Wednesday, April 14, 2021
Home राजनीति कोई भी राजनीतिक और अंतरराष्ट्रीय दबाव, इस चौकीदार को डिगा और डरा नहीं पाएगा:...

कोई भी राजनीतिक और अंतरराष्ट्रीय दबाव, इस चौकीदार को डिगा और डरा नहीं पाएगा: PM Modi

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हमारा विजन नए भारत का है। ऐसे भारत का जो अपने गौरवशाली अतीत के अनुरूप ही वैभवशाली होगा। एक ऐसा नया भारत जिसकी नई पहचान होगी, जहाँ सुरक्षा, समृद्धि और सम्मान के संस्कार होंगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज गुरुवार (मार्च 27, 2019) से लोकसभा चुनाव के प्रचार-प्रसार अभियान की शुरुआत कर दी। लोकसभा चुनाव के ऐलान के बाद प्रधानमंत्री मोदी की पहली सभा है। मेरठ के बाद पीएम मोदी उत्तराखंड के रुद्रपुर और जम्मू-कश्मीर के अखनूर के पास जनसभाओं को संबोधित करेंगे। साल 2014 के लोकसभा चुनाव में भी पीएम मोदी ने मेरठ से ही चुनाव प्रचार का आगाज किया था। उनके भाषण के महत्वपूर्ण बिंदु निम्नलिखित हैं:

  • भारत, मन बना चुका है, भारत के 130 करोड़ लोग मन बना चुके हैं। देश में फिर एक बार मोदी सरकार बनने जा रही है। पाँच वर्ष पहले जब मैंने आप सभी से आशीर्वाद माँगा था तो, आपने भरपूर प्यार दिया था। मैंने आपसे कहा था कि आपके प्यार को, आपके आशीर्वाद को मैं ब्याज सहित लौटाऊँगा। और ये भी कहा था कि जो काम किया है, उसका हिसाब भी दूँगा।
  • और हाँ, मैंने यह भी कहा था कि अपना हिसाब दूँगा और साथ-साथ दूसरों का हिसाब भी लूँगा। ये दोनों काम साथ-साथ चलेंगे। तभी तो होगा हिसाब बराबर। चौकीदार हूँ भई, और चौकीदार कोई नाइंसाफी नहीं करता। हिसाब होगा, सबका होगा, बारी बारी से होगा।
  • आज एक तरफ विकास का ठोस आधार है, दूसरी तरफ ना नीति है, ना विचार है और ना ही नीयत है। एक तरफ फैसले लेने वाली सरकार है, दूसरी तरफ दशकों तक फैसले टालने वाला इतिहास है। एक तरफ नए भारत के संस्कार हैं और दूसरी तरफ वंशवाद और भ्रष्टाचार का विस्तार है। एक तरफ दमदार चौकीदार है और दूसरी तरफ दागदारों की भरमार है।
  • हमारा विजन नए भारत का है। ऐसे भारत का जो अपने गौरवशाली अतीत के अनुरूप ही वैभवशाली होगा। एक ऐसा नया भारत जिसकी नई पहचान होगी, जहाँ सुरक्षा, समृद्धि और सम्मान के संस्कार होंगे।
  • सुरक्षा देश के दुश्मनों से, सुरक्षा आतंकवाद से, सुरक्षा गुंडागर्दी से, सुरक्षा भ्रष्टाचारियों से, सुरक्षा बीमारी से। समृद्धि साधनों और संसाधनों की, समृद्धि ज्ञान और विज्ञान की, समृद्धि संस्कृति और विचार की, समृद्धि हमारे आचार और व्यवहार की।
  • सम्मान श्रम का, सम्मान काम का, सम्मान बेटियों का, सम्मान हर वर्ग का, सम्मान देश के मान का अभिमान का। इस देश ने सिर्फ नारे लगाने वाली सरकारें बहुत देखीं हैं, लेकिन पहली बार ऐसी निर्णायक सरकार भी देख रहा है, जो अपने संकल्प को सिद्ध करना जानती है। जमीन हो, आसमान हो, या फिर अंतरिक्ष, सर्जिकल स्ट्राइक का साहस आपके इसी चौकीदार की सरकार ने दिखाया।
  • 4 दशक से हमारे सैनिक वन रैंक वन पेंशन मांग रहे थे, उसको पूरा करने का काम भी इसी चौकीदार ने किया। देश के क़रीब 12 करोड़ किसान परिवारों को 75 हज़ार करोड़ रुपए की सीधी वार्षिक मदद का काम भी हमने किया है।
  • देश के लगभग 50 करोड़ ग़रीब परिवारों को हर वर्ष 5 लाख रुपए तक के मुफ्त इलाज की व्यवस्था भी हमने की है। देश के 34 करोड़ गरीबों के लिए जनधन योजना के तहत बैंक खाते भी हमारी ही सरकार ने खुलवाए हैं। जो लोग 70 सालों में देश की जनता का बैंक खाता नहीं खुलवा पाए वो आज देश की जनता के खाते में पैसा डालने की बात करते हैं।
  • देश की 7 करोड़ से अधिक ग़रीब बहनों को मुफ्त गैस सिलेंडर देकर धुएँ से मुक्ति देने का काम भी हमने किया है। देश भर में 10 करोड़ ग़रीब परिवारों के घर शौचालय देकर, बहनों को सम्मान का जीवन देने का सौभाग्य भी हमें ही मिला है।
प्रधानमंत्री मोदी की मेरठ जनसभा में उमड़ी भीड़
  • डेढ़ करोड़ से अधिक ग़रीब बेघर परिवारों को अपना पक्का घर भी हमारी सरकार ने ही दिया है। देश के ढाई करोड़ से अधिक ग़रीब परिवारों तक पहली बार बिजली कनेक्शन देने का काम भी हमने ही किया है।
  • 15 करोड़ से अधिक बिना गारंटी के ऋण देकर युवा साथियों को स्वरोज़गार से जोड़ने का काम पहली बार राजग ने ही किया है। सामान्य वर्ग के ग़रीबों को 10 प्रतिशत आरक्षण देने का ऐतिहासिक फैसला भी हमने ही लिया है।
  • समाज का ऐसा कोई व्यक्ति नहीं है और देश का ऐसा कोई कोना नहीं है, जो विकास के हमारे इन कामों से छूटा हो। सबका साथ, सबका विकास की हमारी यही सोच है, जिसपर नए भारत का निर्माण हो रहा है।
  • इन महामिलावटी लोगों की सरकार जब दिल्ली में थी तब देश में आए दिन बम धमाके होते थे या नहीं? ये महामिलावटी आतंकियों को संरक्षण देते थे या नहीं? ये आतंकियों की भी जात और उनकी पहचान देखते थे या नहीं? उसके आधार पर तय करते थे कि आतंकी को बचाना है या सज़ा देनी है।
  • यहाँ मेरठ में जो विरोधी दलों के उम्मीदवार हैं उन्होंने आतंकवादियों के लिए करोड़ों रुपए के ईनाम तक का ऐलान कर दिया था। सोचिए, महामिलावट के लिए ये लोग किस हद तक जा सकते है। ये महामिलावटी लोग भ्रष्टाचारियों के साथ हैं या नहीं? महामिलावटियों के राज में बेटियों को इंसाफ मिलता था क्या? इनकी सरकार में गुंडे और बदमाश बेलगाम थे या नहीं? क्या ऐसी महामिलावट के हाथ में देश सुरक्षित रहेगा?
  • आज स्थिति ये है कि कुछ दिन पहले तक जो लोग इस चौकीदार को चुनौती देते फिरते थे, वो अब रोते फिर रहे हैं। मोदी ने ये क्यों किया, मोदी ने वो क्यों किया? पाकिस्तान में आतंकियों को घुसकर क्यों मारा? आतंकतियों के अड्डे को नष्ट क्यों किया? ये लोग रो रहे हैं।
  • देश को हिन्दुस्तान के हीरो चाहिए या पाकिस्तान के? देश को सबूत चाहिए या सपूत चाहिए? मेरे देश के सपूत यही मेरे देश के सबसे बड़े सबूत हैं। जो सबूत माँगते हैं वो सपूत को ललकारते हैं। आप आश्वस्त रहिए। मैं देश के लिए अपना सब कुछ दांव पर लगाने के लिए तैयार रहने वाला व्यक्ति हूँ। कोई भी राजनीतिक दबाव, कोई भी अंतरराष्ट्रीय दबाव, आपके इस चौकीदार को डिगा नहीं पाएगा और न ही कोई इस चौकीदार को डरा पाएगा।
  • हमारे जवान बुलेटप्रूफ जैकेट मांग रहे थे, उनकी सरकार इस फैसले को भी टालती रही। आतंकी हमलों में, नक्सली हमलों में हमारे जवान शहीद होते रहे, उनकी सरकार फैसले को टालती रही।
  • हमारे वैज्ञानिक अंतरिक्ष में सैटेलाइट को मार गिराने के परीक्षण की मांग कर रहे थे, उनकी सरकार ने ये फैसला भी टाल दिया था। 21वीं सदी के भारत को मजबूत बनाने के लिए, देश की सुरक्षा के लिए ये फैसला बहुत पहले ले लिया जाना चाहिए था। लेकिन ये फैसला भी टाला जाता रहा
  • मत भूलिए, ये वही लोग हैं जो तीन तलाक़ के ख़िलाफ़ क़ानून का विरोध करते हैं। जो कहते हैं कि तीन तलाक़ की वजह से महिलाओं की हत्या नहीं होती, कम से कम वो बच तो जाती है। सोचिए, किस तरह की सोच है इन लोगों की।
  • जब मैं 8-10 साल का था, तब सुना करता था कि सरकार ग़रीबी हटाने के बारे में बात कर रही है। जब 20-22 साल का हुआ तो इंदिरा गाँधी का नारा सुना था, ग़रीबी हटाओ। इसके बाद की पीढ़ियों में भी कांग्रेस के नामदार ग़रीबी हटाओ की बात करते रहे, लेकिन ग़रीबी हटी नहीं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

उद्धव ठाकरे ने लगाई कल रात से धारा 144 के साथ ‘Lockdown’ जैसी सख्त पाबंदियाँ, उन्हें बेस्ट CM बताने में जुटे लिबरल

महाराष्ट्र की उद्धव सरकार ने राज्य में कोरोना की बेकाबू होती रफ्तार पर काबू पाने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी से मदद की गुहार लगाई है। उन्होंने पीएम से अपील की है कि राज्य में विमान से ऑक्सीजन भेजी जाए। टीकाकरण की रफ्तार बढ़ाई जाए।

पाकिस्तानी पाठ्यपुस्तकों में पढ़ाया जा रहा काफिर हिंदुओं से नफरत की बातें: BBC उर्दू डॉक्यूमेंट्री में बच्चों ने किया बड़ा खुलासा

वीडियो में कई पाकिस्तानी हिंदुओं को दिखाया गया है, जिन्होंने पाकिस्तान में स्कूल की पाठ्यपुस्तकों में हिंदू विरोधी प्रोपेगेंडा की तरफ इशारा किया है।

‘पेंटर’ ममता बनर्जी को गुस्सा क्यों आता है: CM की कुर्सी से उतर धरने वाली कुर्सी कब तक?

पिछले 3 दशकों से चुनावी और राजनीतिक हिंसा का दंश झेल रही बंगाल की जनता की ओर से CM ममता को सुरक्षा बलों का धन्यवाद करना चाहिए, लेकिन वो उनके खिलाफ जहर क्यों उगल रही हैं?

यूपी के 15,000 प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्कूल हुए अंग्रेजी मीडियम, मिशनरी स्कूलों को दे रहे मात

उत्तर प्रदेश के प्राथमिक विद्यालयों के बच्चे भी मिशनरी व कांवेंट स्कूलों के छात्रों की तरह फर्राटेदार अंग्रेजी बोल सकें। इसके लिए राज्य के 15 हजार स्कूलों को अंग्रेजी मीडियम बनाया गया है, जहाँ पढ़ कर बच्चे मिशनरी स्कूल के छात्रों को चुनौती दे रहे हैं।

पहले कमल के साथ चाकूबाजी, अगले दिन मुस्लिम इलाके में एक और हिंदू पर हमला: छबड़ा में गुर्जर थे निशाने पर

राजस्थान के छबड़ा में हिंसा क्यों? कमल के साथ फरीद, आबिद और समीर की चाकूबाजी के अगले दिन क्या हुआ? बैंसला ने ऑपइंडिया को सब कुछ बताया।

दिल्ली में नवरात्र से पहले माँ दुर्गा और हनुमान जी की प्रतिमाओं को किया क्षतिग्रस्त, सड़क पर उतरे लोग: VHP ने पुलिस को चेताया

असामाजिक तत्वों ने न सिर्फ मंदिर में तोड़फोड़ मचाई, बल्कि हनुमान जी की प्रतिमा को भी क्षतिग्रस्त कर दिया। बजरंग दल ने किया विरोध प्रदर्शन।

प्रचलित ख़बरें

‘हमें बार-बार जाना पड़ता है, वो वॉशरूम कब जाती हैं’: साक्षी जोशी का PK से सवाल- क्या है ममता बनर्जी का टॉयलेट शेड्यूल

क्लबहाउस पर बातचीत में ‘स्वतंत्र पत्रकार’ साक्षी जोशी ने ममता बनर्जी की शौचालय की दिनचर्या के बारे में उनके चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर से पूछताछ की।

छबड़ा में मुस्लिम भीड़ के सामने पुलिस भी थी बेबस: अब चारों ओर तबाही का मंजर, बिजली-पानी भी ठप

हिन्दुओं की दुकानों को निशाना बनाया गया। आँसू गैस के गोले दागे जाने पर हिंसक भीड़ ने पुलिस को ही दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।

राजस्थान: छबड़ा में सांप्रदायिक हिंसा, दुकानों को फूँका; पुलिस-दमकल सब पर पत्थरबाजी

राजस्थान के बारां जिले के छबड़ा में सांप्रदायिक हिसा के बाद कर्फ्यू लगा दिया गया गया है। चाकूबाजी की घटना के बाद स्थानीय लोगों ने...

रूस का S-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम और US नेवी का भारत में घुसना: ड्रैगन पर लगाम के लिए भारत को साधनी होगी दोधारी नीति

9 अप्रैल को भारत के EEZ में अमेरिका का सातवाँ बेड़ा घुस आया। देखने में जितना आसान है, इसका कूटनीतिक लक्ष्य उतनी ही कॉम्प्लेक्स!

भाई ने कर ली आत्महत्या, परिवार ने 10 दिनों तक छिपाई बात: IPL के ग्राउंड में चमका टेम्पो ड्राइवर का बेटा, सहवाग भी हुए...

IPL की नीलामी में चेतन सकारिया को अच्छी खबर तो मिली, लेकिन इससे तीन सप्ताह पहले ही उनके छोटे भाई ने आत्महत्या कर ली थी।

जहाँ खालिस्तानी प्रोपेगेंडाबाज, वहीं मन की बात: क्लबहाउस पर पंजाब का ठेका तो कंफर्म नहीं कर रहे थे प्रशांत किशोर

क्लबहाउस पर प्रशांत किशोर का होना क्या किसी विस्तृत योजना का हिस्सा था? क्या वे पंजाब के अपने असायनमेंट को कंफर्म कर रहे थे?
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,173FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe