Thursday, June 20, 2024
Homeराजनीति'BJP ने मुझ जैसे सामान्य कार्यकर्ता को 18 साल CM बनाए रखा, अब पार्टी...

‘BJP ने मुझ जैसे सामान्य कार्यकर्ता को 18 साल CM बनाए रखा, अब पार्टी को लौटाने का वक्त’: बोले शिवराज सिंह चौहान – 2005 में उमा भारती की मेहनत से बनी थी सरकार

"2005 में मैं सीएम बना, वह सरकार उमा भारती की मेहनत से बनी थी। अब भी मैं संतुष्ट हूँ। वर्तमान जीत में केंद्र और राज्य की अन्य योजनाओं के साथ लाडली बहना योजना का भी योगदान है।"

मध्य प्रदेश में डॉ मोहन यादव ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। भारतीय जनता पार्टी ने उन्हें शिवराज सिंह चौहान की जगह प्रदेश की कमान सौंपी है। इस बीच, शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार (12 दिसंबर, 2023) को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया। उनसे पत्रकारों ने सवाल किया कि क्या बीजेपी ने उन्हें इतनी मेहनत कर पार्टी को बंपर जीत दिलाने की बाद भी मुख्यमंत्री न बनाकर अन्याय किया है? क्या वो बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व से नाराज है? इसके जवाब में शिवराज सिंह चौहान ने जो कुछ भी कहा, उसकी लोग तारीफ कर रहे हैं।

मध्य प्रदेश के 4 बार मुख्यमंत्री रह चुके शिवराज सिंह चौहान ने कहा, “मैं आज कह रहा हूँ, एक साधारण कार्यकर्ता को 18 साल तक मुख्यमंत्री बनाकर रखा भारतीय जनता पार्टी ने, कोई दूसरा पहलू नहीं देखते क्या? एक साधारण कार्यकर्ता को इतने साल भारतीय जनता पार्टी जिसने मुख्यमंत्री बनाकर रखा, सबकुछ दिया भारतीय जनता पार्टी ने, अब मुझे भारतीय जनता पार्टी को देने का वक्त आया है।”

शिवराज सिंह चौहान के बयान का मतलब एक साफ है। वो कहीं नहीं जा रहे हैं। वो बीजेपी संगठन में सक्रिय रहेंगे। अगर कोई उनके बारे में ये अंदाजा लगा रहा है कि वो बीजेपी ने नाराज होकर सक्रिय राजनीति ही छोड़ रहे हैं, तो वो अंदाजा गलत है। चूँकि भारतीय जनता पार्टी के वो राष्ट्रीय उपाध्यक्ष भी रहे हैं, ऐसे में हो सकता है कि मध्य प्रदेश में उन्हें भाजपा लोकसभा चुनाव में उतारे और फिर 2024 की मोदी सरकार में बड़ी जिम्मेदारी सौंपे। वैसे भी, शिवराज सिंह चौहान के पास 18 सालों के मुख्यमंत्री पद का जो अनुभव है, उसे बीजेपी यूँ ही तो जाया नहीं करने वाली, फिर शिवराज सिंह चौहान अभी महज 64 साल के हैं।

इस प्रेस कॉन्ग्रेस के दौरान शिवराज सिंह चौहान ने कई अहम मुद्दों पर अपनी बात रखी थी। शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि उन्हें इस बात की संतुष्टि है कि वो बीजेपी को शानदार जीत दिलाने के बाद पद से हटे हैं। अब तक की सबसे बड़ी जीत पार्टी को मिली है। फिर मैं पार्टी का एक अदना सा कार्यकर्ता हूँ, पार्टी जो भी आदेश देगी, उसे मानते हुए मैं अपने काम में जुट जाऊँगा।

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार (12 दिसंबर, 2023) को कहा कि मैं बहुत संतुष्ट हूँ। उन्होंने कहा, “2005 में मैं सीएम बना, वह सरकार उमा भारती की मेहनत से बनी थी। अब भी मैं संतुष्ट हूँ। वर्तमान जीत में केंद्र और राज्य की अन्य योजनाओं के साथ लाडली बहना योजना का भी योगदान है।” इस दौरान उन्होंने कहा, “मुख्यमंत्री रहते हुए भी कभी जनता से मेरे मुख्यमंत्री वाले रिश्ते नहीं रहे, परिवार के रिश्ते रहे हैं। मामा का रिश्ता प्यार और भैया का रिश्ता विश्वास का होता है। प्यार और विश्वास के रिश्ते को जब तक मेरी साँस चलेगी, तब तक मैं टूटने नहीं दूँगा। जनता की सेवा भगवान की पूजा है। यह पूजा मैं सदैव करता रहूँगा। क्योंकि उन्होंने मुझे अपना ही माना, कोई दूसरा नहीं माना।”

64 वर्षीय नेता ने यह भी कहा कि उन्होंने नए मुख्यमंत्री से उन्हें सरकारी जमीन मुहैया कराने का अनुरोध किया है ताकि वह पेड़ लगाना जारी रख सकें। बता दें कि शिवराज सिंह चौहान प्रदेश में जहाँ भी रहे, प्रतिदिन एक पौधा लगाते थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -