BJP के हुए छत्रपति शिवाजी के वंशज, उदयनराजे भोसले ने लोकसभा से भी दिया इस्तीफा

सतारा से तीन बार सांसद रहे भोसले के भाजपा में शामिल होने की अटकलें काफी समय से लग रही थी। शुक्रवार को उन्होंने ट्वीट कर खुद बीजेपी में जाने की जानकारी दी थी।

महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव से पहले राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) को शनिवार को बड़ा झटका लगा। सतारा से पार्टी सांसद उदयनराजे भोसले ने बीजेपी का दामन थाम लिया।

बीजेपी अध्यक्ष और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के घर पर आयोजित कार्यक्रम में वे पार्टी में शामिल हुए। इस मौके पर भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस सहित कई नेता मौजूद थे।

बीजेपी में शामिल होने से पहले सतारा से तीन बार के सांसद भोसले ने लोकसभा की सदस्या से भी इस्तीफा दे दिया। उन्होंने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला से मुलाकात कर उन्हें अपना इस्‍तीफा सौंपा। काफी दिन से भोसले के बीजेपी में शामिल होने की अटकलें थीं, लेकिन शुक्रवार (सितंबर 13, 2019) को ट्वीट कर उन्होंने इस बात की पुष्टि करते हुए कहा था कि वह 14 सितंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमित शाह, नितिन गडकरी, देवेंद्र फडणवीस और चंद्रकांत पाटिल जैसे दिग्गज नेताओं की मौजूदगी में भाजपा में शामिल होंगे।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

भोसले के साथ आने के बाद भाजपा ने ट्वीट कर कहा , “आज शिव छत्रपति, जिन्होंने स्वदेश और स्वधर्म  के लिए कठिन से कठिन समय में एक बहुत बड़ा वैचारिक आंदोलन शुरू किया और संघर्ष करके स्वराज की स्थापना की, उनके वंशज उदयनराजे जी भाजपा में आए हैं।” इस मौके पर केंद्रीय गृहमंत्री और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा, “मैं भाजपा के करोड़ों कार्यकर्ताओं की ओर से उनका हार्दिक स्वागत करता हूँ।”

महाराष्‍ट्र चुनाव से पहले एनसीपी के इस बड़े नेता के बीजेपी में शामिल होने से निश्‍चित रूप से शरद पवार को बड़ा झटका लगा है। बता दें कि, भोसले ने गुरुवार (सितंबर 12, 2019) को शरद पवार के घर जाकर उन्हें अपने फैसले से अवगत कराया था। राजनेता के रूप में निर्दलीय करियर शुरू करके वह 1998 में भाजपा में शामिल हुए। फिर कॉन्ग्रेस और वहाँ से एनसीपी में पहुँचे थे। अब वापस से बीजेपी में शामिल हो गए हैं। हाल के समय में कॉन्ग्रेस-एनसीपी के कई नेताओं ने भाजपा और शिवसेना का दामन थामा है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कमलेश तिवारी हत्याकांड
आपसी दुश्मनी में लोग कई बार क्रूरता की हदें पार कर देते हैं। लेकिन ये दुश्मनी आपसी नहीं थी। ये दुश्मनी तो एक हिंसक विचारधारा और मजहबी उन्माद से सनी हुई उस सोच से उत्पन्न हुई, जहाँ कोई फतवा जारी कर देता है, और लाख लोग किसी की हत्या करने के लिए, बेखौफ तैयार हो जाते हैं।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

107,076फैंसलाइक करें
19,472फॉलोवर्सफॉलो करें
110,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: