Monday, November 29, 2021
HomeराजनीतिED ने नारदा घोटाले में ममता के करीबी नेताओं के खिलाफ जारी किया नोटिस

ED ने नारदा घोटाले में ममता के करीबी नेताओं के खिलाफ जारी किया नोटिस

इससे पहले इस मामले में तृणमूल कॉन्ग्रस के 12 नेताओं के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया गया था।

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने नारदा घोटाला के मामले में कोलकाता के पूर्व महापौर और टीएमसी के नेता सोवन चट्टोपाध्याय की पत्नी रत्ना चट्टोपाध्याय, टीएमसी मंत्री साधना पांडे की बेटी श्रेया पांडे, अविजित गांगुली और मोलॉय भट्टाचार्य को नोटिस जारी किया है। इस घोटाले में और भी कई लोगों के नाम शामिल हैं। जिन नेताओं के खिलाफ ईडी द्वारा नोटिस जारी किया गया है, वो पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी की काफी करीबी माने जाते हैं।

ईडी रत्ना चट्टोपाध्याय से इससे पहले पूछताछ कर चुकी है। ईडी के एक अधिकारी ने बताया था कि पूछताछ के लिए दफ्तर आई थी, मगर जल्द ही वो अपने खराब स्वास्थ्य की बात कहकर निकल गई। हालाँकि, रत्ना ने कहा था कि उन्होंने अपनी तरफ से सारे सवालों के जवाब दे दिए हैं और अगर वो उनके जवाब से संतुष्ट नहीं होते हैं और फिर से पूछताछ के लिए बुलाएँगे, तो जाने के लिए तैयार है।

गौरतलब है कि, इससे पहले इस मामले में तृणमूल कॉन्ग्रस के 12 नेताओं के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया गया था। कोलकाता के एक न्यूज़ चैनल ने स्टिंग ऑपरेशन करते हुए पश्चिम बंगाल के सत्तारूढ़ दल तृणमूल कॉन्ग्रेस के कुछ नेताओं को रिश्वत लेते हुए कैमरे पर पकड़ा था। जिसकी जाँच चल रही है। कोर्ट ने इस मामले में पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी की भी आलोचना की थी।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राजस्थान के मंत्री का स्वागत कर रहे थे कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता, तभी इमरान ने जड़ दिया एक मुक्का: बाद में कहा – ये मेरे आशीर्वाद...

राजस्थान में एक अजोबोग़रीब वाकया हुआ, जब मंत्री और कॉन्ग्रेस नेता भँवर सिंह भाटी को एक युवक ने मुक्का जड़ दिया।

‘मीलॉर्ड्स, आलोचक ट्रोल्स नहीं होते’: भारत के मुख्य न्यायाधीश के नाम एक बिना नाम और बिना चेहरा वाले ट्रोल का पत्र

हमें ट्रोल्स ही क्यों कहा जाता है, आलोचक क्यों नहीं? ऐसा इसलिए, क्योंकि हम उन लोगों की आलोचना करते हैं जो अपनी आलोचना पसंद नहीं करते।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,346FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe