Saturday, May 18, 2024
HomeराजनीतिEC दफ्तर के बाहर से दिल्ली पुलिस ने उठाया, छोड़ दिया तो थाने में...

EC दफ्तर के बाहर से दिल्ली पुलिस ने उठाया, छोड़ दिया तो थाने में ही बैठ गए TMC नेता: ‘ड्रामा’ लंबा होते देख फुटेज खाने AAP नेता भी पहुँचे

टीएमसी नेता मंदिर मार्ग थाने के बाहर डटे हुए हैं। दिल्ली पुलिस के एसीपी रैंक के अधिकारी टीएमसी नेताओं को उस जगह से हटने के लिए बोल रहे हैं लेकिन टीएमसी नेता अभी हटे नहीं हैं। समाचार एजेंसी एएनआई ने इनके विजुल्स जारी किए हैं।

लोकसभा चुनाव से ठीक पहले 8 अप्रैल 2024 को तृणमूल कॉन्ग्रेस के दिग्गज नेताओं ने जाँच एजेंसियों के प्रमुखों को बदलवाने के लिए निर्वाचन आयोग के बाहर धरना देना शुरू किया। इस बीच दिल्ली पुलिस ने उन्हें शांत करने के लिए अपनी हिरासत में लिया और फिर थाने में कुछ देर बैठाकर इन्हें वापस जाने को कहा, मगर टीएमसी नेताओं ने वहाँ से निकलने के बजाय वहीं पर अपना धरना देना शुरू कर दिया।

अब कल से वो मंदिर मार्ग थाने के बाहर ही डटे हैं। पुलिस हटने को बोल रही है लेकिन वो एक नहीं सुन रहे। उनका कहना है कि वो अपना 24 घंटे का धरना पूरा करके ही जाएँगे। दिल्ली पुलिस के एसीपी रैंक के अधिकारी ने भी टीएमसी नेताओं को उस जगह से हटने को कहा है मगर टीएमसी नेता वहीं हैं।

समाचार एजेंसी एएनआई द्वारा जारी किए गए विजुअल्स में सारे टीएमसी नेताओं को धरने के नाम पर एक साथ बैठकर हँसते हुए देखा जा रहा है। ऐसे में लोग उनके धरने की गंभीरता पर सवाल उठा रहे हैं। वहीं आम आदमी पार्टी से दिल्ली में मंत्री सौरभ भारद्वाज ने भी मंदिर मार्ग पहुँचकर टीएमसी नेताओं से मुलाकात की।

उन्होंने कहा, “जिस तरीके से बंगाल में और देश के अन्य भागों में रोज विपक्षी पार्टियों के नेताओं पर कभी ED, NIA, IT के छापे डाले जा रहे हैं, इससे साफ है कि केंद्र सरकार चाहती है कि विपक्षी पार्टियों को इस चुनाव में बिल्कुल चुप कर दिया जाए।”

बता दें कि लोकसभा चुनाव से ठीक पहले टीएमसी ने सीबीआई, एनआईए, ईडी और आयकर विभागों के प्रमुखों को बदलने की माँग लेकर निर्वाचन आयोग के पास धरना दिया था। टीएमसी नेताओं में प्रमुख नाम तृणमूल कॉन्ग्रेस के सांसद डेरेक ओब्रायन, नदीमुल हक, डोला सेना, साकेत गोखले और सागरिका घोष, विधायक विवेक गुप्ता, पूर्व सांसद अर्पिता घोष, शांतनु सेन तथा अबीर रंजन बिश्वासन एवं पार्टी की छात्र शाखा की पश्चिम बंगाल इकाई के उपाध्यक्ष सुदीप राहा भी हैं। दिल्ली पुलिस ने इन्हें शाम में हिरासत में लिया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अनुच्छेद 370 को हमने कब्रिस्तान में गाड़ दिया, इसे वापस नहीं लाया जा सकता’: PM मोदी बोले- अलगाववाद को खाद-पानी देने वाली कॉन्ग्रेस ने...

पीएम मोदी ने कहा, "आजादी के बाद गाँधी जी की सलाह पर अगर कॉन्ग्रेस को भंग कर दिया गया होता, तो आज भारत कम से कम पाँच दशक आगे होता।

स्वाति मालीवाल पर AAP का यूटर्न: पहले पार्टी ने कहा कि केजरीवाल के पीए विभव ने की बदतमीजी, अब महिला सांसद के आरोप को...

कल तक स्वाति मालीवाल के साथ खड़ा रहने का दावा करने वाली आम आदमी पार्टी ने अब यू टर्न ले लिया है और विभव कुमार के बचाव में खड़ी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -