Sunday, October 17, 2021
Homeराजनीति'यहाँ इस्लामोफोबिया नहीं, जफरुल इस्लाम ने भारत की छवि खराब करने की कोशिश की...

‘यहाँ इस्लामोफोबिया नहीं, जफरुल इस्लाम ने भारत की छवि खराब करने की कोशिश की है’

जफरुल इस्लाम के विवादित पोस्ट के लिए भाजपा ने भी उन पर हमला बोला है। भाजपा ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से जफरुल को उनके पद से हटाने की माँग की है।

हिंदुओं को अरबी मुस्लिमों का डर दिखाने वाले दिल्ली माइनॉरिटी कमीशन के अध्यक्ष ज़फरुल इस्लाम ख़ान पर राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष ग्यारुल हसन रिजवी ने पलटवार किया है। रिजवी ने कहा है कि भारत में मुस्लिम खुश हैं और यहाँ किसी प्रकार का इस्लामोफोबिया नहीं है। उनका कहना है कि मुस्लिम भारत को स्वर्ग मानते हैं और जफरुल इस्लाम की टिप्पणी सिर्फ़ देश की छवि खराब करने का एक प्रयास है।

टाइम्स नॉउ को दिए साक्षात्कार में रिजवी ने कहा कि भारतीय मुस्लिम और विदेशों में रहने वाले मुस्लिम जानते हैं कि भारत में मुस्लिम खुश हैं और यहाँ वे पूरे मान-सम्मान के साथ जी रहे हैं। उन्होंने कहा, “मुझे लगता है जफरुल इस्लाम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अरब से मिले सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘ऑर्डर ऑफ जाएद’ को भूल गए हैं।”

बता दें, जफरुल इस्लाम के विवादित पोस्ट के लिए भाजपा ने भी उन पर हमला बोला है। भाजपा ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से जफरुल को उनके पद से हटाने की माँग की है।

गौरतलब है कि ज़फरुल ने अपने पोस्ट में लिखा था कि कट्टर हिन्दू ये भूल गए थे कि अरबी मुस्लिमों की आँखों में भारतीय मुस्लिमों की साख काफ़ी ऊँची है। बकौल ज़फरुल, भारत के मुस्लिमों ने इस्लाम के लिए जो किया है, उसे देखते हुए अरबी उन्हें सिर-आँखों पर रखते हैं। भारतीय मुस्लिम अरबी और इस्लामी अध्ययन में पारंगत हैं और दुनिया भर में इस्लामी संस्कृति और सभ्यता से जुड़ी विरासत में अहम योगदान दिया है।

ज़फरुल ने इन लोगों को शाह वलीहुल्ला देहलवी, अबू हस्सान नदवी, बहुदुद्दीन खान और ज़ाकिर नाइक का नाम गिनाया। बता दें कि मलेशिया में रह रहे ज़ाकिर नाइक को वापस लाने के लिए भारत सरकार प्रयत्न कर रही है और उसके ख़िलाफ़ मनी लॉन्ड्रिंग से लेकर आतंकियों को भड़काने तक के आरोप हैं। भारत में मजहब विशेष के कई युवाओं के यहाँ से ज़ाकिर नाइक की सीडी मिली, जिसे देख कर वो आतंक की राह अपनाते रहे हैं

ज़फरुल ने चेताया कि कट्टर हिन्दुओं को शुक्र मनाना चाहिए कि भारत के मुस्लिमों ने अरब जगत से कट्टर हिन्दुओं द्वारा हो रहे ‘घृणा के दुष्प्रचार, लिंचिंग और दंगों’ को लेकर कोई शिकायत नहीं की है और जिस दिन ऐसा हो जाएगा, उस दिन अरब के मुस्लिम एक आँधी लेकर आएँगे, एक तूफ़ान खड़ा कर देंगे। ज़फरुल इस्लाम ने मंगलवार को ये बातें कहीं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,137FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe