Wednesday, September 22, 2021
Homeराजनीति'देश में डर का माहौल, खेला होबे की जरूरत': ममता से मिले जावेद अख्तर-शबाना...

‘देश में डर का माहौल, खेला होबे की जरूरत’: ममता से मिले जावेद अख्तर-शबाना आजमी, फिर दिखाई मोदी घृणा

अख्तर ने कहा, "देश में बदलाव होना चाहिए। अभी देश में बहुत तनाव है… ध्रुवीकरण है। कई लोग आक्रामक बयान देते हैं… हिंसक घटनाएँ हो रही हैं।"

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के दिल्ली दौरे के बीच गुरुवार (जुलाई 29, 2021) की शाम को गीतकार जावेद अख्तर व उनकी पत्नी अभिनेत्री शबाना आजमी ने उनसे मुलाकात की। बनर्जी से मुलाकात के बाद अख्तर ने कहा, “देश का मिजाज बदलाव का है…उनकी (ममता की) प्राथमिकता ये नहीं है कि वह नेतृत्व करें…उनका मानना है कि परिवर्तन होना चाहिए।” उन्होंने आगे कहा, “बंगाल मॉडल एक उदाहरण है…इसमें कोई शक नहीं कि देश में खेला होबे।”

गौर हो कि बंगाल चुनाव जीतने के बाद ममता बनर्जी पहली बार दिल्ली आई हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, मुलाकात के बाद अख्तर ने कहा कि दुर्भाग्य की बात है कि दिल्ली में दंगे हुए। उन्होंने कहा कि इस समय पूरे देश में डर का माहौल है और ये खत्म होना चाहिए। हालाँकि, वह इस सवाल को टाल गए कि मोर्चे का नेतृत्व कौन करेगा।

मुलाकात के बाद मीडियाकर्मियों को जानकारी देते हुए अख्तर ने कहा, “यह एक औपचारिक बैठक थी। बंगाल का इतिहास है कि इसने क्रांतिकारी आंदोलनों का नेतृत्व किया था। बंगाल के कलाकार और बुद्धिजीवी ममता जी का समर्थन करते हैं। हमने उनकी जीत पर बधाई दी।” उन्होंने आगे कहा, “हम रॉयल्टी बिल में संशोधन में उनके समर्थन के लिए ममता जी के आभारी हैं, जिससे संगीतकार, गीतकार, गीतकार रॉयल्टी से लाभान्वित हो सकेंगे।”

यह पूछे जाने पर कि ‘क्या ममता बनर्जी को आगे बढ़कर नेतृत्व करना चाहिए’, अख्तर ने कहा, “हमारी छोटी सी बातचीत में उन्होंने कभी नहीं कहा कि नेतृत्व उनकी प्राथमिकता है। वह एक परिवर्तन चाहती हैं। पहले वह बंगाल के लिए लड़ी थीं और अब वह भारत में बदलाव के लिए लड़ना चाहती हैं। देश का नेतृत्व कौन करेगा यह महत्वपूर्ण नहीं है, लेकिन हिंदुस्तान कैसा होगा यह सबसे महत्वपूर्ण है। लोकतंत्र गतिशील और निरंतर होना चाहिए है।”

‘खेला होबे’ नारे के बारे में पूछे जाने पर कि ‘क्या यह भारत में गूँजेगा’, अख्तर ने कहा, “इसे सबूत की जरूरत नहीं है। यह अब चर्चा से परे है।” जावेद स्पष्ट जवाब नहीं दे पा रहे थे तो ममता बनर्जी ने पीछे से ब्रीफ करते हुए कहा कि देश में परिवर्तन होना चाहिए और आप इस पर गाना लिखिए। अख्तर ने कहा, “मेरा मानना है कि बदलाव होना चाहिए। अभी देश में बहुत तनाव है… ध्रुवीकरण है। कई लोग आक्रामक बयान देते हैं… हिंसक घटनाएँ हो रही हैं।”

बनर्जी ने मीडियाकर्मियों के सामने गीतकार से कहा, “आपको खेला होबे पर एक गाना बनाना होगा।” 2024 के लोकसभा चुनावों का लक्ष्य रखते हुए बनर्जी ने बुधवार (जुलाई 28, 2021) को कहा था, “पूरे देश में खेला होगा। यह एक सतत प्रक्रिया है … जब आम चुनाव (2024) आएगा, तो यह होगा मोदी बनाम देश होगा।”

पश्चिम बंगाल की सीएम ने कहा कि बीजेपी को हराने के लिए सभी विपक्षी दलों को फिर से एकजुट होकर एक मजबूत ताकत के रूप में लड़ना होगा। उन्होंने कहा, “बीजेपी को हराने के लिए सभी का साथ आना जरूरी है… अकेला, मैं कुछ भी नहीं हूँ, सबको मिलकर काम करना होगा। मैं नेता नहीं हूँ, मैं एक कैडर हूँ। सोनिया गाँधी भी विपक्ष की एकता चाहती हैं। कॉन्ग्रेस को क्षेत्रीय दलों पर और क्षेत्रीय दलों को कॉन्ग्रेस पर भरोसा है।”

सोमवार (जुलाई 26, 2021) शाम दिल्ली पहुँची टीएमसी प्रमुख और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी अब तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कॉन्ग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गाँधी, कॉन्ग्रेस नेता राहुल गाँधी, कमलनाथ, आनंद शर्मा, अभिषेक मनु सिंघवी और राजद नेता लालू प्रसाद यादव से मुलाकात कर चुकी हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

गुजरात के दुष्प्रचार में तल्लीन कॉन्ग्रेस क्या केरल पर पूछती है कोई सवाल, क्यों अंग विशेष में छिपा कर आता है सोना?

मुंद्रा पोर्ट पर ड्रग्स की बरामदगी को लेकर कॉन्ग्रेस पार्टी ने जो दुष्प्रचार किया, वह लगभग ढाई दशक से गुजरात के विरुद्ध चल रहे दुष्प्रचार का सबसे नया संस्करण है।

‘मुंबई डायरीज 26/11’: Amazon Prime पर इस्लामिक आतंकवाद को क्लीन चिट देने, हिन्दुओं को बुरा दिखाने का एक और प्रयास

26/11 हमले को Amazon Prime की वेब सीरीज में मु​सलमानों का महिमामंडन किया गया है। इसमें बताया गया है कि इस्लाम बुरा नहीं है। यह शांति और सहिष्णुता का धर्म है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,782FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe