Monday, August 2, 2021
Homeराजनीतिमायावती ने कॉन्ग्रेस पर साधा निशाना, MP की कमलनाथ सरकार से समर्थन वापस लेने...

मायावती ने कॉन्ग्रेस पर साधा निशाना, MP की कमलनाथ सरकार से समर्थन वापस लेने की दी धमकी

मध्य प्रदेश के गुना लोकसभा सीट पर बसपा उम्मीदवार को कॉन्ग्रेस ने डरा-धमकाकर जबर्दस्ती बैठा दिया है, लेकिन बसपा अपने चुनाव चिह्न पर ही लड़कर इसका जवाब देगी और अब कॉन्ग्रेस सरकार को समर्थन जारी रखने पर भी पुनर्विचार करेगी।

लोकसभा चुनाव 2019 के लिए कॉन्ग्रेस को यूपी के सपा, बसपा और रालोद के गठबंधन से बाहर कर बसपा सुप्रीमो मायावती पहले ही झटका दे चुकी हैं और अब मायावती एक बार फिर से कॉन्ग्रेस को मध्य प्रदेश में बड़ा झटका देने जा रही हैं। मायावती ने मंगलवार (अप्रैल 30, 2019) को ट्वीट कर कॉन्ग्रेस को सार्वजनिक तौर पर धमकी भी दे दी है। दरअसल, मध्यप्रदेश के गुना- शिवपुरी लोकसभा सीट से ज्योतिरादित्य सिंधिया के खिलाफ खड़े बसपा प्रत्याशी लोकेंद्र सिंह राजपूत कॉन्ग्रेस में शामिल हो गए हैं, जिसके बाद से बसपा सुप्रीमो मायावती कॉन्ग्रेस पर भड़की हुई हैं।

मायावती ने ट्वीट कर दोनों राजनीतिक पार्टियों भाजपा और कॉन्ग्रेस पर सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग करने का आरोप लगाया है। मायावती ने अपने ट्वीट में लिखा है कि सरकारी मशीनरी के दुरुपयोग के मामले में कॉन्ग्रेस भी बीजेपी से कम नहीं है। मध्य प्रदेश के गुना लोकसभा सीट पर बसपा उम्मीदवार को कॉन्ग्रेस ने डरा-धमकाकर जबर्दस्ती बैठा दिया है, लेकिन बसपा अपने चुनाव चिह्न पर ही लड़कर इसका जवाब देगी और अब कॉन्ग्रेस सरकार को समर्थन जारी रखने पर भी पुनर्विचार करेगी।

इसके साथ ही मायावती ने एक और ट्वीट करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में कॉन्ग्रेसी नेताओं द्वारा जो यह प्रचार किया जा रहा है कि भाजपा भले ही जीत जाए, लेकिन बसपा-सपा गठबंधन को नहीं जीतना चाहिए, यह कॉन्ग्रेस पार्टी के जातिवादी, संकीर्ण व दोगले चरित्र को दर्शाता है। इसलिए लोगों का यह मानना सही है कि बीजेपी को केवल हमारा गठबंधन ही हरा सकता है। लोग सावधान रहें।

बता दें कि लोकसभा चुनाव 2019 में भले ही कॉन्ग्रेस और बसपा के बीच गठबंधन नहीं हुआ है, लेकिन पिछले साल नवंबर में मध्य प्रदेश में हुए विधानसभा चुनाव के नतीजे के बाद जब कॉन्ग्रेस खुद के बल पर सरकार बनाने में कामयाब नहीं हुई, तो प्रदेश में कॉन्ग्रेस को समाजवादी पार्टी, बसपा और निर्दलीय विधायकों का समर्थन मिला और फिर कमलनाथ के नेतृत्व में कॉन्ग्रेस की सरकार बनी थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘किताब खरीद घोटाला, 1 दिन में 36 संदिग्ध नियुक्तियाँ’: MGCUB कुलपति की रेस में नया नाम, शिक्षा मंत्रालय तक पहुँची शिकायत

MGCUB कुलपति की रेस में शामिल प्रोफेसर शील सिंधु पांडे विक्रम विश्वविद्यालय में कुलपति थे। वहाँ पर वो किताब खरीद घोटाले के आरोपित रहे हैं।

‘दविंदर सिंह के विरुद्ध जाँच की जरूरत नहीं…मोदी सरकार क्या छिपा रही’: सोशल मीडिया में किए जा रहे दावों में कितनी सच्चाई

केंद्र सरकार के ख़िलाफ़ कई कॉन्ग्रेसियों, पत्रकारों, बुद्धिजीवियों ने सोशल मीडिया पर दावा किया। लेकिन इनमें से किसी ने एक बार भी नहीं सोचा कि अनुच्छेद 311 क्या है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,620FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe