Wednesday, December 1, 2021
Homeराजनीतिजिसके बूथ पर BJP ने बंगाल में ली थी बढ़त, उस कार्यकर्ता अरिंदम का...

जिसके बूथ पर BJP ने बंगाल में ली थी बढ़त, उस कार्यकर्ता अरिंदम का शव फँदे से लटकता मिला

इससे पहले बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय ने एक बीजेपी कार्यकर्ता के साथ किए गए मारपीट के बारे में सूचना दी थी। उन्होंने ट्वीट करते हुए इसकी जानकारी दी। उनके ट्वीट के मुताबिक घटना टॉलीगंज की है।

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के बाद हिंसा की घटनाएँ थमने का नाम नहीं ले रही हैं। इसी कड़ी में रविवार (मई 16, 2021) को फाल्टा विधानसभा में बीजेपी कार्यकर्ता अरिंदम मिडी का शव फंदे से लटकता हुआ पाया गया। बता दें कि बीजेपी ने उनके बूथ (नंबर 205) में बढ़त बनाई थी।

इससे पहले बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय ने एक बीजेपी कार्यकर्ता के साथ किए गए मारपीट के बारे में सूचना दी थी। उन्होंने ट्वीट करते हुए इसकी जानकारी दी। उनके ट्वीट के मुताबिक घटना टॉलीगंज की है।

उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, “भाजयुमो सचिव संभू सरकार को 40 शांतिदूतों द्वारा ईद का तोहफा। उन्होंने उसे मारने की कोशिश की लेकिन सौभाग्य से परिवार ने बचा लिया। लेकिन पूरा परिवार घायल है और अब पीजी अस्पताल में भर्ती है। घटना 3:00 बजे सुबह की है, लेकिन पुलिस प्रशासन द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई है।”

गौरतलब है कि इससे पहले नादिया जिले में रोआवारी गाँव के मंडलपारा में भाजपा कार्यकर्ता का शव मिला था। यह क्षेत्र चकदहा विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आता है। मृतक की पहचान दिलीप कार्तनिया के रूप में हुई थी, जो भाजपा के सक्रिय कार्यकर्ता थे। वह बूथ स्तर पर पार्टी के लिए काम कर रहे थे। बताया गया कि पोलिंग के दिन कुछ अज्ञात बदमाशों ने कार्तनिया को धमकी दी थी। बाद में लगभग 11 बजे उन्हें किसी अज्ञात ने बुलाया तो वे घर से चले गए, लेकिन फिर नहीं लौटे।

इससे पहले कूचबिहार जिले के दिनहाटा टाउन मंडल के अध्यक्ष अमित सरकार का शव मिलने के बाद इलाके में सनसनी फैल गई थी। मंडल अध्यक्ष का शव दिनहाटा में लटकते हुए हालत में बरामद किया गया। अमित सरकार की हत्या को लेकर बीजेपी कार्यकर्ताओं ने कहा था कि टीएमसी की ओर से इस हत्या को अंजाम दिया गया। बीजेपी कार्यकर्ताओं ने कहा कि टीएमसी चाहती है कि ऐसा करके वह बीजेपी कार्यकर्ता को डरा कर घर में बैठा देंगे लेकिन हम लोग ऐसा नहीं होने देंगे। चुनाव में जीत दर्ज करने के लिए लगातार प्रयास जारी रखेंगे।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,729FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe