Monday, June 24, 2024
HomeराजनीतिRJD के साथ आओ, ₹10 करोड़ और मंत्री पद पाओ: जेडीयू MLA को अपनी...

RJD के साथ आओ, ₹10 करोड़ और मंत्री पद पाओ: जेडीयू MLA को अपनी ही पार्टी के विधायक ने दिया था ऑफर, FIR दर्ज

बिहार में नीतीश कुमार की सरकार बहुमत साबित न कर सके, इसके लिए जेडीयू के विधायकों को खरीदने की कोशिश की गई। इस मामले में जेडीयू विधायक सुधांशु शेखर ने अपनी ही पार्टी के विधायक संजीव कुमार पर गंभीर आरोप लगाए और एफआईआर दर्ज कराई है।

बिहार में नीतीश कुमार की सरकार बहुमत साबित न कर सके, इसके लिए जेडीयू के विधायकों को खरीदने की कोशिश की गई। इस मामले में जेडीयू विधायक सुधांशु शेखर ने अपनी ही पार्टी के विधायक संजीव कुमार पर गंभीर आरोप लगाए और एफआईआर दर्ज कराई है। उन्होंने एफआईआर में पूर्व विधायक इंजीनियर सुनील का भी नाम शामिल कराया है। सुधांशु शेखर ने कहा कि उन्हें नीतीश कुमार की सरकार गिराने और आरजेडी के खेमे में आने के लिए 10 करोड़ का ऑफर दिया गया, साथ ही मंत्री पद का भी।

सुधांशु शेखर ने आरोप लगाए कि उनके साथ ही कई अन्य विधायकों को भी इसी तरह से ऑफर दिए गए। मुझे 5 करोड़ पहले और 5 करोड़ काम होने के बाद दिए जाने की बात कही गई। सुधांशु शेखर ने पटना कोतवाली में एफआईआर दर्ज कराई है। उनके द्वारा दी गई एफआईआर की कॉपी ऑपइंडिया के पास मौजूद है, जिसमें हर बात का विस्तार से जिक्र है।

एफआईआर के मुताबिक, जेडीयू विधायक सुधांशु शेखर ने कहा कि इंजीनियर सुनील ने मेरे रिश्तेदार के माध्यम से फोन पर महागठबंधन के साथ आने के लिए कहा। उन्होंने पाँच करोड़ कैश तुरंत और पाँच करोड़ काम पूरा (नीतीश सरकार गिर जाने) होने के बाद देने के लिए कहा। साथ ही ये भी कहा कि आप मंत्री पद ले लीजिए। पहला वॉट्सऐप कॉल 9 परवरी की रात 8.32 बजे आया था। दूसरी वॉट्सऐप कॉल 10 फरवरी को सुबह 10.11 बजे पूर्व मंत्री नागमणि कुशवाहा के नंबर से आई।

एक घंटे बाद ही इंटरनेशनल नंबर से इंटरनेट कॉल आया। सामने वाले ने अपना नाम अखिलेश बताया और खुद को राहुल गाँधी का करीबी बताया। उसने सारी डिमांड पूरी करने की बात कही, बदले में विश्वासमत के दौरान गठबंधन का समर्थन करने को कहा।

इसी तरह से साथी विधायक कृष्ण मुरारी शरण को आरजेडी प्रवक्ता शक्ति यादव का फोन पहले ही आया था। उन्हें आरजेडी के पक्ष में वोट करने के बदले मंत्री पद और मनचाहा पैसा देने की बात कही। एफआईआर में निरंजन कुमार मेहता को भी आरजेडी के पक्ष में वोट करने के लिए लालच और धमकी देने की बात कही गई।

सुधांशु शेखर ने इन कामों में परबत्ता विधानसभा से जेडीयू विधायक संजीव कुमार की भूमिका को संदिग्ध बताया। शिकायत के मुताबिक, संजीव के साथ ही पूर्व विधायक इंजीनियर सुनील को भी आरोपित बनाया गया है। उन्होंने शिकायत में विधायकों के अपहरण का भी आरोप लगाया।

इस मामले में जेडीयू विधायक संजीव कुमार का भी बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि पार्टी के कुछ विधायकों उनके खिलाफ साजिश करके ऐसी एफआईआर दर्ज कराई है। उन्होंने कहा कि मुझे पूरा विश्वास है कि इस पूरे मामले के बारे में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को कुछ नहीं पता है।

गौरतलब है कि नीतीश कुमार के नेतृत्व वाली नई एनडीए सरकार ने सोमवार (12 फरवरी 2024) को विधानसभा में विश्वास मत जीत लिया था। इस दौरान जेडीयू के कई विधायकों के बागी होने का अंदेशा भी जताया जा रहा था। विपक्षी दल के नेता ‘खेला’ होने का दावा कर रहे थे। हालाँकि फ्लोर टेस्ट के दौरान आरजेडी के ही तीन विधायक सत्ता पक्ष की तरफ आ गए।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

चोर औरंगजेब की पिटाई पर चीत्कार, दलित नकुल को चाकू घोंपने की चर्चा तक नहीं: अलीगढ़ में एक ही दिन हुई दोनों घटना, पर...

जिस अलीगढ़ में चोर औरंगज़ेब के लिए नौकरी व मुआवजे की माँग हो रही है। वहीं शहज़ाद की चाकूबाजी में घायल दलित नकुल का परिवार कर्ज लेकर अपना इलाज करवा रहा है।

‘काश निर्भया की जगह तुम होती, एहसान मानो अभी तक जिंदा हो…’: स्वर्ण मंदिर में योग करने वाली लड़की को मिल रही रेप-हत्या की...

स्वर्ण मंदिर के सामने शीर्षासन करने वाली इन्फ्लुएंसर को सोशल मीडिया पर धमकियाँ मिल रही थीं। अब वडोदरा पुलिस ने उन्हें सुरक्षा मुहैया कराई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -