Saturday, April 24, 2021
Home राजनीति राजद ने नकारा, नीतीश ने दुत्कारा: कुशवाहा के चावल, यादवों के दूध से जो...

राजद ने नकारा, नीतीश ने दुत्कारा: कुशवाहा के चावल, यादवों के दूध से जो बनाते थे ‘खीर’ और करते थे खून बहाने की बात

ये वही नेता हैं, जिन्होंने मनमुताबिक चनाव परिणाम न होने पर सड़कों पर खून बहा देने की धमकी दी थी। साथ ही इस संभावित हिंसा का ठीकरा एक ही साँस में बिहार की नीतीश और केंद्र की मोदी सरकार के सर फोड़ दिया था।

बिहार में अब सभी राजनीतिक दलों ने रालोसपा सुप्रीमो उपेंद्र कुशवाहा को ‘अछूत’ बना दिया है। महागठबंधन में सीटें न मिलने के बाद अब वो राजग की ओर देख रहे हैं लेकिन कभी नीतीश कुमार को अलविदा कहने वाले उपेंद्र कुशवाहा के लिए बिहार के मुख्यमंत्री ने सारे रास्ते बंद कर दिए हैं। तेजस्वी और नीतीश, किसी से भी भाव न मिलने के कारण उनकी हालत उस ‘धोबी के कुत्ते’ की तरह हो गई है, जो न घर का रहता है और न ही घाट का।

अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए उपेंद्र कुशवाहा ने इशारा कर दिया कि वो महागठबंधन से अलग होंगे। वहीं राजग से भाव न मिलने के बाद वो कह रहे हैं कि अगर राजद में नेतृत्व परिवर्तन होता है तो वो पुनर्विचार करने के लिए तैयार हो सकते हैं। लेकिन, असल बात ये है कि बिहार में 40 सीटों की माँग कर रहे रालोसपा संस्थापक उपेंद्र कुशवाहा को राजद 12 से ज्यादा सीटें देने के मूड में था ही नहीं।

हालाँकि, भाजपा तो उपेंद्र कुशवाहा को राजग में शामिल करने को लेकर थोड़ी-बहुत नरमी दिखा भी रही थी लेकिन नीतीश कुमार से जब रालोसपा के उनके साथ आने के विषय में सवाल किया गया तो उन्होंने कह दिया कि उन्हें इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है। हाँ, जीतन राम माँझी को लेकर ज़रूर बिहार के मुखिया गर्मजोशी दिखा रहे हैं। न सिर्फ उनकी सुरक्षा बढ़ाई गई है, बल्कि उन्हें राजग में हाथोंहाथ लिया जा रहा है।

तेजस्वी यादव के लिए उपेंद्र कुशवाहा ने कड़े शब्दों का प्रयोग किया था, जिसके बाद राजद प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने यहाँ तक कह डाला कि राजग में जिन लोगों को दुत्कारा गया, उन्हें राजद ने सम्मान दिया, आज वही लोग तेजस्वी यादव के नेतृत्व पर सवाल उठा रहे। उन्होंने कहा कि जिस पार्टी के पास ना संगठन है, ना पर्याप्त प्रत्याशी है, वो भी अगर अलग जाना चाहती है तो उनका स्वागत है।

मृत्युंजय तिवारी ने कह दिया कि ये लोकतंत्र है, कोई कहीं भी आ-जा सकता है। उपेंद्र कुशवाहा ने रालोसपा के कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए कहा था कि बिहार में नेतृत्व ऐसा होना चाहिए, जो नीतीश कुमार के सामने खड़े होने की काबिलियत रखता हो। लालू यादव के जेल में होने और तेजप्रताप यादव के नेतृत्व में रूचि न दिखाने के अलावा तेजस्वी यादव का पूर्ण समर्थन करने के बाद राजद में नेतृत्व-परिवर्तन होने से तो रहा।

हालाँकि, बिहार में एक तीसरे मोर्चे के गठन की भी कवायद चल रही है, जिसका नेतृत्व जन अधिकार पार्टी के संस्थापक-अध्यक्ष पप्पू यादव करने वाले हैं। रालोसपा के वहाँ जाने के भी चांस दिख रहे हैं। कभी बिहार का मुख्यमंत्री बनने की महत्वाकांक्षा रखने वाले उपेंद्र कुशवहा की राजनीतिक स्थिति पहले ठीक थी क्योंकि मोदी मंत्रिमंडल में भी उन्हें जगह दी गई थी। लेकिन, बार-बार भाजपा को कोसने के कारण वहाँ उन्हें दरवाजा दिखा दिया गया।

पिछले चुनावों में उनकी पार्टी की परफॉरमेंस और उनके बार-बार पाला बदलने की राजनीति को देखते हुए अब कोई भी उन पर विश्वास नहीं कर रहा है। उपेंद्र कुशवाहा को पहली बार फुटेज भी नीतीश कुमार की मदद से ही मिला था, जिन्होंने उन्हें पहली बार विधायक बनने के बावजूद 2004 में बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष बना दिया था। कोइरी जाति के लिए सामाजिक न्याय की माँग करते-करते उन्हें 2007 में जदयू से निकाल बाहर किया गया।

नवम्बर 2009 में फिर से जदयू में उनकी वापसी हुई। उन्हें राज्यसभा सांसद भी बनाया गया। लेकिन, उन्होंने नीतीश कुमार की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़ा करते हुए फिर जदयू को अलविदा कह दिया। फिर 2013 में उन्होंने राष्ट्रीय लोक समता पार्टी का गठन किया और लालू यादव के गठबंधन में शामिल हो गए। 2014 लोकसभा चुनाव में वो राजग में आ गए और उनकी पार्टी को दी गई लोकसभा सीटों पर जीत मिली।

जब नीतीश वापस राजग में आए तो उपेंद्र कुशवाहा ने फिर पाला बदला और लालू के साथ हो लिए। उनके विधायकों और सांसदों ने भी उनका साथ छोड़ दिया। उनके लिए चुनावों में एक सीट भी जीतनी आफत हो गई लेकिन उनकी महत्वाकांक्षा नहीं गई। उन्होंने कुशवाहा के चावल और यादवों के दूध को लेकर बिहार में ‘खीर’ थ्योरी की बात की, जिसमें दोनों जातियों की एकता की बात की गई, लेकिन इसका कोई परिणाम नहीं निकला।

मई 2019 में लोकसभा चनावों के परिणाम के दौरान तब बिहार महागठबंधन में रहे उपेंद्र कुशवाहा ने मतदान परिणाम मनमुताबिक न होने पर सड़कों पर खून बहा देने की धमकी दी थी। साथ ही इस संभावित हिंसा का ठीकरा एक ही साँस में बिहार की नीतीश और केंद्र की मोदी सरकार के सर फोड़ दिया था। उन्होंने अपने समर्थकों से हथियार उठाने के लिए तैयार रहने को भी कहा था। साथ ही भाजपा पर ‘रिजल्ट लूटने’ का आरोप लगाया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रेमडेसिविर की जगह कोरोना मरीजों को नॉर्मल इंजेक्शन लगाती थी नर्स, असली वाला कालाबाजारी के लिए प्रेमी को दे देती

भोपाल के एक अस्पताल की नर्स मरीजों की रेमडेसिविर इंजेक्शन चुराकर उसे अपने प्रेमी को ब्लैक मार्केट में बेचने के लिए दे देती थी।

2020 में अस्पताल के हर बेड पर ऑक्सीजन, होम डिलिवरी भी… 2021 में दिल्ली में प्लांट नहीं होने का रोना रो रहे केजरीवाल

2020 में कोरोना संक्रमण के दौरान केजरीवाल सरकार ने ऑक्सीजन को लेकर बड़े-बड़े दावे किए थे। आज वे प्लांट नहीं होने का रोना रो रहे।

3 घंटे तक तड़पी शोएब-पांडे-पटेल की माँ, नोएडा में मर गए सबके नाना: कोरोना से भी भयंकर है यह ‘महामारी’

स्वाति के नानाजी के देहांत की खबर जैसे ही फैली हिटलर, कल्पना मीना और वेंकट आर के नानाजी लोग भी नोएडा के उसी अस्पताल में पहुँचे ताकि...

ममता बनर्जी की हैट्रिक पूरी: कोरोना पर PM संग बैठक से इस बार भी रहीं नदारद, कहा- मुझे बुलाया ही नहीं

यह लगातार तीसरा मौका है जब कोरोना को लेकर मुख्यमंत्रियों की हुई बैठक में ममता बनर्जी शामिल नहीं हुईं। इसकी जगह उन्होंने चुनाव प्रचार को तवज्जो दी।

ऑक्सीजन सिलिंडर, दवाई, एम्बुलेंस, अस्पताल में बेड… UP में मदद के लिए RSS के इन नंबरों पर करें कॉल

ऑक्सीजन सिलिंडर और उसकी रिफिलिंग, दवाइयों की उपलब्धता, एम्बुलेंस, भोजन-पानी, अस्पतालों में एडमिशन और बेड्स के लिए RSS के इन नंबरों पर करें फोन कॉल।

Covaxin के लिए जमा कर लीजिए पैसे, कंपनी चाहती है ज्यादा से ज्यादा कीमत: मनी कंट्रोल में छपी खबर – Fact Check

मनी कंट्रोल ने अपने लेख में कहा, "बाजार में कोविड वैक्सीन की कीमत 1000 रुपए, भारत बायोटेक कोवैक्सीन के लिए चाहता है अधिक से अधिक कीमत"

प्रचलित ख़बरें

‘प्लाज्मा के लिए नंबर डाला, बदले में भेजी गुप्तांग की तस्वीरें; हर मिनट 3-4 फोन कॉल्स’: मुंबई की महिला ने बयाँ किया दर्द

कुछ ने कॉल कर पूछा क्या तुम सिंगल हो, तो किसी ने फोन पर किस करते हुए आवाजें निकाली। जानिए किस प्रताड़ना से गुजरी शास्वती सिवा।

PM मोदी ने टोका, CM केजरीवाल ने माफी माँगी… फिर भी चालू रखी हरकत: 1 मिनट के वीडियो से समझें AAP की राजनीति

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि सब को संयम का पालन करना चाहिए। उन्होंने दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल की इस हरकत को अनुचित बताया।

सीताराम येचुरी के बेटे का कोरोना से निधन, प्रियंका ने सीताराम केसरी के लिए जता दिया दुःख… 3 बार में दी श्रद्धांजलि

प्रियंका गाँधी ने इस घटना पर श्रद्धांजलि जताने हेतु ट्वीट किया। ट्वीट को डिलीट किया। दूसरे ट्वीट को भी डिलीट किया। 3 बार में श्रद्धांजलि दी।

अम्मी कोविड वॉर्ड में… फिर भी बेहतर बेड के लिए इंस्पेक्टर जुल्फिकार ने डॉक्टर का सिर फोड़ा: UP पुलिस से सस्पेंड

इंस्पेक्टर जुल्फिकार ने डॉक्टर को पीटा। ये बवाल उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में कोविड-19 लेवल थ्री स्वरूपरानी अस्पताल (SRN Hospital) में हुआ।

पाकिस्तान के जिस होटल में थे चीनी राजदूत उसे उड़ाया, बीजिंग के ‘बेल्ट एंड रोड’ प्रोजेक्ट से ऑस्ट्रेलिया ने किया किनारा

पाकिस्तान के क्वेटा में उस होटल को उड़ा दिया, जिसमें चीन के राजदूत ठहरे थे। ऑस्ट्रेलिया ने बीआरआई से संबंधित समझौतों को रद्द कर दिया है।

रेप में नाकाम रहने पर शकील ने बेटी को कर दिया गंजा, जैसे ही बीवी पढ़ने लगती नमाज शुरू कर देता था गंदी हरकतें

मेरठ पुलिस ने शकील को गिरफ्तार किया है। उस पर अपनी ही बेटी ने रेप करने की कोशिश का आरोप लगाया है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

293,883FansLike
83,745FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe