जाना था जेल विधायक जी पहुॅंच गए दोस्त के फ्लैट पर, छापेमारी में मिले ₹53 लाख

जिस फ्लैट से पैसा बरामद किया गया है वह राजू खरे के नाम पर है। खरे को गिरफ्तार कर लिया गया है। कदम को जेल भेज दिया गया। वहीं, इस मामले में संलिप्त पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की बात भी कही जा रही है।

महाराष्ट्र में 21 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव होने हैं। उससे पहले पुलिस और चुनाव आयोग की टीम ने एक फ्लैट से 53.43 लाख रुपए नकद बरामद किए हैं। हैरत की बात है कि छापेमारी के वक्त उस फ्लैट में विधायक रमेश कदम भी मौजूद थे, जबकि उस वक्त उन्हें ठाणे की सेंट्रल जेल में होना चाहिए था।

भ्रष्टाचार के मामले में जेल में बंद कदम सोलापुर के मोहोल से एनसीपी के विधायक हैं। अगस्त 2015 में उन्हें गिरफ्तार किया गया था। उन पर सरकार द्वारा संचालित अन्नाभाउ साठे विकास निगम का अध्यक्ष रहते हुए 150 करोड़ रुपए की गड़बड़ी करने का आरोप है। मौजूदा चुनाव में मोहोल से ही बतौर निर्दलीय लड़ रहे हैं।

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार जिस फ्लैट से पैसा बरामद किया गया है वह राजू खरे के नाम पर है। खरे को गिरफ्तार कर लिया गया है। कदम को जेल भेज दिया गया। वहीं, इस मामले में संलिप्त पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की बात भी कही जा रही है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

खबरों के मुताबिक कदम ने शुक्रवार को बेचैनी और सीने में दर्द की शिकायत की थी। इसके बाद उन्हें जॉंच के लिए जेजे अस्पताल ले जाया गया। लौटते वक्त उन्होंने साथ मौजूद पुलिसकर्मियों को ठाणे के घोड़बंदर रोड इलाके में अपने एक दोस्त के यहॉं ले जाने को कहा। पुलिसवाले उन्हें जेल ले जाने के बजाय दोस्त के फ्लैट पर लेकर चले गए।

जब पुलिस और चुनाव आयोग की टीम को इसकी भनक लगी कि कदम को जेल की बजाए तो एक दोस्त के फ्लैट पर ले जाया गया है तो वे फौरन हरकत में आए। एक अधिकारी ने बताया कि कदम के फ्लैट में जाने की सूचना मिलने के बाद ठाणे पुलिस की एक टीम ने छापा मारा तो विधायक कदम, फ्लैट मालिक राजू खरे और पुलिसकर्मियों को 53.43 लाख रुपये नकदी के साथ वहॉं पाया गया। ऐसे में सवाल उठ रहे हैं कि क्यों एस्कॉर्ट टीम रास्ता बदल कर कदम को घोड़बंदर ले गई। जेल मैनुअल साफ़ कहता है कि अदालत की इजाज़त के बिना आरोपित को कहीं नहीं ले जाया जा सकता। अतिरिक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी दिलीप शिंदे ने भी छापेमारी के दौरान कदम के फ्लैट में होने की पुष्टि की है। उनके मुताबिक फ्लैट को सीज कर दिया गया है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

सोनिया गाँधी
शिवसेना हिन्दुत्व के एजेंडे से पीछे हटने को तैयार है फिर भी सोनिया दुविधा में हैं। शिवसेना को समर्थन पर कॉन्ग्रेस के भीतर भी मतभेद है। ऐसे में एनसीपी सुप्रीमो के साथ उनकी आज की बैठक निर्णायक साबित हो सकती है।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,489फैंसलाइक करें
23,092फॉलोवर्सफॉलो करें
121,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: