Sunday, October 17, 2021
Homeराजनीतिजय श्री राम के उद्घोष से भड़कीं ममता बनर्जी, PM मोदी से कहा- बुलाकर...

जय श्री राम के उद्घोष से भड़कीं ममता बनर्जी, PM मोदी से कहा- बुलाकर बेइज्जती करना ठीक नहीं

"सरकार के कार्यक्रम की गरिमा होनी चाहिए। यह कोई राजनीतिक कार्यक्रम नहीं है। आपको किसी को आमंत्रित करने के बाद उसकी बेइज्‍जती करना शोभा नहीं देता है। विरोध के रूप में मैं कुछ भी नहीं बोलूँगी।"

ममता बनर्जी ने पराक्रम दिवस समारोह को संबोधित करने से इनकार कर दिया है। उन्होंने कहा कि किसी को बुलाकर उसका अपमान करना ठीक नहीं। दरअसल, जैसे ही ममता बनर्जी मंच पर भाषण देने पहुँचीं बीजेपी कार्यकर्ता तुरंत जय श्री राम और भारत माता की जय के नारे लगाने लगे, जिससे वो खफा हो गईं।

बता दें, पश्चिम बंगाल में नेताजी की 125वीं जयंती पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उपस्थिति में विक्टोरिया मेमोरियल में पराक्रम दिवस का समारोह चल रहा था। इस मौके पर राज्य की सीएम ममता बनर्जी भी पहुँची थी। वहीं जब ममता बनर्जी मंच पर लोगों को संबोधित करने पहुँची, वैसे ही पूरा कार्यक्रम स्थल जय श्री राम और भारत माता की जय के नारों से गूँजने लगा।

गौरतलब है इस दौरान मंच पर पीएम मोदी भी उपस्थित थे, जब बीजेपी कार्यकर्ता एक तरफ जय श्री राम तो दूसरी तरफ भारत माता की जय के नारे लगा रहे थे। जिसको सुनते ही टीएमसी पार्टी की सुप्रीमो बौखला गई और भाषण देने से मना कर दिया। यहीं नहीं उन्होंने तो इस कार्यक्रम को राजनीतिक कार्यक्रम तक करार दे दिया।

अपनी बौखलाहट भाजपा पर निकालते हुए ममता बनर्जी ने कहा, “सरकार के कार्यक्रम की गरिमा होनी चाहिए। यह कोई राजनीतिक कार्यक्रम नहीं है। आपको किसी को आमंत्रित करने के बाद उसकी बेइज्‍जती करना शोभा नहीं देता है। विरोध के रूप में मैं कुछ भी नहीं बोलूँगी।” इसके बाद वह जय हिंद-जय बांग्‍ला बोलकर तुरंत मंच से नीचे उतर गईं।

उल्लेखनीय है कि इससे पहले भी एक बार पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी के काफिले के सामने ‘जय श्री राम’ का नारा लगाने की वजह से तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया था। दरअसल, ममता बनर्जी 4 मई, 2019 को पश्चिम बंगाल के चंद्रकोण की आरामबाग सीट पर चुनाव प्रचार के लिए एक रैली करने जा रही थीं। इस दौरान जब ममता बनर्जी का काफिला चंद्रकोण के करीब पहुँंचा तो कुछ लोग ‘जय श्री राम’ का नारा लगाने लगे थे। जिसे सुनकर ममता भड़क गई थी और काफिले को वहीं पर रुकवाकर गाड़ी से उतरी और उन लोगों पर बरस पड़ी थी।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,107FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe