Monday, July 26, 2021
Homeराजनीति4 सालों में ये PM मोदी का संघ मुख्यालय का पहला दौरा, दो अहम...

4 सालों में ये PM मोदी का संघ मुख्यालय का पहला दौरा, दो अहम मुद्दों पर होगी चर्चा

"इस बात की पूरी संभावना है कि पार्टी पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता में वापसी करेगी, लेकिन फिर भी एक आशंका है कि अगर पार्टी को बहुमत नहीं मिलती है, तो..."

लोकसभा चुनाव के ख़त्म होने और एग्जिट पोल आने के बाद सभी नेता नई सरकार गठन के कवायद में जुटे हैं। हालाँकि, अभी चुनाव का परिणाम आने में तीन दिन बाकी है, लेकिन विपक्ष के खेमे में दलों की संख्या बढ़ाने के लिए सभी नेताओं के एक-दूसरे से मुलाक़ात करने की ख़बरें आ रही हैं। इसी बीच राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने आज सोमवार (मई 20, 2019) को नागपुर में बैठक का आयोजन किया है।

इस बैठक में पीएम मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के साथ ही कई दिग्गज नेता के शामिल हेने की सूचना है। आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत और प्रधानमंत्री मोदी के बीच होने जा रही ये मुलाक़ात इसलिए भी अहम है, क्योंकि 4 सालों में ये पीएम मोदी का संघ मुख्यालय का पहला दौरा है।

जानकारी के मुताबिक़, पीएम मोदी आज संघ प्रमुख मोहन भागवत से मुलाक़ात करेंगे और कई अहम मुद्दों पर बात करेंगे। चुनाव के नतीजों से पहले हो रही इस बैठक को लेकर कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं। इस दौरान सरकार के गठन को लेकर चर्चा होने के साथ ही कई अन्य मुद्दों पर भी बात होने की संभावना है। न्यूज़ 24 के सूत्रों के अनुसार, ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि यदि भारतीय जनता पार्टी की सीटें बहुमत से कम रह जाती हैं, तो आरएसएस किसी और बड़े भाजपा नेता के हाथ में एनडीए गठबंधन का नेतृत्व सौंप सकता है।

इस बारे में बात करते हुए भाजपा की नागपुर इकाई के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि इस बात की पूरी संभावना है कि पार्टी पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता में वापसी करेगी, लेकिन फिर भी एक आशंका है कि अगर पार्टी को बहुमत नहीं मिलती है, तो आरएसएस पीएम मोदी को दरकिनार कर किसी और भाजपा नेता का नाम आगे कर सकती है। इसके साथ ही एक ख़बर ये भी आ रही है कि इस बैठक में नए भाजपा अध्यक्ष के नाम पर चर्चा की जा सकती है। इसलिए, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को भी बैठक में बुलाया गया है, लेकिन स्पष्ट तौर पर अभी तक किसी बात की पुष्टि नहीं हो पाई है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,215FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe