीएसटी के दायरे में कुल 1200 से 1300 आइटम शामिल हैं, जिसमें ढाई से तीन प्रतिशत आइटम ऐसे हैं जिन पर 28 प्रतिशत टैक्स लगता है। माना जा रहा है कि अगले निर्णय के बाद से जीएसटी के सबसे ऊपरी स्लैब में अब 226 आइटम्स की बजाय 35 आइटम्स ही रह जाएंगे।

नवभारत टाइम्स में प्रकाशित एक रिपोर्ट की माने तो निजी इस्तेमाल के लिए एयरक्राफ्ट, रिवॉल्वर और पिस्तौल जीएसटी के सबसे अधिक 28 पर्सेंट के स्लैब में शामिल रहेंगे। इसके अलावा जिन चीजों में कमी देखने को मिलेगी, उनमें हाउसहोल्ड अप्लायंसेज शामिल होंगे। इसके अलावा सीमेंट, टायर और ऑटो पार्ट्स पर राहत मिलेगी। इसके अलावा कृषि उत्पादों पर भी सरकार की ओर से छूट दी जा सकती है, जो फिलहाल 18 पर्सेंट के दायरे में हैं।

वहीं सरकार के कर संग्रह के लक्ष्य पर भी इस निर्णय के असर पड़ने की उम्मीद है लेकिन आने वाले आम चुनावों को देखते हुए सरकार राजस्व की चिंता न कर लोक-लुभावन नीतियों के पक्ष में फैसला ले सकती है। ऐसे में सरकार कर संग्रह के मामले में सालाना बजट में तय किये गये लक्ष्य से पीछे रहेगी। माना जा रहा है कि इस से सरकार के पास जीएसटी संग्रह में लक्ष्य से 50,000 करोड़ रुपये कम आएंगे।

वहीं अगर कुछ उत्पादों पर जीएसटी से पहले और उसके बाद लगने वाले कर प्रतिशत की तुलना करे तो जनता को काफी राहत मिली है।

  • टीवी, फ्रिज, वाशिंग मशीन पर जीएसटी से पहले 31.3% कर लगता था जबकि जीएसटी में ये उत्पाद 18% के दायरे में होंगे। यानी इन उत्पादों पर जीएसटी के आने से आम जनों को 13.3% कर की भरी बचत होगी।
  • वहीं फर्नीचर पर जीएसटी के लागू होने से पहले तक 25-31 प्रतिशत तक कर लगता था जो अब सिर्फ 18% रह जाएगा।
  • मोबाइल फ़ोन पर 18-25 प्रतिशत तक लगने वाले कर में भी जीएसटी के आने से जनता को बचत हुई है और अब इनपर सिर्फ 12 प्रतिशत कर लगता है।

जीएसटी के आने के बाद से सरकार को भी मिलने वाले राजस्व में इजाफा हुआ है और कर देने वाले लोगों की संख्या भी बढ़ी है जीके कारण सरकार जनता को और राहत देने के मूड में दिखाई पड़ रही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बंगाल हिंसा वाली रिपोर्ट राज्यपाल तक नहीं पहुँचे: CM ममता बनर्जी का ऑफिसरों को आदेश, गवर्नर का आरोप

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने ममता बनर्जी पर यह आरोप लगाया है कि उन्होंने चुनाव परिणाम के बाद हिंसा पर रिपोर्ट देने से...

‘मेरी बहू क्रिकेटर इरफान पठान के साथ चालू है’ – चचेरी बहन के साथ नाजायज संबंध पर बुजुर्ग दंपत्ति का Video वायरल

बुजुर्ग ने पूर्व क्रिकेटर पर आरोप लगाते हुए कहा, “इरफान पठान बड़े अधिकारियों से दबाव डलवाता है। हम सुसाइड करना चाहते हैं।”

महाराष्ट्र पुलिस में दलाली और उद्धव-पवार का नाम: जिस महिला IPS ने खोले पोल, उनकी गिरफ्तारी पर HC की रोक

IPS अधिकारी रश्मि शुक्ला बॉम्बे हाईकोर्ट पहुँचीं, जहाँ FIR रद्द कर के पुलिस को कोई सख्त कदम उठाने से रोकने का निर्देश देने की दरख़्वास्त की गई।

CM केजरीवाल या उनके वकील – कौन है झूठा? दिल्ली में ऑक्सीजन पर एक ने झूठ बोला है – ये है सबूत

दिल्ली में ऑक्सीजन संकट को लेकर दिल्ली सरकार से जुड़ी दो विरोधाभासी जानकारी सामने आई। एक खबर में बताया गया कि दिल्ली सरकार ने...

बंगाल में अब दलित RSS कार्यकर्ता की हत्या, CM ममता बनर्जी की घोषणा – मृतकों को मिलेंगे 2-2 लाख रुपए

बंगाल में एक RSS कार्यकर्ता की हत्या कर दी गई। ईस्ट बर्दवान के केतुग्राम की में 22 वर्षीय बलराम मांझी की हत्या कर दी गई।

बंगाल हिंसा के ये कैसे जख्म: किसी ने नदी में लगाई छलांग तो कोई मॉं का अंतिम संस्कार भी नहीं कर सका

मेघू दास हों या बीजेपी के अनाम बूथ अध्यक्ष या फिर दलित भास्कर मंडल। टीएमसी के गुंडों से प्रताड़ित इनलोगों के जख्म शायद ही भर पाएँ।

प्रचलित ख़बरें

‘मेरी बहू क्रिकेटर इरफान पठान के साथ चालू है’ – चचेरी बहन के साथ नाजायज संबंध पर बुजुर्ग दंपत्ति का Video वायरल

बुजुर्ग ने पूर्व क्रिकेटर पर आरोप लगाते हुए कहा, “इरफान पठान बड़े अधिकारियों से दबाव डलवाता है। हम सुसाइड करना चाहते हैं।”

बंगाल में हिंसा के जिम्मेदारों पर कंगना रनौत ने माँगा एक्शन तो ट्विटर ने अकाउंट किया सस्पेंड

“मैं गलत थी, वह रावण नहीं है... वह तो खून की प्यासी राक्षसी ताड़का है। जिन लोगों ने उसके लिए वोट किया खून से उनके हाथ भी सने हैं।”

नेशनल जूनियर चैंपियन रहे पहलवान की हत्या, ओलंपियन सुशील कुमार को तलाश रही दिल्ली पुलिस

आरोप है कि सुशील कुमार के साथ 5 गाड़ियों में सवार होकर लारेंस बिश्नोई व काला जठेड़ी गिरोह के दर्जन भर से अधिक बदमाश स्टेडियम पहुँचे थे।

बेशुमार दौलत, रहस्यमयी सेक्सुअल लाइफ, तानाशाही और हिंसा: मार्क्स और उसके चेलों के स्थापित किए आदर्श

कार्ल मार्क्स ने अपनी नौकरानी को कभी एक फूटी कौड़ी भी नहीं दी। उससे हुए बेटे को भी नकार दिया। चेले कास्त्रो और माओ इसी राह पर चले।

पेड़ से लटके मिले BJP के गायब कार्यकर्ता, एक के घर बमबारी: ममता ने 29 IPS बदले, बंगाल हिंसा पर केंद्र को रिपोर्ट नहीं

ममता बनर्जी ने शपथ लेते ही 16 जिलों के SP को इधर-उधर किया है। अधिकतर ऐसे हैं, जिन पर चुनाव आयोग ने भरोसा नहीं जताया था।

21 साल की कॉलेज स्टूडेंट का रेप-मर्डर: बंगाल में राजनीतिक हिंसा के बीच मेदिनीपुर में महिला समेत 3 गिरफ्तार

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के बाद हो रही हिंसा के बीच पश्चिम मेदिनीपुर जिले से बलात्कार और हत्या की एक घटना सामने आई है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,365FansLike
89,680FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe