Saturday, June 22, 2024
Homeराजनीतिदेवेंद्र फडणवीस छोड़ रहे CM का सरकारी आवास: कुछ कब्जा जमा लेते हैं... तो...

देवेंद्र फडणवीस छोड़ रहे CM का सरकारी आवास: कुछ कब्जा जमा लेते हैं… तो कुछ ले जाते हैं टोटियाँ

इससे पहले दोबारा बनी मोदी सरकार में भाजपा नेता अरूण जेटली ने कोई भी ज़िम्मेदारी लेने से जब इनकार कर दिया था, तो उन्होंने भी अपना सरकारी बंगला खाली कर दिया था और अपने प्राइवेट बंगले में शिफ्ट हो गए थे।

महाराष्ट्र में शिवसेना, एनसीपी और कॉन्ग्रेस गठबंधन की सरकार बन गई है। शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने राज्य के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण कर ली है। उद्धव ठाकरे के मुख्यमंत्री बनने से पहले ही पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने सरकारी आवास पर कब्जा जमाए बैठने के बजाय नए घर की तलाश शुरू कर दी। और शायद उन्हें नया आसरा मिल भी गया है।

फडणवीस ने दक्षिण मुंबई में स्थित सरकारी आवास खाली करना शुरू कर दिया है। मुख्यमंत्री आवास के पास तैनात एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि गुरुवार (नवंबर 28, 2019) को दोपहर में पैकर्स एंड मूवर्स कंपनी का एक वाहन मालाबार हिल इलाके में स्थित मुख्यमंत्री के सरकारी आवास ‘वर्षा’ पहुँचा। फडणवीस के सरकारी आवास को खाली करने के बाद इसे फिर से नए मुख्यमंत्री के लिए तैयार किया जाएगा और उद्धव ठाकरे मुख्यमंत्री के रूप में यहाँ रहेंगे।

बता दें कि भाजपा के देवेंद्र फडणवीस ने मंगलवार (नवंबर 26, 2019) को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था। जानकारी के मुताबिक अक्टूबर 2014 में फडणवीस के मुख्यमंत्री बनने के बाद उनका परिवार मुंबई आ गया था और अब वो लोग मुंबई में ही रहेंगे। नागपुर दक्षिण पश्चिम सीट से जीत कर आए फडणवीस भाजपा विधायक दल के नेता हैं, साथ ही बताया जा रहा है कि नई विधानसभा में वह नेता प्रतिपक्ष बन सकते हैं।

इससे पहले दोबारा बनी मोदी सरकार में भाजपा नेता अरूण जेटली ने कोई भी ज़िम्मेदारी लेने से जब इनकार कर दिया था, तो उन्होंने भी अपना सरकारी बंगला खाली कर दिया था और अपने प्राइवेट बंगले में शिफ्ट हो गए थे। इसके साथ ही उन्होंने अपने कर्मचारियों की संख्या में भी कटौती कर दी थी। उन्होंने अपनी सुरक्षा व्यवस्था कम कर दी थी और सरकारी गाड़ियाँ भी वापस कर दी थीं।

वहीं कुछ ऐसे भी पूर्व विधायक, पूर्व सांसद और पूर्व सरकारी अधिकारी भी हैं, जो अपनी सरकारी सेवा समाप्त होने के बाद भी सरकारी बंगलों पर कब्जा जमाए बैठे हैं। हालाँकि अब वो इसके हकदार नहीं हैं, लेकिन फिर भी बार-बार नोटिस दिए जाने के बाद भी वो बंगला खाली नहीं कर रहे हैं।

बिहार से आने वाले पूर्व सांसद पप्पू यादव जैसे कुछ ऐसे भी नेता हैं, जिन्हें सरकार ने बंगला खाली करने को कहा तो वे उसे ऐसे छोड़ कर गए हैं कि बिना भारी मरम्मत के किसी ‘माननीय’ के तो दूर की बात, किसी आम-से-आम आदमी के रहने लायक नहीं बचा है। उन्होंने आवास के कमरों से खिड़की-दरवाज़े के साथ ही दीवारों से टाइलें निकाल ली गईं थीं। इससे पहले ये हरकत उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने किया था। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव हारने के बाद पहले तो उन्होंने ये-वो बहाने कर के बंगला छोड़ा ही नहीं, और जब छोड़ा, तो उसकी टोंटियाँ तक साथ ले गए।

लौट के CM ठाकरे ‘हिंदुत्व’ को आए: गणपति बाप्पा की शरण में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री

80% ‘मराठी’ आरक्षण: ठाकरे सरकार CMP के रास्ते हिंदीभाषियों के पेट पर ऐसे मारेगी लात

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नालंदा विश्वविद्यालय को ब्राह्मणों ने ही जलाया था, 11वीं सदी का शिलालेख है साक्ष्य!!

नालंदा विश्वविद्यालय को ब्राह्मणों ने ही जलाया था, बख्तियार खिलजी ने नहीं। ब्राह्मण+बुर्के वाली के संभोग को खोद निकाला है इस इतिहासकार ने।

10 साल जेल, ₹1 करोड़ जुर्माना, संपत्ति भी जब्त… पेपर लीक के खिलाफ आ गया मोदी सरकार का सख्त कानून, NEET-NET परीक्षाओं में गड़बड़ी...

परीक्षा आयोजित करने में जो खर्च आता है, उसकी वसूली भी पेपर लीक गिरोह से ही की जाएगी। केंद्र सरकार किसी केंद्रीय जाँच एजेंसी को भी ऐसी स्थिति में जाँच सौंप सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -