Saturday, July 31, 2021
Homeराजनीतिकोरोना संकट के बीच ₹1610 करोड़ का राहत पैकेज: कर्नाटक में 10 लाख से...

कोरोना संकट के बीच ₹1610 करोड़ का राहत पैकेज: कर्नाटक में 10 लाख से अधिक ड्राइवर-नाई को मिलेंगे ₹5 हजार

राज्य सरकार ने किसानों, लघु, कुटीर एवं मध्यम उपक्रमों (MSME), हथकरघा बुनकरों, फूलों की खेती करने वालों, नाइयों, ऑटो और टैक्सी चालकों समेत अन्य को ध्यान में रखते हुए इस राहत पैकेज का ऐलान किया है।

कोरोना महामारी के बीच कर्नाटक की येदियुरप्पा सरकार ने वित्तीय पैकेज जारी करते हुए बुधवार को बड़ा ऐलान किया। मुख्यमंत्री येदियुरप्पा ने राज्य के ड्राइवरों और नाइयों को 5-5 हजार रुपए की राशि देने की घोषणा की है। राज्य सरकार के इस फैसले से लगभग 7,75,000 ड्राइवरों और 2,30,000 नाइयों को लाभ मिलेगा।

मुख्यमंत्री येदियुरप्पा ने बताया कि कोरोना के चलते राज्य सरकार ₹1610 करोड़ का वित्तीय पैकेज जारी कर रही है। इस राहत पैकेज के तहत फूल की खेती करने वालों को प्रति हेक्टेयर 25,000 रुपए की राहत मिलेगी। धोबी और नाइयों को एक साथ 5,000 रुपए मुआवजा दिया जाएगा। ऑटो और टैक्सी चालकों को भी एकसाथ 5,000 रुपए की राशि दी जाएगी। निर्माण श्रमिकों को 3,000 रुपए मिलेंगे। उन्हें पहले ही 2 हजार रुपए का भुगतान किया जा चुका है।

कर्नाटक के मुख्यमंत्री ने बताया कि हमारी सरकार ने लगभग 1 लाख लोगों को 3500 बसों और ट्रेनों से उनके घर वापस भेजा है। इसके अलावा प्रवासी श्रमिकों से आगे प्रदेश में रहने की अपील की है, क्योंकि निर्माण कार्य अब फिर से शुरू हो गया है।

बता दें, राज्य सरकार ने किसानों, लघु, कुटीर एवं मध्यम उपक्रमों (MSME), हथकरघा बुनकरों, फूलों की खेती करने वालों, धोबियों, नाइयों, ऑटो और टैक्सी चालकों समेत अन्य को ध्यान में रखते हुए इस राहत पैकेज का ऐलान किया है। 

गौरतलब है कि कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। सरकार ने इसकी रोकथाम के लिए मार्च के आखिरी से लॉकडाउन लागू कर रखा है। हालाँकि, 4 मई से तीसरे चरण में कई तरह की रियायतें दी गई हैं। कर्नाटक में अभी तक कोरोना के 671 पॉजिटिव मामले सामने आ चुके हैं। इसमें से 331 लोग ठीक हुए हैं, जबकि 29 लोगों की मौत हुई है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पेगासस: ‘खोजी’ पत्रकारिता का भ्रमजाल, जबरन बयानबाजी और ‘टाइमिंग’- देश के खिलाफ हर मसाले का प्रयोग

दुनिया भर में कुल जमा 23 स्मार्टफोन में 'संभावित निगरानी' को लेकर ऐसा बड़ा हल्ला मचा दिया गया है, मानो 50 देशों की सरकारें पेगासस के ज़रिए बड़े पैमाने पर अपने नागरिकों की साइबर जासूसी में लगी हों।

पिता ने उधार लेकर करवाई हॉकी की ट्रेनिंग, निधन के बाद अंतिम दर्शन भी छोड़ा: अब ओलंपिक में इतिहास रच दी श्रद्धांजलि

वंदना कटारिया के पिता का सपना था कि भारतीय महिला हॉकी टीम ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीते। बचपन में पिता ने उधार लेकर उन्हें हॉकी की ट्रेनिंग दिलवाई थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,211FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe