Thursday, May 30, 2024
Homeराजनीति'राज्यसभा नहीं देने पर आरोप लगा देते हैं': अब CM केजरीवाल के समर्थन में...

‘राज्यसभा नहीं देने पर आरोप लगा देते हैं’: अब CM केजरीवाल के समर्थन में उतरे राकेश टिकैत, कुमार विश्वास पर लगा दिया बड़ा आरोप

"वो आंदोलनकारी तो हैं। लेकिन इस तरह के नहीं लगते। कुमार विश्वास तो इनकी पार्टी में था। इन दोनों के बीच राज्यसभा पर कुछ रोड़ा हुआ था। अगर राज्यसभा मिल जाती तो बढ़िया था।"

डॉ कुमार विश्वास द्वारा अरविंद केजरीवाल को खालिस्तान का समर्थक बताने के बाद अब भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत केजरीवाल के सपोर्ट में उतर आए हैं। टिकैत ने कहा है कि अगर कुमार विश्वास को आम आदमी पार्टी से राज्यसभा का टिकट मिल जाता तो शायद वो ये आरोप नहीं लगाते।

समाचार एजेंसी एएनआई के साथ बातचीत में राकेश टिकैत ने कहा, “वो आंदोलनकारी तो हैं। लेकिन इस तरह के नहीं लगते। कुमार विश्वास तो इनकी पार्टी में था। इन दोनों के बीच राज्यसभा पर कुछ रोड़ा हुआ था। अगर राज्यसभा मिल जाती तो बढ़िया था। राज्यसभा नहीं दिए तो फिर आरोप लगा देते हैं। इसलिए इस तरह का मामला तो नहीं लगता।”

गौरतलब है कि हाल ही में कवि कुमार विश्वास ने केजरीवाल को लेकर कहा था, “उसने (केजरीवाल ने) मुझसे ऐसी भयानक बातें बोली हैं जो पंजाब में सभी को पता है। एक दिन जब मैंने उससे 2020 के जनमत संग्रह के बारे में बात की तो वो कहता है कि तू चिंता मत कर एक दिन मैं या तो स्वतंत्र सूबे का मुख्यमंत्री बनूँगा या फिर स्वतंत्र राष्ट्र (खालिस्तान) का पहला प्रधानमंत्री बनूँगा। जब मैंने बताया कि इस रेफरेंडम को आईएसआई से लेकर दुनिया भर के अलगाववादी तत्व फंडिंग कर रहे हैं तो उन्होंने मुझे चिंता नहीं करने को कहा।”

इसके जवाब ने सीएम केजरीवाल ने अपने ‘विकास कार्यों’ को गिनाते हुए खुद को ‘स्वीट टेररिस्ट’ करार दिया था। इसका जवाब देते हुए कुमार विश्वास ने कहा था, “केजरीवाल बड़े ही आत्मविश्वास के साथ कोई भी सफेद झूठ बोलने में माहिर हैं। ऐसी सूरत बना के ये सिद्ध करते हैं कि पूरी दुनिया इनके पीछे पड़ी है। मैं ये पूछना चाहता हूँ कि भाई आपको तो किसी ने आतंकी नहीं कहा। ये देश को बताइए कि क्या पिछले चुनाव में आपके घर पर आतंकी संगठनों से सहानुभूति रखने वाले लोग आते थे या नहीं? जब मैंने इस पर आपत्ति जाहिर की थी तो मुझे पार्टी की पंजाब की बैठकों से बाहर कर दिया गया था।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

बाँटने की राजनीति, बाहरी ताकतों से हाथ मिला कर साजिश, प्रधान को तानाशाह बताना… क्या भारतीय राजनीति के ‘बनराकस’ हैं राहुल गाँधी?

पूरब-पश्चिम में गाँव को बाँटना, बाहरी ताकत से हाथ मिला कर प्रधान के खिलाफ साजिश, शांति समझौते का दिखावा और 'क्रांति' की बात कर अपने चमचों को फसलना - 'पंचायत' के भूषण उर्फ़ 'बनराकस' को देख कर आपको भारत के किस नेता की याद आती है?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -