Tuesday, September 21, 2021
Homeराजनीतिहिरासत में लिए गए केंद्रीय मंत्री नारायण राणे, CM उद्धव के खिलाफ टिप्पणी का...

हिरासत में लिए गए केंद्रीय मंत्री नारायण राणे, CM उद्धव के खिलाफ टिप्पणी का आरोप: जन-आशीर्वाद यात्रा पर थे

नेता प्रतिपक्ष देवेंद्र फड़नवीस ने कहा है कि पार्टी उनके साथ खड़ी है। भाजपा ने कहा कि जिस राज्य में हत्यारे खुले घूम रहे, वहाँ एक केंद्रीय कैबिनेट मंत्री को इस तरह उठाया गया है।

केंद्रीय सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग मंत्री नारायण राणे को महाराष्ट्र में हिरासत में ले लिया गया है। वो जन-आशीर्वाद यात्रा पर थे। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर टिप्पणी करने के आरोप में उन पर कई धाराओं में 3 FIR दर्ज किए गए थे। उन्हें गिरफ्तार करने के लिए नासिक और पुणे की पुलिस निकली थी। नेता प्रतिपक्ष देवेंद्र फड़नवीस ने कहा है कि पार्टी उनके साथ खड़ी है। भाजपा ने कहा कि जिस राज्य में हत्यारे खुले घूम रहे, वहाँ एक केंद्रीय कैबिनेट मंत्री को इस तरह उठाया गया है।

बता दें कि शिवसेना ने केंद्रीय सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग मंत्री नारायण राणे पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर विवादित टिप्पणी करने का आरोप लगाया था। पार्टी के सांसद विनायक राउत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिख कर कहा था कि वो नारायण राणे को अपनी कैबिनेट से हटाएँ। उन्होंने लिखा था कि उद्धव ठाकरे के खिलाफ ‘निंदनीय टिप्पणी’ करने वाले नारायण राणे के पास पद पर बने रहने का कोई अधिकार नहीं है।

आरोप के अनुसार, महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री नारायण राणे ने कहा था, “ये शर्मनाक है कि मुख्यमंत्री को ये नहीं पता कि हमें स्वतंत्र हुए कितने वर्ष हुए हैं। अपने भाषण के दौरान उन्होंने पीछे मुड़कर अपने सहयोगी से पूछा था। अगर मैं वहाँ होता तो उन्हें जोरदार थप्पड़ मारता।” मुंबई में नारायण राणे के घर के बाहर उनकी तस्वीरें जलाई गईं। शिवसेना के कार्यकर्ता पार्टी का झंडा लेकर उनके घर का घेराव करने पहुँचे थे।

नारायण राणे के खिलाफ ‘भारतीय दंड संहिता (IPC)’ की धाराओं (विभिन्न धार्मिक, नस्लीय, भाषाई या क्षेत्रीय समूहों या जातियों या समुदायों के बीच सद्भाव के ‌खिलाफ किया गया कृत्य, जिससे सार्वजनिक शांति भंग होती हो), 159 (लोक शांति को भंग करना), 504 (शांति भंग करने के इरादे से अपमान करना उकसाना) 505 (विभिन्न समुदायों के बीच शत्रुता, घॄणा या वैमनस्य की भावनाएँ पैदा करने के आशय से असत्य कथन) और 506 (आपराधिक धमकी) के तहत मामले दर्ज किए गए हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आज योगेश है, कल हरीश था: अलवर में 2 साल पहले भी हुई थी दलित की मॉब लिंचिंग, अंधे पिता ने कर ली थी...

आज जब राजस्थान के अलवर में योगेश जाटव नाम के दलित युवक की मॉब लिंचिंग की खबर सुर्ख़ियों में है, मुस्लिम भीड़ द्वारा 2 साल पहले हरीश जाटव की हत्या को भी याद कीजिए।

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध हालत में मौत: पंखे से लटकता मिला शव, बरामद हुआ सुसाइड नोट

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध हालात में मौत हो गई है। महंत का शव बाघमबरी मठ में सोमवार को फाँसी के फंदे से लटकता मिला।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,474FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe