Saturday, October 1, 2022
Homeराजनीतिरजनी ने डाला वोट, चुनाव आयोग ने माँगी रिपोर्ट

रजनी ने डाला वोट, चुनाव आयोग ने माँगी रिपोर्ट

अभिनेता शिवकार्तिकेयन और श्रीकांत के ख़िलाफ़ शिक़ायतें मिली हैं जिन्होंने गुरुवार को मतदान किया था, जबकि उनका नाम मतदाता सूची में नहीं था।

गुरुवार को लोकसभा चुनाव के लिए मतदान के दौरान, तमिल सुपरस्टार रजनीकांत की बाईं की जगह दाईं उँगली पर स्याही लगाने की भूल के लिए चुनाव अधिकारी को क़ानूनी कार्रवाई का सामना करना पड़ सकता है। मामला स्टेला मैरिस कॉलेज के मतदान केंद्र का है, जहाँ यह ग़लती हुई।

दरअसल, वोट देने के दौरान, अधिकारी को अभिनेता रजनीकांत की बाईं उँगली पर स्याही लगानी थी, लेकिन ग़लती से उनकी दाईं उँगली पर लगा दी। मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) सत्यव्रत साहू ने कहा, “नियम के अनुसार, यदि बाईं उँगली में कोई दिक्कत हो, तो बाएँ हाथ की ही दूसरी उँगलियों पर स्याही लगाई जा सकती है।”

ख़बर के अनुसार, साहू ने यह बताने से इनकार कर दिया कि यह किससे हुई थी। इस मामले पर CEO ने जिला निर्वाचन अधिकारी से रिपोर्ट माँगी है।

रजनीकांत ने कई बार वोट देने के अपने अधिकार के बारे में बोला है और साथ ही राजनीति में आने के अपने फैसले की भी वो घोषणा कर चुके हैं। फ़िलहाल इन संकेतों से अब तक कुछ स्पष्ट नहीं हो सका है।

ऐसा पहली बार नहीं हुआ कि अभिनेता रजनीकांत का नाम किसी विवाद से जुड़ा हो। 2016 के विधानसभा चुनाव के दौरान, वीडियो में उन्हें किसी विशेष पार्टी के उम्मीदवार के लिए समर्थन करते दिखाया गया था।

अभिनेता शिवकार्तिकेयन और श्रीकांत के ख़िलाफ़ शिक़ायतें मिली हैं जिन्होंने गुरुवार को मतदान तो किया था, लेकिन उनका नाम मतदाता सूची में नहीं था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दुर्गा पूजा कार्यक्रम में गरबा करता दिखा मुनव्वर फारूकी, सेल्फी लेने के लिए होड़: वीडियो आया सामने, लोगों ने पूछा – हिन्दू धर्म का...

कॉमेडी के नाम पर हिन्दू देवी-देवताओं को गाली देकर शो करने वाला मुनव्वर फारुकी गरबा के कार्यक्रम में देखा गया, जिसके बाद लोग आक्रोशित हैं।

धर्म ही नहीं जमीन भी गँवा रहे हिंदू: कब्जे की भूमि पर चर्च-कब्रिस्तान से लेकर मिशनरी स्कूल तक, पहाड़ों का भी हो रहा धर्मांतरण

जमीनी स्थिति भयावह है। सरकारी से लेकर जनजातीय समाज की जमीनों पर ईसाई मिशनरियों का कब्जा है। अदालती आदेशों के बाद भी जमीन खाली नहीं हो रहे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
225,570FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe