Sunday, July 14, 2024
Homeराजनीतिहौसले भी हमारे होंगे, हथियार भी हमारे होंगे... दिवाली पर चीन सीमा के पास...

हौसले भी हमारे होंगे, हथियार भी हमारे होंगे… दिवाली पर चीन सीमा के पास से गरजे PM मोदी, बोले – हमारे जवानों के सीने में वो आग है, जिसने गढ़े पराक्रम के प्रतिमान

पीएम मोदी ने उन्हें याद दिलाया कि देश इसलिए आपका कृतज्ञ है, ऋणी है। उन्होंने कहा कि उनके लिए जहाँ उनकी भारतीय सेना है, जहाँ उनके देश के सुरक्षा बल के जवान तैनात हैं, वह स्थान किसी मंदिर से कम नहीं है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार (12 नवंबर, 2023) को हिमाचल प्रदेश के लेप्चा में चीन सीमा के पास भारतीय सेना और ITBP के जवानों के साथ दिवाली मनाई। इस दौरान उन्होंने देशवासियों को इन जवानों की बहदुरी और दृढ़ता की याद दिलाते हुए बताया कि उनके कारण ही हम सुरक्षित हैं। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि भारतीय सेनाओं और सुरक्षा बल के पराक्रम का ये उद्घोष, ये ऐतिहासिक धरती और दीपावली का ये पवित्र त्योहार – ये अद्भुत संयोग है, ये अद्भुत मिलाप है।

उन्होंने कहा कि संतोष और आनंद से भर देने वाला ये पल, मेरे लिए भी, आपके लिए और देशवासियों के लिए भी दीपावली में नया प्रकाश पहुँचाएगा, ऐसा उनका विश्वास है। दुर्गम परिस्थितियों में भारत की रक्षा कर रहे जवानों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि परिवार की याद हर किसी को आती है लेकिन आपके चेहरों पर उदासी नजर नहीं आ रही है। उन्होंने जवानों से कहा कि आपके उत्साह में कमी का नामोनिशान नहीं है। उत्साह से भरे हुए हैं, ऊर्जा से भरे हुए हैं क्योंकि आप जानते हैं कि 140 करोड़ का परिवार भी आपका अपना ही है।

पीएम मोदी ने उन्हें याद दिलाया कि देश इसलिए आपका कृतज्ञ है, ऋणी है। उन्होंने कहा कि उनके लिए जहाँ उनकी भारतीय सेना है, जहाँ उनके देश के सुरक्षा बल के जवान तैनात हैं, वह स्थान किसी मंदिर से कम नहीं है। उन्होंने जवानों से कहा कि जहाँ आप है, वहीं उनका त्योहार है। पीएम मोदी ने कहा कि हमारे जवानों के पास हमेशा इस वीर वसुंधरा की विरासत रही है, सीने में वह आग रही है, जिसने हमेशा पराक्रम के प्रतिमान गढ़े हैं। उन्होंने कहा कि प्राणों को हथेली पर रखकर हमारे जवान हमेशा सबसे आगे चले हैं।

हिमाचल प्रदेश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बोले, “हमारे जवानों ने हमेशा साबित किया है कि सीमा पर वह देश की सबसे सशक्त दीवार हैं। दुनिया में कहीं पर भी भारतीय अगर संकट में हैं, तो भारतीय सेना और सुरक्षा बल उन्हें बचाने के लिए हमेशा तत्पर रहते हैं। भारत की सेनाएँ और सुरक्षा बल संग्राम से लेकर सेवा तक हर स्वरूप में सबसे आगे रहते हैं। इसलिए हमें गर्व है हमारी सेनाओं पर, हमें गर्व है हमारे सुरक्षा बलों पर। भारत तब तक सुरक्षित है, जब तक इसकी सीमाओं पर हिमालय की तरह अटल और अडिग ये मेरे जांबाज साथी खड़े हैं। आपकी सेवा के कारण ही भारत भूमि सुरक्षित है और समृद्ध के मार्ग पर प्रशस्त भी है।” इस दौरान उन्होंने एक कविता भी पढ़ी, जो कुछ इस प्रकार है:

“अब संकल्प भी हमारे होंगे, संसाधन भी हमारे होंगे।
अब हौसले भी हमारे होंगे, हथियार भी हमारे होंगे।
दम भी हमारा होगा, कदम भी हमारे होंगे।
हर श्वास में हमारे विश्वास भी अपार होगा
खिलाड़ी हमारा खेल भी हमारा
जय विजय ओर अजेय है प्रण हमारा
ऊँचे पर्वत हों या रेगिस्तान
समंदर अपार या मैदान विशाल
गगन में लहराता ये तिरंगा सदा हमारा
अमृतकाल की इस बेला में, वक्त भी हमारा होगा,
सपने सिर्फ़ सपने नहीं होंगे, सिद्धि की एक गाथा लिखेंगे
पर्वत से भी ऊपर संकल्प होगा।
होगा पराक्रम ही होगा विकल्प
गति और गरिमा का जग में सम्मान होगा
प्रचंड सफलताओं के साथ,
भारत का हर तरफ जयगान होगा।”

पीएम मोदी ने आगे कहा कि प्राणों को हथेली पर रखकर हमारे जवान हमेशा सबसे आगे चले हैं। उन्होंने कहा कि भारत की सेनाएँ और सुरक्षा बल संग्राम से लेकर सेवा तक हर स्वरूप में सबसे आगे रहते हैं। इसलिए हमें गर्व है हमारी सेनाओं पर, हमें गर्व है हमारे सुरक्षा बलों पर। पीएम मोदी के शब्दों से वहाँ मौजूद जवान खासे उत्साहित नज़र आए। लेप्चा चीन सीमा के पास है, ऐसे में वहाँ ITBP (इंडो-तिब्बतन बॉर्डर पुलिस) भी तैनात हैं। हिमाचल प्रदेश की 260 किलोमीटर की सीमा चीन से लगती है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -