Tuesday, September 28, 2021
Homeराजनीतिपंजाब का मोगा, अकाली दल वाले बादल की रैली: किसानों ने फेंके पत्थर, पुलिस...

पंजाब का मोगा, अकाली दल वाले बादल की रैली: किसानों ने फेंके पत्थर, पुलिस ने बरसाई लाठियाँ

"हमने प्रदर्शनकारियों को कई बार आगाह किया, लेकिन कुछ ने पथराव शुरू कर दिया, जिसके बाद हमें उन्हें तितर-बितर करने के लिए वाटर कैनन का प्रयोग करना पड़ा।"

पंजाब के मोगा जिले में गुरुवार (2 सितंबर 2021) को एक जनसभा कर रहे शिरोमणि अकाली दल के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल का विरोध करने पहुँचे कुछ किसान संगठनों और पुलिस के बीच झड़प हो गई। पुलिस ने वाटर कैनन और लाठीचार्ज किया। इस घटना में कई किसान और पुलिसवाले घायल हो गए।

रिपोर्ट के मुताबिक, सुखबीर बादल विधानसभा चुनाव के मद्देनजर 100 दिनों के पंजाब यात्रा पर निकले हैं। इसी कड़ी में गुरुवार को वे मोगा जिले पहुँचे थे। यहाँ के धर्मकोट स्थित नई अनाज मंडी में उनकी जनसभा हो रही थी। इस दौरान दोपहर के करीब 12 बजे कुछ किसान वहाँ पहुँचे और उनका विरोध करना शुरू कर दिया। ये सभी केंद्रीय कृषि कानूनों को वापस लेने की माँग कर रहे थे। ज्ञात हो कि शिअद ने मोगा से पूर्व मंत्री जत्थेदार तोता सिंह के बेटे बृजेंद्र सिंह मक्खन बराड़ को अपना उम्मीदवार घोषित किया है।

पुलिस ने किसानों को रोक वहाँ से हटाने की कोशिश की, जिससे वे भड़क गए। किसानों पत्थरबाजी शुरू कर दी, जिसके बाद पुलिस और किसानों में तीखी झड़प हुई। इसमें 24 किसान और 6 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं। घायलों में डीएसपी (सिक्योरिटी ब्रांच) गुरुदीप सिंह और 2 इंस्पेक्टर भी शामिल हैं। इसके अलावा एक होमगार्ड के जवान औऱ एक मीडियाकर्मी का सिर फट गया है। इतना ही नहीं किसानों के साथ झड़प में एक दर्जन से अधिक गाड़ियाँ क्षतिग्रस्त हो गईं।

एकबारगी तो प्रदर्शनकारियों के आक्रोश से डरकर पुलिस पीछे हट गई थी। लेकिन बाद में मोर्चा सँभालते हुए लाठीचार्ज औऱ वाटर कैनन से भीड़ को तितर-बितर किया गया। इसके बाद किसानों ने तलवंडी-लुधियाना हाईवे को जाम कर दिया। मोगा के एसपी ध्रुमन निंबाले ने कहा, “हमने प्रदर्शनकारियों को कई बार आगाह किया, लेकिन कुछ ने पथराव शुरू कर दिया, जिसके बाद हमें उन्हें तितर-बितर करने के लिए वाटर कैनन का प्रयोग करना पड़ा। उन्होंने घटनास्थल के पास एक राष्ट्रीय राजमार्ग भी जाम कर दिया था, जिसे बाद में खाली कराया गया।”

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरि के मौत के दिन बंद थे कमरे के सामने लगे 15 CCTV कैमरे, सुबूत मिटाने की आशंका: रिपोर्ट्स

पूरा मठ सीसीटीवी की निगरानी में है। यहाँ 43 कैमरे लगाए गए हैं। इनमें से 15 सीसीटीवी कैमरे पहली मंजिल पर महंत नरेंद्र गिरि के कमरे के सामने लगाए गए हैं।

देश से अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता सरमा ने पेश...

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,789FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe