Sunday, June 16, 2024
Homeराजनीतिजिस दिन चाँद के दक्षिणी ध्रुव पर उतरा 'चंद्रयान 3', वो अब कहलाएगा 'राष्ट्रीय...

जिस दिन चाँद के दक्षिणी ध्रुव पर उतरा ‘चंद्रयान 3’, वो अब कहलाएगा ‘राष्ट्रीय अंतरिक्ष दिवस’: मोदी सरकार का ऐलान

ये दिन भारत के अंतरिक्ष मिशनों में तरक्की, नई पीढ़ी की STEM (विज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग और गणित) को पढ़ने की कोशिशों में रूचि बढ़ाने के साथ ही अंतरिक्ष सेक्टर के प्रोत्साहन के लिए मील का पत्थर साबित होगा।

पूरी दुनिया में अंतरिक्ष के क्षेत्र में भारत का डंका बजा देने वाले चंद्रयान-3 मिशन की कामयाबी पर हर साल 23 अगस्त को राष्ट्रीय अंतरिक्ष दिवस मनाया जाएगा। इस मिशन से भारत ने चाँद के दक्षिणी ध्रुव में पहुँचने वाले दुनिया का पहला देश बनने की ऐतिहासिक उपलब्धि हासिल की थी।

केंद्र की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार ने अब इस उपलब्धि को राष्ट्रीय अंतरिक्ष दिवस (National Space Day) मनाने का आधिकारिक ऐलान किया है। भारत सरकार के अंतरिक्ष विभाग ने इसे लेकर शनिवार (14 अक्टूबर, 2023) को नोटिफिकेशन जारी किया है।

इसमें लिखा है कि चंद्रयान-3 मिशन के साथ 23 अगस्त को विक्रम लैंडर की चंद्रमा की सतह पर सॉफ्ट लैंडिग और प्रज्ञान रोवर को चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर कामयाबी के साथ तैनात करने की कामयाबी के साथ भारत दुनिया में अंतरिक्ष में क्षेत्र में अग्रणी देशों में चौथा देश बनने के साथ ही चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर लैंड करने वाला पहला देश बन गया है।

ये दिन भारत के अंतरिक्ष मिशनों में तरक्की, नई पीढ़ी की STEM (विज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग और गणित) को पढ़ने की कोशिशों में रूचि बढ़ाने के साथ ही अंतरिक्ष सेक्टर के प्रोत्साहन के लिए मील का पत्थर साबित होगा।

अब, इसलिए भारत सरकार हर साल 23 अगस्त को इस ऐतिहासिक पल की कामयाबी को ‘राष्ट्रीय अंतरिक्ष दिवस’ के तौर पर मनाने का ऐलान करती है। इसमें अंतरिक्ष विभाग की अतिरिक्त सचिव संध्या वेणुगोपाल शर्मा के हवाले से ये ऐलान किया गया है।

गौरतलब है कि पीएम मोदी चंद्रयान मिशन-3 की कामयाबी से खासे प्रभावित और उत्साहित रहे हैं। यही वजह है कि उन्होंने 26 सितंबर 2023 नई दिल्ली में भारत मंडपम में जी20 यूनिवर्सिटी कनेक्ट फिनाले कार्यक्रम के दौरान भी राष्ट्रीय अंतरिक्ष दिवस के बारे में बात की थी।

इस दौरान पीएम ने बीते 30 दिनों का सार बताते हुए उन्होंने अपने संबोधन की शुरुआत उस सफल चंद्रयान मिशन-3 को याद कर की थी, जब पूरी दुनिया ‘भारत चंद्रमा पर है’ के उद्घोष से गूँज उठी थी।

पीएम ने कहा था, “23 अगस्त हमारे देश में राष्ट्रीय अंतरिक्ष दिवस के रूप में अमर हो गया है। इस सफलता को जारी रखते हुए, भारत ने अपना सौर मिशन सफलतापूर्वक लॉन्च कर दिया है। चंद्रयान ने 3 लाख किलोमीटर की दूरी तय की और सौर परियोजना 15 लाख किलोमीटर की दूरी तय करेगी।”

इससे पहले पीएम मोदी ने 26 अगस्त 2023 ग्रीस से आने के बाद बेंगलुरु में इसरो टेलीमेट्री ट्रैकिंग एंड कमांड नेटवर्क (आईएसटीआरएसी) का दौरा किया और चंद्रयान-3 की सफलता पर टीम इसरो के वैज्ञानिकों से मुलाकात कर उन्हें बधाई दी थी।

तब ही उन्होंने ऐलान कर दिया था कि की 23 अगस्त, चंद्रमा पर चंद्रयान-3 की सॉफ्ट लैंडिंग के दिन को ‘राष्ट्रीय अंतरिक्ष दिवस’ के रूप में मनाया जाएगा। उन्होंने ये भी कहा था कि राष्ट्रीय अंतरिक्ष दिवस विज्ञान, तकनीक और नवाचार के हौसले का उत्सव मनाएगा और हमें हमेशा प्रेरित करता रहेगा।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ऋषिकेश AIIMS में भर्ती अपनी माँ से मिलने पहुँचे CM योगी आदित्यनाथ, रुद्रप्रयाग हादसे के पीड़ितों को भी नहीं भूले

उत्तराखंड के ऋषिकेश से करीब 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यमकेश्वर प्रखंड का पंचूर गाँव में ही योगी आदित्यनाथ का जन्म हुआ था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -