Monday, August 15, 2022
Homeराजनीति'अग्निपथ के लिए आवेदन किया तो सामाजिक बहिष्कार': खाप पंचायतों ने समर्थक कार्पोरेट घरानों...

‘अग्निपथ के लिए आवेदन किया तो सामाजिक बहिष्कार’: खाप पंचायतों ने समर्थक कार्पोरेट घरानों के भी बॉयकॉट का किया ऐलान, योजना वापस लेने की माँग

धनखड़ ने कहा, "हम इस योजना का बहिष्कार कर रहे हैं, जो चाहती है कि अग्निवीर होने के नाम पर युवाओं को मजदूरों के रूप में काम पर रखा जाए।"

केंद्र सरकार द्वारा सेना में भर्ती के लिए लाई गई अग्निवीर योजना को सेना भी सही बता चुकी है। बावजूद इसके कुछ लोग इसका विरोध कर रहे हैं। इसी क्रम में हरियाणा की कुछ खाप पंचायतों ने अग्निपथ के लिए अप्लाई करने वाले लोगों के सामाजिक बहिष्कार की चेतावनी दी है। इतना ही नहीं खाप पंचायत के नेताओं ने राज्य की सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी-जननायक जनता पार्टी गठबंधन और इस योजना का समर्थन करने वाले कारोबारी घरानों के भी बहिष्कार का ऐलान किया है।

रिपोर्ट के मुताबिक, इसको लेकर राज्य के रोहतक में खाप पंचायतों की बैठक हुई थी। बैठक में खाप नेताओं के साथ ही हरियाणा, पंजाब, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान और कुछ छात्र संगठनों के नेता भी शामिल रहे। खाप पंचायतों की तरफ से बैठक की अध्यक्षता ओम प्रकाश धनखड़ ने की। उन्होंने धमकी दी कि अग्निपथ के लिए आवेदन करने वालों को सामाजिक रूप से अलग-थलग कर उनका बहिष्कार किया जाएगा। धनखड़ ने कहा, “हम इस योजना का बहिष्कार कर रहे हैं, जो चाहती है कि अग्निवीर होने के नाम पर युवाओं को मजदूरों के रूप में काम पर रखा जाए।”

इतना ही नहीं खाप नेताओं ने बीजेपी-जेजपी और उनका समर्थन करने वाले कार्पोरेट घरानों का विरोध करने की भी अपील की। उल्लेखनीय है कि वेदांता के अनिल अग्रवाल, आनंद महिंद्रा, हर्ष गोयनका, डॉ संगीता रेड्डी, किरण मजूमदार-शॉ और संजीव बिखचंदानी समेत कई कार्पोरेट घरानों ने अग्निपथ का समर्थन किया था। इसके एक दिन बाद खाप पंचायतों ने ये कदम उठाया। गौरतलब है कि देश के बिजनेसमैनों ने ऐलान किया था कि सेना में चार साल के बाद रिटायर होने वालो अग्निवीरों को नौकरी देंगे।

अग्निपथ वाले युवाओं से दूरी बनाए रखने की बात करते हुए धनखड़ ने केंद्र सरकार से इस योजना को वापस लेने की माँग की। नूपुर शर्मा के कथित विवाद के बाद खाड़ी देशों द्वारा भारतीय उत्पादों के बहिष्कार की कथित रिपोर्टों का हवाला देते हुए लोगों से अपील की कि वो अग्निपथ के विरोध में योजना का समर्थन करने वाली कॉर्पोरेट कंपनियों से 10,000 रुपए से अधिक का सामान नहीं खरीदें।

खास बात ये है कि खाप पंचायतों का ये रुख अब तो मुस्लिम समुदायों के उल्टा है। क्योंकि कई मुस्लिम संगठनों ने इस योजना का प्रचार करने का फैसला किया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, कानपुर में एसोसिएशन ऑफ मुस्लिम प्रोफेशनल्स (AMP) ने मुस्लिम युवाओं से अग्निपथ के तहत सेना में भर्ती होने की अपील की है। संगठन ने शहर की मस्जिदों के इमामों से शुक्रवार के खुतबा (उपदेश) के दौरान केंद्रीय योजना को लोकप्रिय बनाने का भी आग्रह किया।

इस योजना को इसी महीने की 14 जून को केंद्र सरकार ने लॉन्च किया था। इसके जरिए थल सेना, नौसेना और वायु सेना में भर्ती की जाएगी। इसमें सेलेक्ट होने वाले युवाओं को चार साल के लिए सेना में काम करने का मौका मिलेगा। इसमें पहले वर्ष में एक अग्निवीर को 30,000 प्रति महीने की सैलरी मिलेगी, जिसमें से 21,000 रुपए हाथ में होंगे और 9,000 रुपए सरकार पीएफ की तरह ही एक कोष में जमा होंगे। दूसरे, तीसरे और चौथे वर्ष में मासिक वेतन क्रमश: 33,000, 36,500 और 40,000 रुपए हो जाएगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

₹180 करोड़ की फिल्म, 4 दिन में बस ₹38 करोड़: लाल सिंह चड्ढा के फ्लॉप होते ही सदमें में आमिर खान, डिस्ट्रीब्यूटर्स ने माँगा...

लाल सिंह चड्ढा की बॉक्स ऑफिस पर भद्द पिटने के बाद आमिर खान सदमे में चले गए हैं। वहीं डिस्ट्रीब्यूटर्स ने भी मेकर्स से मुआवजे की माँग शुरू कर दी है।

वो हिंदुस्तानी जो अभी भी नहीं हैं आजाद: PoJK के लोग देख रहे आशाभरी नजरों से भारत की ओर, हिंदू-सिखों का यहाँ हुआ था...

विभाजन की विभीषिका को भी भुलाया नहीं जा सकता। स्वतंत्रता-प्राप्ति का मूल्य समझकर और स्वतन्त्रता का मूल्य चुकाकर ही हम अपनी स्वतंत्रता को सुरक्षित और संरक्षित कर सकते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
213,977FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe