Monday, July 26, 2021
Homeराजनीतिराजस्थान में बढ़ी सियासी सरगर्मी: BJP ने अपने 12 MLA को गुजरात शिफ्ट किया,...

राजस्थान में बढ़ी सियासी सरगर्मी: BJP ने अपने 12 MLA को गुजरात शिफ्ट किया, राज्य पुलिस ने देशद्रोह मामले में बंद की फाइल

इस मामले में राजस्थान हाइकोर्ट की सिंगल बेंच सुनवाई कर रही है। भाजपा को डर है कि अगर भाजपा में मिले 6 बसपा विधायकों को डिसक्वालीफाई किया जाता है तो उसके विधायकों के खरीद-फरोख्त का प्रयास हो सकता है, इसीलिए उसने इस निर्णय और विधानसभा सत्र से पहले ही विधायकों को गुजरात ले जाने का फैसला किया।

राजस्थान की राजनीति एक बार फिर से गरमा रही है। भाजपा अपने कुछ विधायकों को गुजरात ले गई है, जहाँ पार्टी की ही सरकार है। बता दें कि 14 अगस्त से राज्य में विधानसभा सत्र शुरू होने वाला है, जिसमें बहुमत परीक्षण की माँग उठने की भी उम्मीद है। पार्टी को आशंका है कि उसके विधायकों को खरीदने की कोशिश हो सकती है, इसीलिए उसने ऐसा किया। 11 अगस्त को बसपा-कॉन्ग्रेस मर्जर पर भी कोर्ट का फैसला आना है

इस मामले में राजस्थान हाइकोर्ट की सिंगल बेंच सुनवाई कर रही है। भाजपा को डर है कि अगर भाजपा में मिले 6 बसपा विधायकों को डिसक्वालीफाई किया जाता है तो उसके विधायकों के खरीद-फरोख्त का प्रयास हो सकता है, इसीलिए उसने इस निर्णय और विधानसभा सत्र से पहले ही विधायकों को गुजरात ले जाने का फैसला किया। इसी कड़ी में उदयपुर के 5 विधायकों को गुजरात ले जाया गया है। इससे वहाँ सरगर्मी फिर बढ़ गई है।

उधर राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे भी सक्रिय हो गई हैं। राजनीतिक सरगर्मी के बीच वो धौलपुर से दिल्ली के लिए रवाना हुई हैं। राजे बुधवार (अगस्त 5, 2020) को दिल्ली के लिए निकलीं। माना जा रहा है कि दिल्ली दौरे के दौरान उन्होंने पार्टी के कई नेताओं से मुलाकात की है। वो पिछले कुछ दिनों से राजधानी जयपुर में नहीं थीं, जिसके बाद उनके रुख को लेकर चर्चा चलने लगी थी। अब वो वरिष्ठ भाजपा नेताओं से मिल रही हैं।

उन्होंने भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से मिल कर भी नाराजगी जताई है और प्रदेश में अपने ख़िलाफ़ हुई बयानबाजी को लेकर चर्चा की। बता दें कि कुछ लोगों ने वसुंधरा राजे और अशोक गहलोत में मिलीभगत का आरोप लगाया था। प्रदेश में पार्टी के अलग-अलग गुट बनने के कारण वो नाराज़ हैं। कहा जा रहा है कि अब तक भाजपा ने अपने 12 विधायकों को गुजरात शिफ्ट किया है। उदयपुर से गुजरात की दूरी भी कम है।

उधर राजस्थान पुलिस की SOG ने राष्ट्रद्रोह के 3 मामलों की जाँच बन्द कर दी है, जिसमें पूर्व उप-मुख्यमंत्री सचिन पायलट को भी नोटिस भेजा गया था। ये मामला अशोक गहलोत सरकार को उखाड़ फेंकने के आरोपों से जुड़ा हुआ था। अब इस मामले में केस बंद करते हुए फाइनल रिपोर्ट डाल दी गई है। भाजपा ने इस मामले में कॉन्ग्रेस पर हमला किया है। पार्टी ने कहा कि 28 दिन जाँच चली लेकिन कुछ नहीं निकला।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘हम आपको नहीं सुनेंगे…’: बॉम्बे हाईकोर्ट से जावेद अख्तर को झटका, कंगना रनौत से जुड़े मामले में आवेदन पर हस्तक्षेप से इनकार

जस्टिस शिंदे ने कहा, "अगर हम इस तरह के आवेदनों को अनुमति देते हैं तो अदालतों में ऐसे मामलों की बाढ़ आ जाएगी।"

सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस रहे मदन लोकुर से पेगासस ‘इंक्वायरी’ करवाएँगी ममता बनर्जी, जिस NGO से हैं जुड़े उसे विदेशी फंडिंग

पेगासस मामले की जाँच के लिए गठित आयोग का नेतृत्व सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश मदन लोकुर करेंगे। उनकी नियुक्ति सीएम ममता बनर्जी ने की है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,294FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe