Monday, April 15, 2024
Homeराजनीति'तपस्या में कमी' वाले पवन खेड़ा को कॉन्ग्रेस ने पकड़ाया 'झुनझुना', सौंपी मीडिया और...

‘तपस्या में कमी’ वाले पवन खेड़ा को कॉन्ग्रेस ने पकड़ाया ‘झुनझुना’, सौंपी मीडिया और प्रचार की कमान: नेटीजन्स बोले- लॉलीपॉप देकर फुसला दिया

कॉन्ग्रेस द्वारा जारी प्रेस रिलीज पर एक यूजर ने तंज कसते हुए कहा, "पवन खेड़ा को एक और झुनझुना दे दिया गया हाथ में। वह चाहते थे रसगुल्ला पर मिली रेवड़ी। चिल्लाते रहो परिवार के लिए मीडिया में बस।"

कॉन्ग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा को कॉन्ग्रेस हाईकमान ने बड़ी जिम्मेदारी दी है। ऑल इंडिया कॉन्ग्रेस कमेटी की ओर से जारी की गई प्रेस रिलीज में बताया गया है कि पार्टी अध्यक्ष सोनिया गाँधी ने पवन खेड़ा को मीडिया एंड पब्लिसिटी का जिम्मा सौंपा है।

रिलीज में कहा गया, “कॉन्ग्रेस अध्यक्ष ने पवन खेड़ा को नए कम्युनिकेशन विभाग के मीडिया एंड पब्लिसिटी सेल का चेयरमैन नियुक्त करने पर मुहर लगाई है।”

बता दें कि बीते दिनों कॉन्ग्रेस द्वारा राज्यसभा भेजे जाने से नाराज पवन खेड़ा ने सोशल मीडिया पर अपनी नाराजगी को व्यक्त किया था। पवन खेड़ा ने ट्वीट में कहा था, “शायद मेरी तपस्या में ही कमी रह गई।” इस ट्वीट को देख उनके कई समर्थकों ने भी कहा था कि कॉन्ग्रेस ने उन्हें राज्यसभा न भेजकर गलती की।

हालाँकि अब जब पवन खेड़ा को कॉन्ग्रेस हाईकमान ने मीडिया और प्रचार की नई जिम्मेदारी दे दी है, तो दोबारा से नेटीजन्स की प्रतिक्रिया आना शुरू हो गई है। बीते दिनों पवन खेड़ा की नाराजगी और अब मिली नई जिम्मेदारी देखते हुए कुछ लोगों ने कहा कि पवन खेड़ा कि थोड़ी-थोड़ी तपस्या सफल हुई। वहीं कुछ ने कहा, “झुनझुना पकड़ा दिया खेड़ा को। तपस्या में कमी रह गई।”

राजमणि नाम के यूजर ने पवन खेड़ा को मिली इस नई जिम्मेदारी को ‘सांत्वना पुरस्कार’ बताया।

एक यूजर ने कहा, “इतने सालों की तपस्या और बस एक लॉलीपॉप देकर कॉन्ग्रेस परिवार ने फुसला दिया।”

एक यूजर ने तंज कसते हुए कहा, “पवन खेड़ा को एक और झुनझुना दे दिया गया हाथ में। वह चाहते थे रसगुल्ला पर मिली रेवड़ी। चिल्लाते रहो परिवार के लिए मीडिया में बस।”

उल्लेखनीय है कि कॉन्ग्रेस की ओर से पिछले दिनों जारी की गई लिस्ट में 10 नाम थे जिन्हें राज्यसभा भेजा गया था। उनमें हरियाणा से अजय माकन, कर्नाटक से जयराम रमेश, मध्य प्रदेश से विवेक तन्खा, छत्तीसगढ़ से राजीव शुक्ला और रंजीत रंजन, महाराष्ट्र से इमरान प्रतापगढ़ी ,राजस्थान से रणदीप सुरजेवाला, मुकुल वासनिक, प्रमोद तिवारी और तमिलनाडु से पी चिदंबरम थे। इस लिस्ट को देखने के बाद पवन खेड़ा, नगमा मोरारजी समेत कई कॉन्ग्रेसियों में नाराजगी जताई थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘इलेक्टोरल बॉन्ड्स सफलता की कहानी, पता चलता है पैसे का हिसाब’: PM मोदी ने ANI को इंटरव्यू में कहा – हार का बहाना ढूँढने...

'एक राष्ट्र एक चुनाव' के प्रतिबद्धता जताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि उन्होंने संसद में भी बोला है, हमने कमिटी भी बनाई हुई है, उसकी रिपोर्ट भी आई है।

‘कॉन्ग्रेस देती है सनातन के खिलाफ ज़हर उगलने वालों का साथ, DMK का जन्म ही इसीलिए’: ANI से इंटरव्यू में बोले PM मोदी –...

पीएम मोदी ने कहा कि 2019 में भी वो काम करके चुनाव मैदान में गए थे और जब वो वापस आए तो अनुच्छेद 370, ट्रिपल तलाक से बहनों को मुक्ति, बैंकों का मर्जर - ये सब काम उन्होंने 100 दिन के अंदर कर दिए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe