Tuesday, June 22, 2021
Home राजनीति क्या विधानसभा चुनाव से पहले बंगाल में लग सकता है राष्ट्रपति शासन?

क्या विधानसभा चुनाव से पहले बंगाल में लग सकता है राष्ट्रपति शासन?

मौजूदा परिस्थितियों में राष्ट्रपति शासन की संभावना नहीं दिखती। लेकिन यदि राज्यपाल को यह लगा कि ममता बनर्जी सरकार के रहते राज्य में निष्पक्ष चुनाव करना संभव नहीं हो पाएगा तो वे राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश कर सकते हैं।

पश्चिम बंगाल में हिंसा और राजनीति एक-दूसरे के पूरक हैं। जब भी पश्चिम बंगाल में राजनीति की बात होती है तो वहाँ की सियासी हिंसा की चर्चा होती है। चुनाव के नजदीकी दिनों में हिंसा अपने चरम पर पहुँच जाती हैं। पिछले कई दशकों से हिंसक घटनाएँ एक ही पैटर्न से घटित होती आई हैं। हाल ही में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के कई कार्यकर्ताओं को क्रूरता से मौत के घाट उतारा गया है।

मेनस्ट्रीम मीडिया अक्सर उन घटनाओं पर पर्दा डालने और अनदेखा करने का काम किया है जो इनके तथाकथित एजेंडे को आगे नहीं बढ़ाते हैं। इन घटनाओं में ज्यादातर हमले बीजेपी कार्यकर्ताओं पर हुए हैं। ज्यादातर मीडिया बीजेपी कार्यकर्ताओं पर हुए हमले को या तो इग्नोर कर देती है या उन्हें मामूली से एक रिपोर्ट के रूप में दिखा देती है।

वहीं पश्चिम बंगाल की राजनीति के बारे में जानने वाले लोग अच्छी तरह से हमलों और उनके पीछे ममता सरकार के लोगों के रवैए को जानते हैं। बता दें कि बंगाल में राजनीतिक हिंसा अभूतपूर्व स्तर पर पहुँच गई है।

इसीलिए तमाम लोगों द्वारा राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने कि माँग करना आश्चर्यजनक नहीं होना चाहिए। बता दें यह माँग ज्यादातर भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा की जा रही है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष पर कथित रूप से गोरखा जनमुक्ति मोर्चा द्वारा हमला किए जाने के बाद से यह माँग और भी तेज हो गई है।

भाजपा नेता काफी समय से राज्य में राष्ट्रपति शासन की चेतावनी दे रहे हैं। बिष्णुपुर के सांसद सौमित्र खान ने अक्टूबर में कहा, “जिस तरह से टीएमसी पश्चिम बंगाल में अपराध और अत्याचार कर रही है, उसे देखते हुए राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाया जाए।”

इसी तरह आसनसोल के सांसद बाबुल सुप्रियो ने टिप्पणी की थी, “हाल में जिस तरह सिख समुदाय के सदस्य पर हमले हुए, मनीष शुक्ला सहित अन्य राजनीतिक विरोधियों की हत्या की गई, अल कायदा से जुड़े लोग गिरफ्तार किए गए हैं, यह बताता है कि पश्चिम बंगाल में आर्टिकल 365 का इस्तेमाल किया जाना उचित है।”

भाजपा के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने अक्टूबर के अंत मे कहा था कि ममता बनर्जी सरकार के रहते स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव की बहुत कम संभावना है। उन्होंने कहा था, “यह मेरा व्यक्तिगत विचार है कि राष्ट्रपति शासन लागू किए बिना स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव (पश्चिम बंगाल) संभव नहीं है क्योंकि राज्य में नौकरशाही का राजनीतिकरण हो चुका है। यहाँ तक मामला ठीक है, लेकिन अब नौकरशाही का अपराधीकरण भी हुआ है।”

पश्चिम बंगाल भाजपा के प्रभारी विजयवर्गीय ने यह भी कहा कि राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने के लिए ममता बनर्जी खुद जिम्मेदार होंगी। गौरतलब है कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी यह कहा था कि राज्य में बिगड़ती कानून-व्यवस्था को देखते हुए, विपक्षी दलों को राष्ट्रपति शासन लगाने की माँग करने का पूरा अधिकार है।

उसके बाद से राष्ट्रपति शासन लागू करने के बारे में भाजपा अपना रुख बदलती दिख रही है। दिलीप घोष ने कहा है कि ममता बनर्जी खुद चाहती हैं कि राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाया जाए। एक टीवी चैनल से बात करते हुए उन्होंने कहा, “ममता बनर्जी खुद चाहती हैं राज्य में 356 लागू किया जाए। वह चुनावों के दौरान विक्टिम कार्ड खेलने के लिए केंद्र सरकार को मजबूर कर रही हैं।”

अनुच्छेद 356 राष्ट्रपति द्वारा लागू किया जाता है। घोष ने आगे कहा कि यदि बंगाल राष्ट्रपति शासन के अधीन होगा तो यह सीएम ममता बनर्जी को आम लोगों की सहानुभूति देगा और विधानसभा चुनाव में इसका लाभ उन्हें मिलेगा। वर्तमान में बंगाल में भाजपा के सामने एक बड़ी चुनौती है। उन्होंने आगे कहा,”एंटी-इनकंबेंसी फैक्टर से लोगों को सहानुभूति मिलने पर ज्यादा फर्क नहीं पड़ेगा।”

वहीं अमित शाह ने भी हाल ही में कहा था, “अनुच्छेद 356 एक सार्वजनिक मुद्दा नहीं है। यह एक संवैधानिक मामला है। केंद्र सरकार राज्यपाल की रिपोर्ट के आधार पर इस पर निर्णय लेती है। यहाँ अनुच्छेद 356 को लागू करने की आवश्यकता नहीं है, क्योंकि सरकार केवल अप्रैल में बदल जाएगी। तो यह किस पर किया जाएगा?” इस प्रकार भाजपा समय समय पर राष्ट्रपति शासन को लेकर अपना रुख बदलती दिख रही है।

बंगाल में राजनीतिक हिंसा अभूतपूर्व स्तर पर है। हाल के वर्षों में भाजपा के कई कार्यकर्ताओं की मौतें हुई हैं। इन हत्याओं से यह साबित हुआ है कि पश्चिम बंगाल में निर्वाचित विधायक भी सुरक्षित नहीं हैं।

बता दें पश्चिम बंगाल में हाल ही में भाजपा के एक विधायक संदिग्ध परिस्थितियों में मृत पाए गए थे। इस प्रकार यदि राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाया जाना था तो भाजपा को दोष देने के लिए कोई मान्य आधार नहीं हैं। यह एक राजनीतिक निर्णय है और राजनीतिक निर्णय राजनीतिक परिणामों को ध्यान में रखते हुए लिए जाते हैं।

गौरतलब है कि अगर देख जाए तो दिलीप घोष कहीं न कहीं अपनी बात पर सही हैं। ममता बनर्जी जान-बूझकर कर राजनीतिक फायदे के लिए राष्ट्रपति शासन राज्य में लगाना चाहती हैं। यह निश्चित रूप से उन्हें विक्टिम कार्ड खेलने का अवसर प्रदान करेगा।

अमित शाह का मानना ​​है कि अगले साल होने वाले राज्य चुनावों में जीत दर्ज करने में सक्षम भाजपा के लिए सत्ता विरोधी कारक काफी मजबूत है। ऐसी परिस्थितियों में, यह संभावना नहीं है कि राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाया जाएगा। लेकिन चीजें बहुत जल्दी बदल सकती हैं। यदि राज्यपाल को यह विश्वास है कि स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव राज्य में वर्तमान सत्तारूढ़ सरकार के रहते करना असंभव होगा तो वह जरूर राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश करेंगे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

K Bhattacharjee
Black Coffee Enthusiast. Post Graduate in Psychology. Bengali.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कोरोना वैक्सीनेशन में NDA शासित स्टेट ने लगाया जोर, जहाँ-जहाँ विपक्ष की सरकार वहाँ-वहाँ डोज पड़े कम

एक दिन में देश में 86 लाख से अधिक लोगों को कोरोना का टीका लगा। इसमें एनडीए शासित 7 राज्यों का योगदान 63 प्रतिशत से भी अधिक है।

‘तुम्हारे शरीर के छेद में कैसे प्लग लगाना है, मुझे पता है’: पूर्व महिला प्रोफेसर का यौन शोषण, OpIndia की खबर पर एक्शन में...

कॉलेज के सेक्रेटरी अल्बर्ट विलियम्स ने उन पर शिकायत वापस लेने का दबाव बनाया। जोसेफिन के खिलाफ 60 आरोप लगा कर इसकी प्रति कॉलेज में बँटवाई गई। एंटोनी राजराजन के खिलाफ कार्रवाई की बजाए उन्हें बचाने में लगा रहा कॉलेज प्रबंधन।

LS स्पीकर के दफ्तर तक पहुँचा नुसरत जहाँ की शादी का झमेला, संसद में झूठी जानकारी देने का आरोप: सदस्यता समाप्त करने की माँग

"जब इस्लामी कट्टरपंथियों ने नॉन-मुस्लिम से शादी करने और सिन्दूर को लेकर उन पर हमला किया था तो पार्टी लाइन से ऊपर उठ कर कई सांसदों ने उनका बचाव किया था।"

हिंदू से मुस्लिम बनाने वाले मौलानाओं पर लगेगा NSA, जब्त होगी संपत्ति: CM योगी का निर्देश- गिरोह की तह तक जाएँ

जो भी लोग इस्लामी धर्मांतरण के इस रैकेट में संलिप्त हैं, सीएम योगी ने उन पर गैंगस्टर एक्ट और अन्य कड़ी धाराओं के तहत कार्रवाई करने का निर्देश दिया है।

घर से फरार हुआ मूक-बधिर आदित्य, अब्दुल्ला बन कर लौटा: व्हाट्सएप्प-टेलीग्राम से ब्रेनवॉश, केरल से जुड़े तार

आदित्य की उम्र 24 साल है। उसके पिता वकील हैं। ये सब कुछ लॉकडाउन लगने के साथ शुरू हुआ, जब आदित्य मोबाइल का ज्यादा प्रयोग करने लगा।

‘एक दिन में मात्र 86 लाख लोगों को वैक्सीन, बेहद खराब!’: रवीश कुमार के लिए पानी पर चलने वाले कुत्ते की कहानी

'पोलियो रविवार' के दिन मोदी सरकार ने 9.1 करोड़ बच्चों को वैक्सीन लगाई। रवीश 2012 के रिकॉर्ड की बात कर रहे। 1950 में पहला पोलियो वैक्सीन आया, 62 साल बाद बने रिकॉर्ड की तुलना 6 महीने बाद बने रिकॉर्ड से?

प्रचलित ख़बरें

टीनएज में सेक्स, पोर्न, शराब, वन नाइट स्टैंड, प्रेग्नेंसी… अनुराग कश्यप ने बेटी को कहा- जैसी तुम्हारी मर्जी

ब्वॉयफ्रेंड के साथ सोने के सवाल पर अनुराग ने कहा, "यह तुम्हारा अपना डिसीजन है कि तुम किसके साथ रहती हो। मैं केवल इतना चाहता हूँ कि तुम सेफ रहो।"

‘एक दिन में मात्र 86 लाख लोगों को वैक्सीन, बेहद खराब!’: रवीश कुमार के लिए पानी पर चलने वाले कुत्ते की कहानी

'पोलियो रविवार' के दिन मोदी सरकार ने 9.1 करोड़ बच्चों को वैक्सीन लगाई। रवीश 2012 के रिकॉर्ड की बात कर रहे। 1950 में पहला पोलियो वैक्सीन आया, 62 साल बाद बने रिकॉर्ड की तुलना 6 महीने बाद बने रिकॉर्ड से?

वो ब्राह्मण राजा, जिनका सिर कलम कर दिया गया: जिन मुस्लिमों को शरण दी, उन्होंने ही अरब से युद्ध में दिया धोखा

राजा दाहिर ने जब कई दिनों तक शरण देने की एवज में खलीफा के उन दुश्मनों से मदद माँगी, तो उन्होंने कहा, "हम आपके आभारी हैं, लेकिन हम इस्लाम की फौज के खिलाफ तलवार नहीं उठा सकते। हम जा रहे हैं।"

70 साल का मौलाना, नाम: मुफ्ती अजीजुर रहमान; मदरसे के बच्चे से सेक्स: Video वायरल होने पर केस

पीड़ित छात्र का कहना है कि परीक्षा में पास करने के नाम पर तीन साल से हर जुम्मे को मुफ्ती उसके साथ सेक्स कर रहा था।

‘पापा को क्यों जलाया’: मुकेश के 9 साल के बेटे ने पंचायत को सुनाया दर्द, टिकैत ने दी ‘इलाज’ करने की धमकी

BKU के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि सरकार मानने वाली नहीं है, इसीलिए 'इलाज' करना पड़ेगा। टिकैत ने किसानों को अपने-अपने ट्रैक्टरों के साथ तैयार रहने की भी सलाह दी।

राम मंदिर वाले चंपत राय पर अभद्र टिप्पणी, फर्जी दस्तावेज शेयर किए: पूर्व एंकर, महिला समेत 3 पर FIR

फेसबुक पोस्ट में गाली-गलौज की भाषा का भी उपयोग किया गया था और साथ ही हिन्दुओं की भावनाओं को ठेस पहुँचाने वाली बातें थीं। आरोपितों में एक महिला भी शामिल है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
105,352FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe