Wednesday, July 24, 2024
Homeराजनीतिझारखंडः हेमंत सरकार ने रामनवमी जुलूस पर लगाई रोक, BJP सांसद ने कहा- सुप्रीम...

झारखंडः हेमंत सरकार ने रामनवमी जुलूस पर लगाई रोक, BJP सांसद ने कहा- सुप्रीम कोर्ट में जाएगा मामला

निशिकांत दूबे ने आगे सवालिया लहजे में कहा कि यदि मधुपुर विधानसभा उपचुनाव 2021 में चुनावी रैली हो सकती है, तो रामनवमी का जुलूस क्यों नहीं निकल सकता है। पूजा समिति यदि रामनवमी का जुलूस निकालने के लिए इच्छुक होगी तो हम लोग इसका तन-मन-धन से समर्थन करेंगे।

कोरोना महामारी को नियंत्रण में करने के लिए झारखंड की हेमंत सरकार ने रामनवमी जुलूस को लेकर बड़ा फैसला किया है। हेमंत सरकार ने रामनवमी के मौके पर जुलूस निकालने पर रोक लगा दिया है, जिसको लेकर भाजपा विरोध कर रही है। झारखंड से भाजपा सांसद निशिकांत दुबे ने इस मामले को सुप्रीम कोर्ट में ले जाने को कहा है। हेमंत सरकार ने प्रदेश में तेजी से बढ़ रहे कोरोना के मामले को काबू में करने के लिए गाइडलाइन जारी की है।

गाइडलाइंस के मुताबिक झारखंड में रामनवमी जुलूस पर रोक लगाई गई है। गोड्डा के सांसद निशिकांत दुबे ने झारखंड सरकार के इस फैसले से असहमति जताते हुए मामले को सुप्रीम कोर्ट में ले जाने की बात कही है।

उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा, “सारे विरोध के बावजूद जब बाबा का मंदिर मैंने सुप्रीम कोर्ट से आदेश लेकर खुलवा दिया, इसी बात पर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन जी से लड़ाई कर मैं और मेरा परिवार 22 केस लड़ रहा है और बाबा की कृपा से जीत हासिल भी कर रहा है तो रामनवमी का पूरे झारखंड में जुलूस के लिए भी मैं सुप्रीम कोर्ट तक जाऊँगा। हिम्मतें मरदा मददे ख़ुदा।”

निशिकांत दूबे ने आगे सवालिया लहजे में कहा कि यदि मधुपुर विधानसभा उपचुनाव 2021 में चुनावी रैली हो सकती है, तो रामनवमी का जुलूस क्यों नहीं निकल सकता है। पूजा समिति यदि रामनवमी का जुलूस निकालने के लिए इच्छुक होगी तो हम लोग इसका तन-मन-धन से समर्थन करेंगे।

इससे पहले 22 मार्च को, हजारीबाग के विधायक मनीष जायसवाल ने रामनवमी समारोहों पर प्रतिबंध लगाने के सरकार के फैसले पर आपत्ति जताई थी। जायसवाल ने विधानसभा में कहा था, “रामनवमी हजारीबाग में श्रद्धा का त्योहार है और जुलूस पर प्रतिबंध लगाने से लोगों की भावनाओं को चोट पहुँचेगी।” 

बता दें कि कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को लेकर राज्य सरकार ने कई दिशा-निर्देश जारी किए। इसके तहत सार्वजनिक स्थानों पर होली नहीं खेलने के निर्देश भी दिए गए। इसके अलावा सरहुल, शब-ए-बरात, नवरात्र, रामनवमी व ईस्टर सहित सभी त्योहारों के सार्वजनिक आयोजनों और जुलूस पर भी रोक लगा दी गई है। जिसके बाद रामनवमी व जुलूस पर रोक के विरोध में सियासत काफी तेज हो गई है। बीजेपी नेता का कहना है कि सरकार रामनवमी के जुलूस को अनुमति दे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

पत्रकार प्रदीप भंडारी बने BJP के राष्ट्रीय प्रवक्ता: ‘जन की बात’ के जरिए दिखा चुके हैं राजनीतिक समझ, रिपोर्टिंग से हिला दी थी उद्धव...

उन्होंने कर्नाटक स्थित 'मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी' (MIT) से इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्युनिकेशंस में इंजीनियरिंग कर रखा है। स्कूल में पढ़ाया भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -