Saturday, June 22, 2024
Homeराजनीति'कैमरा-माइक बाहर रख कर आइए': तेज प्रताप की बातें सुन सरपट भागा पत्रकार, पीछा...

‘कैमरा-माइक बाहर रख कर आइए’: तेज प्रताप की बातें सुन सरपट भागा पत्रकार, पीछा करते-करते पहुँच गए माँझी के आवास

उसने तेज प्रताप यादव से पूछा कि क्या वो उससे नाराज हैं? तेज प्रताप यादव ने जवाब दिया, "नहीं, आप अपना माइक और कैमरा बाहर रख कर आइए।"

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप लगातार सुर्ख़ियों में बने हुए हैं। हाल ही में राजद नेता रामराज यादव ने उन पर नंगा कर के कमरे में बंद कर के पिटाई करने का आरोप लगाया। इसके बाद तेज प्रताप यादव राजद से इस्तीफे का ऐलान कर के सुर्ख़ियों में आ गए। अब उनका इंटरव्यू लेने आए एक पत्रकार को उन्होंने न सिर्फ दौड़ा दिया बल्कि उसका वीडियो भी बनाया। फिर वो पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम माँझी के घर पहुँचे।

ये वीडियो उन्होंने खुद अपने सोशल मीडिया हैंडल्स से बुधवार (27 अप्रैल, 2022) को दोपहर में शेयर किया था। इसमें देखा जा सकता है कि कैसे वो पत्रकार का पीछा कर रहे हैं। उनका इंटरव्यू लेने आया पत्रकार एक यूट्यूब चैनल से ताल्लुक रखता है। वो बिहार के पूर्व मंत्री के घर पहुँचा था। उसने तेज प्रताप यादव से पूछा कि क्या वो उससे नाराज हैं? तेज प्रताप यादव ने जवाब दिया, “नहीं, आप अपना माइक और कैमरा बाहर रख कर आइए।”

इतना सुनते ही उक्त पत्रकार अपनी कार में बैठ कर वहाँ से किसी तरह निकल भागा। इस दौरान भी तेज प्रताप यादव उसके पीछे-पीछे कुछ दूर तक चलते रहे। बाद में उन्होंने दावा किया कि ये वही पत्रकार है, जिसने उन्हें बदनाम करने का प्रयास किया है। तेज प्रताप यादव इसके बाद भी लगातार वीडियो बनाते रहे और सीधे ‘हिंदुस्तान आवाम मोर्चा (HAM)’ के संस्थापक जीतन राम माँझी के यहाँ पहुँचे। उन्होंने दिखाया कि अब उक्त पत्रकार की गाड़ी यहीं पर लगी हुई है।

तेज प्रताप यादव ने इसके बाद दावा किया कि उनके विरुद्ध जीतन राम माँझी के आवास से ही सारी साजिश रची जा रही है। तेज प्रताप यादव ने अब तक राजद से इस्तीफा तो नहीं दिया है, लेकिन अपना आवास छोड़ कर राबड़ी देवी के 10 सर्कुलर रोड स्थित निवास पर शिफ्ट हो गए हैं। तेजस्वी यादव भी अपनी पत्नी के साथ यहीं पर रहते हैं। लालू यादव भी जब दिल्ली से लौटते हैं तो उनका यही ठिकाना होता है। नजरें अब तेज प्रताप यादव के अगले कदम पर है।

हाल ही में रामराज यादव ने आरोप लगाया था, “इफ्तार पार्टी के दिन मुझे पार्टी के द्वारा 3 नंबर पंडाल की जिम्मेदारी दी गई थी। उस दिन करीब 3 जब मैं 10 नंबर पंडाल पर अपने महानगर के पदाधिकारियों को ड्यूटी पर लगा रहा था तो तेज प्रताप यादव मुझे कमरे में लेकर गए। उसके बाद जो सुलूक मेरे साथ किया गया, उससे आज भी मेरा रोया खड़ा हो जाता है…मुझे धमकी दी गई तो आरजेडी छोड़ दो, अन्यथा 10 दिन में तुम्हें गोली मरवा देंगे।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नालंदा विश्वविद्यालय को ब्राह्मणों ने ही जलाया था, 11वीं सदी का शिलालेख है साक्ष्य!!

नालंदा विश्वविद्यालय को ब्राह्मणों ने ही जलाया था, बख्तियार खिलजी ने नहीं। ब्राह्मण+बुर्के वाली के संभोग को खोद निकाला है इस इतिहासकार ने।

10 साल जेल, ₹1 करोड़ जुर्माना, संपत्ति भी जब्त… पेपर लीक के खिलाफ आ गया मोदी सरकार का सख्त कानून, NEET-NET परीक्षाओं में गड़बड़ी...

परीक्षा आयोजित करने में जो खर्च आता है, उसकी वसूली भी पेपर लीक गिरोह से ही की जाएगी। केंद्र सरकार किसी केंद्रीय जाँच एजेंसी को भी ऐसी स्थिति में जाँच सौंप सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -