Sunday, March 7, 2021
Home राजनीति जमानत पर सिर्फ़ साध्वी प्रज्ञा ही नहीं सोनिया, राहुल, कन्हैया भी लड़ रहे हैं...

जमानत पर सिर्फ़ साध्वी प्रज्ञा ही नहीं सोनिया, राहुल, कन्हैया भी लड़ रहे हैं लोकसभा चुनाव

प्रज्ञा ठाकुर के विरोध में उठने वाली ये आवाज़ दिन पर दिन बुलंद हो रही हैं। जबकि विपक्ष के कुछ नेता ऐसे हैं जिनका नाम बड़े-बड़े घोटालों में शामिल होने के बाद भी वो न केवल चुनाव लड़ रहे हैं बल्कि 'राष्ट्रीय पार्टी' के अध्यक्ष या फिर सबसे बड़ा चेहरा बने बैठे हैं।

इन दिनों एक ओर लोकसभा चुनाव के कारण पूरे देश का माहौल गरमाया हुआ है तो वहीं दूसरी ओर भोपाल की लोकसभा सीट पर साध्वी प्रज्ञा सिंह को टिकट मिलने से विपक्ष में भी काफ़ी हलचल है। साध्वी प्रज्ञा के मालेगाँव ब्लास्ट में आरोपित होने का उलाहना देकर विरोधी लगातार भाजपा को घेरने का प्रयास कर रहे हैं।

बार-बार इस बात को उठाया जा रहा है कि जिन साध्वी प्रज्ञा ने अपनी बिगड़ी तबियत के कारण जमानत ली थी, वो आज चुनाव प्रचार में इतनी सक्रिय कैसे हैं? प्रज्ञा के विरोध में उठने वाली ये आवाज़ दिन पर दिन बुलंद हो रही हैं। जबकि विपक्ष के कुछ नेता ऐसे हैं जिनका नाम बड़े-बड़े घोटालों में शामिल होने के बाद भी वो न केवल चुनाव लड़ रहे हैं बल्कि ‘राष्ट्रीय पार्टी’ के अध्यक्ष या फिर सबसे बड़ा चेहरा बने बैठे हैं।

1. सोनिया गाँधी

इस सूची में सबसे पहला नाम यूपीए की अध्यक्ष सोनिया गाँधी का है जो इस बार भी रायबरेली से चुनाव लड़ेंगी। सोनिया को टक्कर देने के लिए भाजपा के दिनेश प्रताप सिंह (निरहुआ) भाजपा की ओर से मैदान में उतरे हैं। सोनिया गाँधी के ख़िलाफ़ नेशनल हेरॉल्ड केस में मामला दर्ज है। ये एक ऐसा केस है जिसमें गाँधी परिवार के किसी शख्स का नाम प्रत्यक्ष रूप से शामिल है। इस केस को साल 2012 में भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी अदालत ले गए थे। इसी मामले में दिल्ली की पटियाला हाउस अदालत ने 19 दिसंबर 2015 को सोनिया और राहुल को जमानत दी थी।

2. राहुल गाँधी

यूपीए अध्यक्ष सोनिया गाँधी के बेटे और कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने भी नेशनल हेराल्ड केस के कारण खूब आलोचनाएँ झेली हैं। 2019 में राहुल वायनाड और अमेठी से चुनाव लड़ रहे हैं। अमेठी में उनके ख़िलाफ़ भाजपा ने स्मृति इरानी और वायनाड में एनडीए ने तुषार वेल्लापुली को उतारा है। राहुल गाँधी भी अदालत से जमानती कैंडिडेट हैं।

3.शशि थरूर

कॉन्ग्रेस के कद्दावर नेता शशि थरूर पर सुनंदा पुष्कर की हत्या के मामले में केस दर्ज है। घटना 2014 की है, जब शशि थरूर की पत्नी सुनंदा दिल्ली के लीला पैलेस (5 सितारा होटल) में मृत पाई गई थीं। शुरूआत में इसे स्वाभाविक मौत माना जा रहा था, लेकिन बाद में एम्स की रिपोर्ट ने खुलासा किया कि उन्हें ज़हर देकर मारा गया है। इस मामले में थरूर से पूछताछ शुरू हुई। साल 2018 में दिल्ली पुलिस ने उनकी न्यायिक हिरासत की माँग की, जिस पर थरूर ने अग्रिम जमानत की माँग की थी। इसके बाद दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट द्वारा उन्हें 5 जुलाई 2018 को जमानत दे दी गई थी। साथ ही थरूर के विदेश जाने पर भी रोक लगा दी गई थी। इस बार थरूर तिरूवनंतपुरम की लोकसभा सीट पर चुनाव लड़ेंगे। पिछले दो बार से वो यहाँ जीत दर्ज कराते आ रहे हैं।

4. कन्हैया कुमार

जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार पर साल 2016 में देशविरोधी नारेबाजी करने का आरोप है। 11 फरवरी 2016 में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् की शिकायत पर कन्हैया और उसके साथियों पर देशद्रोह का केस दर्ज हुआ था। 12 फरवरी 2016 इस मामले में कन्हैया गिरफ्तार हुए और 26 अगस्त को कन्हैया को जमानत मिली।

मामले के तीन साल बाद साल 2019 में फिर दिल्ली पुलिस ने केस में चार्जशीट दायर की है। जिसके मद्देनज़र कोर्ट ने दिल्ली सरकार को 23 जुलाई से पहले फैसला लेने को कहा है। कन्हैया के सुर्खियों में आने के बाद से ही अंदाजा लगाया जा रहा था कि वे साल 2019 में चुनाव लड़ सकते हैं जो कि सच हुआ। 32 साल के कन्हैया पहली बार सीपीआई की ओर से बेगुसराय सीट पर चुनाव लड़ेंगे। कन्हैया के ख़िलाफ़ भाजपा ने गिरिराज सिंह को उतारा है और आरजेडी ने तनवीर हसन को।

5. पप्पू यादव

पप्पू यादव जन अधिकार पार्टी की ओर बिहार की मधेपुर लोकसभा सीट पर चुनाव लड़ेंगे। उनके विपक्षी आरजेडी से शरद यादव और जेडीयू से दिनेश चंद्र यादव होंगे। यूं तो आपराधिक रिकॉर्डों के मामले में पप्पू का इतिहास पुराना है लेकिन हाल ही में उन्हें दो मामलों में ज़मानत दी गई है। पहली 25 साल पुराने पुलिस से बदसलूकी के मामले में और दूसरी आचार संहिता के उल्लंघन के आरोप में।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आज मनसुख हिरेन, 12 साल पहले भरत बोर्गे: अंबानी के खिलाफ साजिश में संदिग्ध मौतों का ये कैसा संयोग!

मनसुख हिरेन की मौत के पीछे साजिश की आशंका जताई जा रही है। 2009 में ऐसे ही भरत बोर्गे की भी संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हुई थी।

CM योगी से मिला किसानों का प्रतिनिधिमंडल, कहा- कृष‍ि कानूनों पर भड़का रहे लोग, आंदोलन से आवागमन बाधित होने की शिकायत

मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने किसानों के हितों की रक्षा का भरोसा दिलाते हुए कहा कि नए कृषि कानून उनकी आय दोगुनी करने के उद्देश्य से लागू किए गए हैं और इससे कृषकों की आय में निरंतर वृद्धि होगी।

पिछले 1000-1200 वर्षों से बंगाल में हो रही गोहत्या, कोई नहीं रोक सकता: ममता के मंत्री सिद्दीकुल्लाह का दावा

"उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने यहाँ आकर कहा था कि अगर भाजपा सत्ता में आती है, तो वह राज्य में गोहत्या को समाप्त कर देगी।"

‘फेक न्यूज फैक्ट्री’ कॉन्ग्रेस का पैतरा फेल: असम में BJP को बदनाम करने के लिए शेयर किया झारखंड के मॉकड्रिल का पुराना वीडियो

कॉन्ग्रेस को फेक न्यूज की फैक्ट्री कहते हुए बीजेपी के मंत्री ने लिखा, “वीडियो में 2 मिनट पर देखें, किस तरह से झारखंड के मॉक ड्रिल को असम पुलिस द्वारा शूटिंग बताया जा रहा है।”

नंदीग्राम में ममता और शुभेंदु के बीच महामुकाबला: बीजेपी ने पहले और दूसरे फेज के लिए 57 कैंडिडेट्स के नामों का किया ऐलान

पश्चिम बंगाल विधान सभा चुनाव को लेकर भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने 57 सीटों पर कैंडिडेट्स की लिस्ट जारी कर दी है। नंदीग्राम सीट से ममता के अपोजिट शुभेंदु अधिकारी को टिकट दिया गया है।

‘एक बेटा तो चला गया, कोर्ट-कचहरी में फँसेंगे तो वो बाकियों को भी मार देंगे’: बंगाल पुलिस की क्रूरता के शिकार एक परिवार का...

पश्चिम बंगाल में राजनीतिक हिंसा आम बात है। इसी तरह की एक घटना बैरकपुर थाना क्षेत्र के भाटपाड़ा में जून 25, 2019 को भी हुई थी, जब रिलायंस जूट मिल पर कुछ गुंडों ने बम फेंके थे।

प्रचलित ख़बरें

माँ-बाप-भाई एक-एक कर मर गए, अंतिम संस्कार में शामिल नहीं होने दिया: 20 साल विष्णु को किस जुर्म की सजा?

20 साल जेल में बिताने के बाद बरी किए गए विष्णु तिवारी के मामले में NHRC ने स्वत: संज्ञान लिया है।

‘शिवलिंग पर कंडोम’ से विवादों में आई सायानी घोष TMC कैंडिडेट, ममता बनर्जी ने आसनसोल से उतारा

बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए टीएमसी ने उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है। इसमें हिंदूफोबिक ट्वीट के कारण विवादों में रही सायानी घोष का भी नाम है।

‘वे पेरिस वाले बँगले की चाभी खोज रहे थे, क्योंकि गर्मी की छुट्टियाँ आने वाली हैं’: IT रेड के बाद तापसी ने कहा- अब...

आयकर छापों पर चुप्पी तोड़ते हुए तापसी पन्नू ने बताया है कि मुख्य रूप से तीन चीजों की खोज की गई।

‘40 साल के मोहम्मद इंतजार से नाबालिग हिंदू का हो रहा था निकाह’: दिल्ली पुलिस ने हिंदू संगठनों के आरोपों को नकारा

दिल्ली के अमन विहार में 'लव जिहाद' के आरोपों के बाद धारा-144 लागू कर दी गई है। भारी पुलिस बल की तैनाती है।

मनसुख हिरेन का शव लेने से परिजनों का इनकार, कहा- पोस्टमार्टम रिपोर्ट सार्वजनिक हो, मौत का कारण बताएँ: रिपोर्ट

मनसुख हिरेन का शव लेने से परिजनों ने इनकार कर दिया है। उनका कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट सार्वजनिक किए जाने के बाद ही वे शव लेंगे।

पिछले 1000-1200 वर्षों से बंगाल में हो रही गोहत्या, कोई नहीं रोक सकता: ममता के मंत्री सिद्दीकुल्लाह का दावा

"उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने यहाँ आकर कहा था कि अगर भाजपा सत्ता में आती है, तो वह राज्य में गोहत्या को समाप्त कर देगी।"
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,301FansLike
81,964FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe