Sunday, April 18, 2021
Home राजनीति NDTV, Reuters और AP के पत्रकारों को आलीशान कश्मीरी बंगलों को खाली करने का...

NDTV, Reuters और AP के पत्रकारों को आलीशान कश्मीरी बंगलों को खाली करने का आदेश

NDTV के नाज़िर मसूदी, जिनकी श्रीनगर से की गई 'रिपोर्टिंग' के दम पर इमरान खान की पीटीआई हिंदुस्तान को गालियाँ बकती फिर रही है। मसूदी ने बिना किसी वीडियो सबूत या लोगों के नाम बताए यह दावा किया कि उन्होंने श्रीनगर के स्थानीय लोगों से बात की हैं और वे बस इस.....

सरकार ने हाल ही में NDTV के ब्यूरो प्रमुख नाज़िर मसूदी, रॉयटर्स के वरिष्ठ प्रतिनिधि फ़य्याज़ बुखारी और एसोसिएटेड प्रेस के ऐजाज़ हुसैन को जल्दी-से-जल्दी उन्हें श्रीनगर में मिले हुए सरकारी बंगले खाली करने का निर्देश दिया है। कारण बताया गया है कि वे उन बंगलों के आवंटन की न्यूनतम शर्तें पूरी नहीं करते।

आर्गेनाइज़र में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक इन तथाकथित पत्रकारों को यह बंगले पिछली सरकार ने उनकी “पत्रकारिता की सेवाओं” के बदले न्यूनतम शर्तें पूरी न करने पर भी आवंटित कर दिए थे। अब चूँकि वे शर्तों को पूरा नहीं करते थे, तो उन्हें हुआ यह आवंटन सरकार के किसी भी नियम के हिसाब से आगे नहीं बढ़ाया जा सकता था। अतः उनका वहाँ निवास करते रहना साफ-साफ अवैध था। इसीलिए सरकार ने उन पत्रकारों को बंगले खाली करने के निर्देश दिए।

ज़ाहिर तौर पर इससे कश्मीर का, और उससे जुड़े देश भर का, पत्रकारिता का समुदाय विशेष नाराज़ तो हो ही गया। इतने साल से पिछली सरकारों से मिलती आ रही सुविधाओं की लत जो लग गई थी। इसीलिए इस समुदाय विशेष की संस्था कश्मीर प्रेस क्लब ने बयान जारी कर राज्य प्रशासन (यानि कि केंद्र सरकार) पर ‘प्रताड़ना’ का आरोप लगाया है- यानि उनके हिसाब से इन पत्रकारों ने जो बंगलों पर अवैध कब्ज़ा कर रखा था, उसे हटाने की कोशिश इन्हें प्रताड़ित करना है। उनके हिसाब से यह प्रताड़ना इसलिए है, ताकि घाटी के पत्रकार एक लाइन विशेष को पकड़ कर ही रिपोर्टिंग करें।

यह समुदाय विशेष वाले पत्रकार केवल कश्मीर के पत्रकारों का समुदाय विशेष हो, ऐसा भी नहीं है। इसे राष्ट्रीय स्तर पर प्रेस क्लब ऑफ़ इंडिया और एडिटर्स’ गिल्ड का पूरा समर्थन रहता है

यहाँ इन पत्रकारों के बारे में यह जान लेना ज़रूरी है कि इनमें से कई न केवल जम्मू-कश्मीर के मुद्दे पर पाकिस्तान की ही भाषा बोल रहे हैं, बल्कि उसे हिंदुस्तान के खिलाफ प्रोपेगंडा करने के लिए ‘कच्चा माल’ ही नहीं, पकी-पकाई खीर ही थाली में परोस रहे हैं।

उदाहरण हैं NDTV के नाज़िर मसूदी, जिनकी श्रीनगर से की गई ‘रिपोर्टिंग’ के दम पर इमरान खान की पीटीआई हिंदुस्तान को गालियाँ बकती फिर रही है। मसूदी ने बिना किसी वीडियो सबूत या लोगों के नाम बताए यह दावा किया कि उन्होंने श्रीनगर के स्थानीय लोगों से बात की हैं और वे बस इस इंतज़ार में हैं कि सुरक्षा इंतज़ाम ढीले हों और वे हिंदुस्तान के खिलाफ हिंसक विरोध प्रदर्शन के नाम पर जिहादी हिंसा शुरू करें।

जिहाद के लिए आने-जाने वाले पैसे की जाँच के दौरान NIA ने भी दावा किया था कि कश्मीर प्रेस क्लब और कश्मीर एडिटर्स’ गिल्ड के सदस्यों में से कई ISI से वित्तपोषित होते हैं। कश्मीर में अशांति किसी-न-किसी तरह साबित करने के लिए, बल्कि वहाँ अशांति फ़ैलाने के लिए, कई तरह का प्रोपेगंडा, कई तरह की फेक न्यूज़ वहाँ के पत्रकारों द्वारा फैलाई जा रही है। एक झूठा नैरेटिव बनाने की कोशिश हो रही है कि हिंदुस्तानी सुरक्षा बल कश्मीर में ‘अत्याचार’ कर रहे हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हिंदू धर्म-अध्यात्म की खोज में स्विट्जरलैंड से भारत पैदल: 18 देश, 6000 km… नंगे पाँव, जहाँ थके वहीं सोए

बेन बाबा का कोई ठिकाना नहीं। जहाँ भी थक जाते हैं, वहीं अपना डेरा जमा लेते हैं। जंगल, फुटपाथ और निर्जन स्थानों पर भी रात बिता चुके।

जिसने उड़ाया साधु-संतों का मजाक, उस बॉलीवुड डायरेक्टर को पाकिस्तान का FREE टिकट: मिलने के बाद ट्विटर से ‘भागा’

फिल्म निर्माता हंसल मेहता सोशल मीडिया पर विवादित पोस्ट को लेकर अक्सर चर्चा में रहते हैं। इस बार विवादों में घिरने के बाद उन्होंने...

फिर केंद्र की शरण में केजरीवाल, PM मोदी से माँगी मदद: 7000 बेड और ऑक्सीजन की लगाई गुहार

केजरीवाल ने पीएम मोदी से केंद्र सरकार के अस्पतालों में 10,000 में से कम से कम 7,000 बेड कोरोना मरीजों के लिए रिजर्व करने और तुरंत ऑक्सीजन मुहैया कराने की अपील की है।

SC के जज रोहिंटन नरीमन ने वेदों पर की अपमानजनक टिप्पणी: वर्ल्ड हिंदू फाउंडेशन की माफी की माँग, दी बहस की चुनौती

स्वामी विज्ञानानंद ने SC के न्यायाधीश रोहिंटन नरीमन द्वारा ऋग्वेद को लेकर की गई टिप्पणियों को तथ्यात्मक रूप से गलत एवं अपमानजनक बताते हुए कहा है कि उनकी टिप्पणियों से विश्व के 1.2 अरब हिंदुओं की भावनाएँ आहत हुईं हैं जिसके लिए उन्हें बिना शर्त क्षमा माँगनी चाहिए।

राहुल गाँधी अब नहीं करेंगे चुनावी रैली: 4 राज्य में जम कर की जनसभा, बंगाल में हार देख कोरोना का बहाना?

पश्चिम बंगाल में कॉन्ग्रेस, लेफ्ट पार्टियों के साथ गठबंधन में है लेकिन उनके सरकार बनाने की संभावनाएँ न के बराबर हैं। शायद यही कारण है कि...

रामनवमी के अवसर पर अयोध्या न आएँ, घरों में पूजा-अर्चना करें: रामनगरी के साधु-संतों का फैसला, नहीं लगेगा मेला

CM योगी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से अयोध्या के संतों से विकास भवन में वार्ता की। वार्ता के बाद संत समाज ने राम भक्तों से अपील की है कि...

प्रचलित ख़बरें

‘वाइन की बोतल, पाजामा और मेरा शौहर सैफ’: करीना कपूर खान ने बताया बिस्तर पर उन्हें क्या-क्या चाहिए

करीना कपूर ने कहा है कि वे जब भी बिस्तर पर जाती हैं तो उन्हें 3 चीजें चाहिए होती हैं- पाजामा, वाइन की एक बोतल और शौहर सैफ अली खान।

सोशल मीडिया पर नागा साधुओं का मजाक उड़ाने पर फँसी सिमी ग्रेवाल, यूजर्स ने उनकी बिकनी फोटो शेयर कर दिया जवाब

सिमी ग्रेवाल नागा साधुओं की फोटो शेयर करने के बाद से यूजर्स के निशाने पर आ गई हैं। उन्होंने कुंभ मेले में स्नान करने गए नागा साधुओं का...

’47 लड़कियाँ लव जिहाद का शिकार सिर्फ मेरे क्षेत्र में’- पूर्व कॉन्ग्रेसी नेता और वर्तमान MLA ने कबूली केरल की दुर्दशा

केरल के पुंजर से विधायक पीसी जॉर्ज ने कहा कि अकेले उनके निर्वाचन क्षेत्र में 47 लड़कियाँ लव जिहाद का शिकार हुईं हैं।

ऑडियो- ‘लाशों पर राजनीति, CRPF को धमकी, डिटेंशन कैंप का डर’: ममता बनर्जी का एक और ‘खौफनाक’ चेहरा

कथित ऑडियो क्लिप में ममता बनर्जी को यह कहते सुना जा सकता है कि वो (भाजपा) एनपीआर लागू करने और डिटेन्शन कैंप बनाने के लिए ऐसा कर रहे हैं।

रोजा-सहरी के नाम पर ‘पुलिसवाली’ ने ही आतंकियों को नहीं खोजने दिया, सुरक्षाबलों को धमकाया: लगा UAPA, गई नौकरी

जम्मू-कश्मीर के कुलगाम जिले की एक विशेष पुलिस अधिकारी को ‘आतंकवाद का महिमामंडन करने’ और सरकारी अधिकारियों को...

ईसाई युवक ने मम्मी-डैडी को कब्रिस्तान में दफनाने से किया इनकार, करवाया हिंदू रिवाज से दाह संस्कार: जानें क्या है वजह

दंपत्ति के बेटे ने सुरक्षा की दृष्टि से हिंदू रीति से अंतिम संस्कार करने का फैसला किया था। उनके पार्थिव देह ताबूत में रखकर दफनाने के बजाए अग्नि में जला देना उसे कोरोना सुरक्षा की दृष्टि से ज्यादा ठीक लगा।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,232FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe