Sunday, October 17, 2021
Homeराजनीतिबंगाल: 'अम्फान' ने ली 72 की जान, ममता बनर्जी के साथ प्रभावित इलाकों का...

बंगाल: ‘अम्फान’ ने ली 72 की जान, ममता बनर्जी के साथ प्रभावित इलाकों का जायजा लेंगे PM मोदी

ममता बनर्जी ने कहा कि मैंने अपने जीवन में इससे भीषण चक्रवात और नुकसान कभी नहीं देखा। मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से चक्रवात 'अम्फान' प्रभावित इलाकों का निरीक्षण करने के लिए आने की अपील करती हूँ। मुख्यमंत्री ने मृतकों के परिजनों को मुआवजा देने की भी घोषणा की है।

190 किलोमीटर की रफ्तार से आए चक्रवाती तूफान ‘अम्फान’ ने पश्चिम बंगाल में सबसे अधिक तबाही मचाई है। राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ‘अम्फान’ की चपेट में आने से 72 लोगों की मौत होने की बात कही है। ममता बनर्जी की अपील के बाद शुक्रवार (22 मई, 2020) को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी उनके साथ प्रभावित इलाकों में हवाई सर्वेक्षण करेंगे।

पश्चिम बंगाल के दीघा और बांग्लादेश के हटिया द्वीप के बीच जमीन से टकराए चक्रवाती तूफान ‘अम्फान’ ने सबसे अधिक पश्चिम बंगाल के कोलकाता को अपनी जद में लिया है। इस तूफान ने हजारों लोगों घरों से बेघर और सैकड़ों इमारतों को पूरी तरह से तबाह कर दिया है। कोलकाता और राज्य के कई अन्य हिस्सों में पुल नष्ट हो गए हैं और निचले हिस्से में बाढ़ जैसे हालात बन गए।

इसे लेकर अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक करने के बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा, ‘अब तक हमें मिली खबरों के अनुसार, चक्रवात ‘अम्फान’ के चलते 72 लोगों की मौत हुई है। इससे दो जिले, उत्तर और दक्षिण 24 परगना पूरी तरह तबाह हो गए हैं। हमें उन जिलों का पुनर्निर्माण करना होगा। मैं केंद्र सरकार से आग्रह करूँगी कि वह राज्य को सभी सहायता उपलब्ध कराए।”

ममता बनर्जी ने कहा कि मैंने अपने जीवन में इससे भीषण चक्रवात और नुकसान कभी नहीं देखा। मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से चक्रवात ‘अम्फान’ प्रभावित इलाकों का निरीक्षण करने के लिए आने की अपील करती हूँ। मुख्यमंत्री ने मृतकों के परिजनों को दो से ढाई-ढाई लाख रुपए मुआवजा देने की भी घोषणा की है।

वहीं ममता बनर्जी की अपील के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने तूफान प्रभावित इलाकों का दौरा करने का फैसला किया है। जानकारी के मुताबिक पश्चिम बंगाल के हालात का जायजा लेने के लिए शुक्रवार (22 मई, 2020) को वह ममता बनर्जी के साथ हवाई सर्वेक्षण करेंगे।

‘अम्फान’ ने ओडिशा में भी भारी तबाही मचाई है। वहाँ तटीय जिलों में विद्युत और दूरसंचार से जुड़ा आधारभूत ढाँचा नष्ट हो गया है। ओडिशा के अधिकारियों के आकलन के मुताबिक चक्रवात से लगभग 44.8 लाख लोग प्रभावित हुए हैं।

इससे पहले गृहमंत्री अमित शाह ने ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से बात की और उन्हें स्थिति से निपटने के लिए केंद्र की ओर से हरसंभव सहायता उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,107FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe