Thursday, June 20, 2024
Homeराजनीतिगहन शोध के बाद अखिलेश का ख़ुलासा: भाजपा चाहती है कि रिफाइंड तेल में...

गहन शोध के बाद अखिलेश का ख़ुलासा: भाजपा चाहती है कि रिफाइंड तेल में ही बनें पकौड़े

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि वे पकौड़ों के माध्यम से अपने कारोबारी मित्रों को फ़ायदा पहुँचाना चाहते हैं।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने पकौड़ों पर रिसर्च करने के बाद कुछ नए ख़ुलासे किए हैं। उन्होंने भाजपा सरकार पर कुछ नए आरोप लगाते हुए कहा कि प्रधानमंत्री जानबूझ कर पकौड़ों की बात कर रहे हैं ताकि सरसों तेल को बर्बाद किया जा सके। एक इंटरव्यू के दौरान अपने ‘पकौड़ा ज्ञान’ को जनता तक पहुँचाते हुए सपा अध्यक्ष ने कहा:

“मैने बहुत अध्ययन किया और उसके बाद पता लगा कि पकौड़ा क्यों कहा प्रधानमंत्री जी ने? भाजपा ने इसीलिए कहा कि पकौड़े तलो क्योंकि वो चाहते हैं कि रिफाइन ऑइल (Edible Oil) जो आजकल आया है, उसका कारोबार बढ़ जाए, पकौड़े उसी में अच्छे बनते हैं जब उन्हें रिफाइंड तेल (Palm Oil) में तला जाए। ये भाजपा के लोग नहीं चाहते हैं कि पकौड़े सरसो के तेल में बनें। ये चाहते हैं कि पकौड़े पाम ऑइल में बनें। अगर पाम ऑइल का प्रयोग बढ़ेगा, तो भाजपा के कारोबारी मित्रों का व्यापार बढ़ेगा।”

अखिलेश यादव का ‘पकौड़ा ज्ञान’

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि वे पकौड़ों के माध्यम से अपने कारोबारी मित्रों को फ़ायदा पहुँचाना चाहते हैं। बता दें कि कुछ महीनों पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विभिन्न प्रकार के छोटे-बड़े रोजगार के माध्यमों का उदाहरण देते हुए कहा था कि पकौड़े तलना भी एक व्यवसाय ही है, रोज़गार ही है। उनके इस बयान के बाद विपक्ष ने हंगामा बरपाते हुए पीएम पर बेरोज़गारों से पकौड़े तलवाने का आरोप लगाया था। विपक्ष का कहना था कि प्रधानमंत्री बेरोज़गारों को पकौड़े तलने की सलाह दे रहे हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बिहार का 65% आरक्षण खारिज लेकिन तमिलनाडु में 69% जारी: इस दक्षिणी राज्य में क्यों नहीं लागू होता सुप्रीम कोर्ट का 50% वाला फैसला

जहाँ बिहार के 65% आरक्षण को कोर्ट ने समाप्त कर दिया है, वहीं तमिलनाडु में पिछले तीन दशकों से लगातार 69% आरक्षण दिया जा रहा है।

हज के लिए सऊदी अरब गए 90+ भारतीयों की मौत, अब तक 1000+ लोगों की भीषण गर्मी ले चुकी है जान: मिस्र के सबसे...

मृतकों में ऐसे लोगों की संख्या अधिक है, जिन्होंने रजिस्ट्रेशन नहीं कराया था। इस साल मृतकों की संख्या बढ़कर 1081 तक पहुँच चुकी है, जो अभी बढ़ सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -