Wednesday, December 1, 2021
Homeराजनीतिखाली कुर्सियाँ देख कर सभा में नहीं आए केजरीवाल, फूट-फूट कर रोया कर्ज़ में...

खाली कुर्सियाँ देख कर सभा में नहीं आए केजरीवाल, फूट-फूट कर रोया कर्ज़ में डूबा आयोजक

उन्होंने दिल्ली सीएम को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि केजरीवाल ने उन्हें कहीं मुँह दिखाने लायक नहीं छोड़ा। उन्होंने कहा कि इस सम्मलेन के लिए उन्होंने अपने परिवार तक को समय नहीं दिया।

हरियाणा के भिवानी में एक सभा आयोजित की गई थी, जिसके मुख्य अतिथि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल थे। इसे लेकर पोस्टर भी छपवा दिया गया था और इलाक़े में जोर-शोर से प्रचार-प्रसार भी किया गया था। लेकिन अफ़सोस, केजरीवाल के आने की ख़बर सुन कर भी सभा में लोग नहीं पहुँचे। भिवानी की नई अनाज मंडी में दयानन्द गर्ग नामक व्यक्ति ने अभिभावक सम्मलेन आयोजित किया था। सभा में केजरीवाल के न पहुँचने के निर्णय की ख़बर सुनते ही गर्ग फुट-फूट कर रो पड़े।

गर्ग ने रोते-रोते मीडिया को अपनी दुःख भरी दास्तान सुनाते हुए कहा कि उनके पास पैसे नहीं थे, लेकिन उन्होंने ब्याज पर पैसे उधार लेकर इस सभा का आयोजन किया था। उन्होंने कहा कि अरविन्द केजरीवाल के न आने से उनका पैसा तो डूबा ही है, साथ ही उनके सम्मान को भी ठेस पहुँची है। इतना ही नहीं, रोते हुए गर्ग इसके बाद सभास्थल पर ही धरने पर बैठ गए।

केजरीवाल की सभा में खाली कुर्सियाँ।

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार इस आयोजन की तैयारियाँ पिछले 15 दिनों से पूरे जोर-शोर से चल रही थी। आयोजक दयानन्द गर्ग ने, इस आयोजन को सफल बनाने के लिए दिन-रात एक कर दिया था और अपने पूरे पैसे झोंक दिए थे। उन्होंने जी-तोड़ मेहनत कर सभा के आयोजन की तैयारियाँ पूरी की थी। उन्होंने दिल्ली सीएम को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि केजरीवाल ने उन्हें कहीं मुँह दिखाने लायक नहीं छोड़ा। उन्होंने यहाँ तक कहा कि इस सम्मलेन के लिए उन्होंने अपने परिवार तक को समय नहीं दिया। उनकी बेटी 10 दिनों से एक पेंसिल की माँग कर रही थी लेकिन सभा की तैयारियों में व्यस्त होने के कारण उन्होंने वो भी नहीं ख़रीद सके।

आम आदमी पार्टी के हरियाणा दफ़्तर ने ऑपइंडिया को बताया कि उन्हें सभा में केजरीवाल के न पहुँचने के निर्णय के पीछे का कारण पता नहीं है। AAP के प्रवक्ता जतिन राजा ने बताया कि यह पार्टी का कार्यक्रम नहीं था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,729FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe