Wednesday, November 30, 2022
Homeराजनीतिआर्यन खान को नशामुक्ति केंद्र भेजो, पिछड़ा वर्ग से होने के कारण समीर वानखेड़े...

आर्यन खान को नशामुक्ति केंद्र भेजो, पिछड़ा वर्ग से होने के कारण समीर वानखेड़े को बार-बार निशाना बनाया जा रहा: केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले

अठावले ने अभिनेता शाहरुख खान को सलाह देते हुए कहा कि शाहरुख को आर्यन को सुधारना चाहिए। उन्हें एक या दो महीने के लिए नशा मुक्ति केंद्र में भेज देना चाहिए, ताकि वो ड्रग्स की लत से छुटकारा पा सकें।

बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को ड्रग्स केस में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) द्वारा गिरफ्तार किए जाने के बाद से इस मुद्दे पर लगातार राजनीति हो है। एनसीपी नेता और महाराष्ट्र सरकार के मंत्री नवाब मलिक लगातार एनसीबी के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े पर आरोप लगा रहे हैं। अब केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले समीर वानखेड़े के समर्थन में आ गए हैं। अठावले ने आर्यन खान को नशामुक्ति केंद्र में भेजने की सलाह दी है।

रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया ने स्पष्ट कर दिया कि इस मुद्दे पर एनसीबी का साथ देगी। आरपीआई के प्रमुख अठावले ने नवाब मलिक पर बार-बार समीर वानखेड़े के चरित्र को ठेस पहुँचाने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि वानखेड़े पर लगे आरोपों का कोई भी सबूत नहीं है। केंद्रीय मंत्री ने आगे कहा, “वानखेड़े पिछड़ी जाति से हैं, इसलिए जानबूझकर उन्हें बदनाम किया जा रहा है। वो बहुत ही बेहतर अधिकारी हैं। एनसीबी अच्छा काम कर रही है। नवाब मलिक झूठे आरोप लगा रही हैं। जाँच एजेंसी ने उनके दामाद के खिलाफ कार्रवाई की थी, जिससे वो चिढ़े हुए हैं।”

आर्यन को नशामुक्ति केंद्र भेजने की सलाह

ड्रग्स केस में केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने अभिनेता शाहरुख खान को भी सलाह दे दी है। उन्होंने कहा कि शाहरुख को आर्यन को सुधारना चाहिए। उन्हें एक या दो महीने के लिए नशा मुक्ति केंद्र में भेज देना चाहिए, ताकि वो ड्रग्स की लत से छुटकारा पा सकें।

गौरतलब है कि आर्यन खान को 3 अक्टूबर को मुंबई से गोवा जा रही कॉर्डेलिया क्रूज शिप पर ड्रग्स पार्टी चल रही थी। उसी दौरान एनसीबी की टीम ने वहाँ पर रेड कर दी। इसी दौरान आर्यन खान समेत कई अन्य को गिरफ्तार किया गया था। तभी से एनसीपी के नेता नवाब मलिक लगातार समीर वानखेड़े को निशाना बना रहे हैं। हाल ही उन्होंने वानखेड़े पर बॉलीवुड के लोगों को डराकर वसूली करने का आरोप लगाया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रोता हुआ आम का पेड़, आरती के समय मंदिर में देवता को प्रणाम करने वाला ताड़ का वृक्ष… वेदों से प्रेरित था जगदीश चंद्र...

छुईमुई का पौधा हमारे छूते ही प्रतिक्रिया देता है। जगदीश चंद्र बोस ने दिखाया कि अन्य पेड़-पौधों में भी ऐसा होता है, लेकिन नंगी आँखों से नहीं दिखता।

‘मौलाना साद को सौंपी जाए निजामुद्दीन मरकज की चाबियाँ’: दिल्ली HC के आदेश पर पुलिस को आपत्ति नहीं, तबलीगी जमात ने फैलाया था कोरोना

दिल्ली हाईकोर्ट ने पुलिस को तबलीगी जमात के निजामुद्दीन मरकज की चाबी मौलाना साद को सौंपने की हिदायत दी। पुलिस ने दावा किया है कि वह फरार है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
236,143FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe