Wednesday, May 22, 2024
Homeराजनीतिअखिलेश यादव और जयंत चौधरी के साथ लगाए गए राकेश टिकैत के पोस्टर: विरोध...

अखिलेश यादव और जयंत चौधरी के साथ लगाए गए राकेश टिकैत के पोस्टर: विरोध के बाद हटाए गए, बताया- राजनीतिक स्टंट

“हार गया अभिमान, जीत गया किसान। सब याद रखा जाएगा।” पोस्‍टर पर एक तरफ सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के साथ रालोद नेता जयंत चौधरी दिख रहे हैं तो बीच में तिरंगा लिए राकेश टिकैत दिखाई दे रहे हैं।

मेरठ में एनएच 58 पर अखिलेश यादव और जयंत चौधरी के साथ राकेश टिकैत की तस्वीर वाले पोस्टर पर मचे बवाल के बाद इसे हटा दिया गया है। दरअसल, यूपी में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर हर राजनीतिक दल अपने-अपने हथकंडे आजमा रहा है। इस बीच मेरठ में अखिलेश-जयंत के साथ तिरंगा लहराते राकेश टिकैत की फोटो पोस्‍टर पर दिखी।

राकेश टिकैत की तिरंगा लहराने वाली फोटो के साथ इस पोस्‍टर पर लिखा था, “हार गया अभिमान, जीत गया किसान। सब याद रखा जाएगा।” पोस्‍टर पर एक तरफ सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के साथ रालोद नेता जयंत चौधरी दिख रहे हैं तो बीच में तिरंगा लिए राकेश टिकैत दिखाई दे रहे हैं। भाकियू ने इस पर आपत्ति जताते हुए इसे राजनीतिक स्‍टंट करार दिया है। नेताओं ने कहा है कि इस पोस्‍टर से उनके संगठन का कुछ भी लेना-देना नहीं है। भाकियू ने स्‍पष्‍ट किया है कि उनका संगठन पूरी तरह अराजनीतिक है। किसी भी पार्टी से उनका कोई लेना-देना नहीं इसीलिए उनके नेता के चेहरे का चुनावी इस्‍तेमाल किसी को नहीं करना चाहिए।

भकियू कार्यकर्ताओं का कहना था कि उन्होंने पोस्टर नहीं देखें हैं। लेकिन अगर ऐसे पोस्टर लगे हैं तो ये राजनीतिक स्टंट है। इनसे भकियू का कोई लेना देना नहीं है। कार्यकर्ताओं का कहना है कि सिर्फ किसान हित में काम करते हैं। अगर कोई वोट के लिए राकेश टिकैत का फोटो लगा रहा है तो ये अनुचित है क्योंकि उनका यूनियन अराजनैतिक है। वैसे इस विवाद पर अखिलेश यादव या फिर जयंत ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। राकेश टिकैत ने भी आगे आकर कोई बयान नहीं दिया है।

जानकारी के अनुसार कृषि कानूनों की वापसी के बाद यूपी गेट बार्डर पर एक साल से ज्यादा समय तक चला किसान आंदोलन खत्म हो गया है। वहीं, किसान नेता भी अपने घरों के लिए रवाना हो गए हैं। इस दौरान आंदोलन के मुख्य चेहरा रहे भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत भी आज गाजीपुर बॉर्डर छोड़ दिया है। गाजीपुर बॉर्डर से जब राकेश टिकैत रवाना हुए, तो उन्होंने सभी का धन्यवाद अदा किया। इस बीच उन पर फूलों की बारिश की गई। किसान गाजीपुर बॉर्डर को खाली करने में जुटे हुए हैं। अभी भी बॉर्डर खाली होने में करीब 1 दिन का वक्त लग सकता है। क्योंकि काफी किसानों के टेंट अभी भी मौके से नहीं हटे हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ध्वस्त कर दिया जाएगा आश्रम, सुरक्षा दीजिए’: ममता बनर्जी के बयान के बाद महंत ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार, TMC के खिलाफ सड़क पर...

आचार्य प्रणवानंद महाराज द्वारा सन् 1917 में स्थापित BSS पिछले 107 वर्षों से जनसेवा में संलग्न है। वो बाबा गंभीरनाथ के शिष्य थे, स्वतंत्रता के आंदोलन में भी सक्रिय रहे।

‘ये दुर्घटना नहीं हत्या है’: अनीस और अश्विनी का शव घर पहुँचते ही मची चीख-पुकार, कोर्ट ने पब संचालकों को पुलिस कस्टडी में भेजा

3 लोगों को 24 मई तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया है। इनमें Cosie रेस्टॉरेंट के मालिक प्रह्लाद भुतडा, मैनेजर सचिन काटकर और होटल Blak के मैनेजर संदीप सांगले शामिल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -