राजस्थान: राजसमंद सीट से रमेंद्र सिंह राठौड़ हो सकते हैं भाजपा के उम्मीदवार

उदयपुर, अजमेर, नागौर और पाली - 4 जिलों से सम्बंधित होने के कारण यह सीट खासी चर्चा का विषय बनी हुई है। 2018 विधानसभा चुनावों में यहाँ की 8 में से 4-4 विधानसभाएँ भाजपा व कॉन्ग्रेस के कब्जे में हैं।

लोकसभा चुनाव के मद्देनजर भारतीय जनता पार्टी अभी तक 286 सीटों पर उम्मीदवार घोषित कर चुकी है। शनिवार (मार्च 23, 2019) रात भाजपा महासचिव जे पी नड्डा ने पाँचवी सूची में 48 अन्य उम्मीदवारों के नामों की घोषणा की। हालाँकि, इसमें भी अभी तक राजस्थान की बहुप्रतीक्षित राजसमन्द सीट की घोषणा नहीं की गई है। पूर्व में इस सीट पर गजेन्द्र सिंह शेखावत के नाम की चर्चा थी, जिन्हें पहले ही जोधपुर से टिकट दिया जा चुका है।

राजस्थान की राजसमंद लोकसभा सीट 4 जिलों के क्षेत्र को मिलाकर बनाई गई है- उदयपुर, अजमेर, नागौर और पाली। इसलिए 4 जिलों से सम्बंधित होने के कारण यह सीट खासी चर्चा का विषय बनी हुई है। 2018 विधानसभा चुनावों में यहाँ की 8 में से 4-4 विधानसभाएँ भाजपा व कॉन्ग्रेस के कब्जे में हैं।

संगठन और क्षेत्रीय व्यक्ति को टिकट देने का दबाव

राजसमन्द से मौजूदा सांसद हरिओम सिंह राठौड़ खराब स्वास्थ्य के चलते पहले ही टिकट लेने से मना कर चुके हैं। स्थानीय रिपोर्ट्स के अनुसार, इस सीट पर संघ, संगठन के किसी व्यक्ति को टिकट देने की वकालत कर रहा है। इसमें किसान पृष्ठभूमि वाले 38 वर्ष के युवा दावेदार रमेंद्र सिंह राठौड़ का नाम आगे चल रहा है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

रमेंद्र सिंह लगातार 6 वर्ष तक जयपुर महानगर से ABVP के अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष रह चुके हैं और विश्व हिन्दू परिषद के पूर्णकालिक कार्यकर्ता के साथ-साथ संघ के पाली जिले के धर्म जागरण प्रमुख भी रहे हैं। पेशे से कृषक रमेंद्र सिंह राठौड़ योग शिक्षक और देश के उन गिने चुने लोगों में हैं, जो योग में पीएचडी उपाधि प्राप्त हैं। किसानों, मजदूरों और युवाओं में इनकी गहरी पैठ मानी जाती है।

वर्ष 1942 से ही तीन पीढ़ियों से राठौड़ का परिवार संघ के राष्ट्रीय संगठन का हिस्सा रहा है। रमेंद्र सिंह राठौड़ के नाना भागीरथ सिंह शेखावत स्वतंत्र पार्टी से प्रत्याशी के साथ-साथ आपातकाल में 18 महीने जेल में रहे हैं, इसलिए क्षेत्र में इस परिवार का नाम माना जाता है। रमेंद्र सिंह के माता, पिता एवं भाई, जनसंघ के समय से संघ एवं भाजपा के अनुषांगिक संगठनों के विभिन्न पदों पर रहे हैं। ऐसे में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े रमेंद्र सिंह राठौड़ सभी अर्हताएँ पूरी करते दिखाई दे रहे हैं।

राजपूतों को साधना सबसे बड़ी चुनौती

3 लाख राजपूत वोट वाली राजसमंद सीट पिछले कई चुनाव से राजपूत सीट मानी जाती रही है। इस क्षेत्र से लगातार राजपूत उम्मीदवार को ही टिकट देने की माँग उठ रही थी। इसी वजह से राजसमन्द से विधायक किरण माहेश्वरी का नाम भी सूत्रों के अनुसार रेस से बाहर हो चुका है। कई मीडिया समूहों द्वारा दीया कुमारी और किरण महेश्वरी में मुकाबले की बात कही जा रही थी, लेकिन जयपुर की राजकुमारी दिया कुमारी का नाम भी रियासत काल के इतिहास और बाहरी उम्मीदवार होने के नाते दौड़ से बाहर माना जा रहा है। ऐसे में राजपूत समाज में गहरी पैठ होने कारण रमेंद्र सिंह राठौड़ का नाम लगभग तय माना जा रहा है।

मजदूर और किसानों के बीच पकड़ हैं मजबूत पक्ष

रमेंद्र सिंह राठौड़ की संसदीय क्षेत्र के मजदूरों और किसानों में गहरी पकड़ उनके पक्ष में जाती दिख रही है। गौरतलब है कि किसान व मजदूर संघर्ष समिति द्वारा जैतारण और ब्यावर की सीमेंट फैक्ट्रियों के खिलाफ आंदोलनों में राठौड़ खासे सक्रिय रहे हैं। इसलिए 50 हजार मजदूर और डेढ़ लाख किसानों, यानि 2 लाख मतदाताओं तक इनकी सीधी पहुँच से विरोधी राजनीतिक दल भी असमंजस में हैं।

गौरतलब है कि राठौड़ के बड़े भाई आरपी सिंह भारतीय मजदूर संघ के जिला उपाध्यक्ष रहे हैं। उच्च शिक्षा प्राप्त होने के कारण युवा वर्ग में भी राठौड़ अपनी सीधी पहुँच रखते हैं। इसलिए उम्मीदें लगाई जा रही है कि भारतीय जनता पार्टी राजसमन्द सीट पर प्रभावी समीकरण वाले नए चेहरे रमेंद्र सिंह राठौड़ को प्रत्याशी घोषित कर चौंका सकती है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

यू-ट्यूब से

बड़ी ख़बर

"पूर्व प्रधानमंत्री नेहरू ने ‘फॉरवर्ड पॉलिसी’ अपनाई जिसमें कहा गया कि हमें एक-एक इंच चीन की ओर बढ़ना चाहिए। कार्यान्वयन के दौरान यह ‘बैकवर्ड पॉलिसी’ बन गई। यही वजह है कि अक्साई चीन पूरी तरह से चीन के नियंत्रण में है। उसके जवान डेमचोक ‘नाला’ तक पहुँच गए।"

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

कविता कृष्णन

कविता कृष्णन का ईमेल लीक: देश विरोधी एजेंडे के लिए न्यायपालिका, सेना, कला..के लोगों को Recruit करने की योजना

वामपंथियों की जड़ें कितनी गहरी हैं, स्क्रीनशॉट्स में इसकी भी नज़ीर है। कविता कृष्णन पूर्व-सैन्यकर्मी कपिल काक के बारे में बात करतीं नज़र आतीं हैं। वायुसेना के पूर्व उप-प्रमुख यह वामपंथी प्रोपेगंडा फैलाते नज़र आते हैं कि कैसे भारत ने कश्मीर की आशाओं पर खरा उतरने में असफलता पाई है, न कि कश्मीर ने भारत की
अमानुल्लाह जेहरी

PAk से आज़ादी माँग रहे बलूचिस्तान में बीएनपी नेता और उनके 14 साल के पोते को गोलियों से छलनी किया

पाकिस्तान को अपने स्वतन्त्रता दिवस (14 अगस्त) के दिन तब शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा जब ट्विटर पर बलूचिस्तान के समर्थन में BalochistanSolidarityDay और 14thAugustBlackDay हैशटैग ट्रेंड करने लगा था। इन ट्रेंडों पर तकरीबन क्रमशः 100,000 और 54,000 ट्वीट्स हुए।
आलिया अब्दुल्ला

खुश हूँ कि 370 के विरोध में कश्मीरी लड़के सड़क पर नहीं उतरे, हमारे पास और रास्ता है: शेख अब्दुल्ला की पोती

आलिया अब्दुल्ला ने बोलने के संवैधानिक अधिकार को रेखांकित करते हुए कहा कि सरकार को घाटी के राजनेताओं से अपनी भाषा बोलने की उम्मीद नहीं करनी चाहिए और उनके (घाटी के नेताओं) विचारों का सम्मान करना चाहिए।
चापेकर बंधु

जिसके पिता ने लिखी सत्यनारायण कथा, उसके 3 बेटों ने ‘इज्जत लूटने वाले’ अंग्रेज को मारा और चढ़ गए फाँसी पर

अंग्रेज सिपाही प्लेग नियंत्रण के नाम पर औरतों-मर्दों को नंगा करके जाँचते थे। चापेकर बंधुओं ने इसका आदेश देने वाले अफसर वॉल्टर चार्ल्स रैंड का वध करने की ठानी। प्लान के मुताबिक जैसे ही वो आया, दामोदर ने चिल्लाकर अपने भाइयों से कहा "गुंडया आला रे" और...
कपिल काक

370 पर सरकार के फैसले के खिलाफ SC पहुॅंचे पूर्व एयर वाइस मार्शल कपिल काक, कविता कृष्णन के लीक ईमेल में था नाम

वामपंथी एक्टिविस्ट कविता कृष्णन ने सोशल मीडिया में वायरल हुए अपने लीक ईमेल में भी कपिल काक, जस्टिस शाह के बारे में बात की है। लीक मेल में जम्मू-कश्मीर को अनुच्छेद 370 से मिला विशेष दर्जा हटने के विरोध की रणनीति का ब्यौरा मौजूद है।
रेप

11वीं सदी के मंदिर में किया कई बार बलात्कार, रंगे हाथ पकड़ा गया कुतुबुद्दीन अहमद

11वीं-12वीं शताब्दी के मंदिर में कुतुबुद्दीन ने लड़की को किसी बहाने बुलाया। फिर नशीली दवा खिलाई और कई बार बलात्कार किया। मंदिर की देखरेख करने वाले 2 लोगों ने रंगेहाथ कुतुबुद्दीन को पकड़ लिया और सबूत के तौर पर इसकी रिकॉर्डिंग भी की।
बीफ

‘आज मैंने गोमांस खाकर पाकिस्तान की खु़शी में भाग लिया’ – रेहाना सुल्ताना के ख़िलाफ़ FIR दर्ज

"आज मैंने गोमांस खाकर पाकिस्तान की खु़शी में भाग लिया। मैं जो खाती हूँ वह मेरी स्वाद का विकल्प है। गोमांस शब्द पढ़ने पर, कृपया न कोई षड्यंत्र शुरू करें और न अपने व्यवहार का परिचय दें।"
पीएम मोदी और बेयर ग्रिल्स

360 करोड़ का रिकॉर्ड बनाया Man vs Wild ने, PM मोदी का शो बना दुनिया का सबसे अधिक ट्रेंडिग TV शो

मैन वर्सेज वाइल्ड ने सुपर बाउल को पीछे छोड़ दिया है। रिकॉर्ड की बात करें तो अब तक इस शो को लेकर 3.6 बिलियन (360 करोड़) लोग चर्चा कर चुके हैं और यह लगातार जारी है। इस तरह इस शो ने सुपर बाउल शो को पीछे छोड़ दिया, जिसकी रेटिंग 3.4 बिलियन थी।
शाजिया इल्मी

भारत विरोधी नारे लगा रहे लोगों से सियोल में अकेले भिड़ गईं BJP नेता शाजिया इल्मी

शाजिया इल्मी को भारत विरोधी नारों से आपत्ति हुई तो वह प्रदर्शनकारियों के बीच पहुँच गईं और उन्हें समझाने की कोशिश की। जब प्रदर्शनकारी नहीं माने, तो वे भी इंडिया जिंदाबाद के नारे लगाने लगीं।
शाह फैसल

भारत के खिलाफ इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस जाने वाले थे शाह फैसल: सूत्र

अगर 14 अगस्त को शाह फैसल दिल्ली में नहीं रोके गए होते तो वह इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (ICJ) में भारत के खिलाफ मामला दर्ज करा चुके होते। हालाँकि, संयुक्त राष्ट्र चार्टर के मुताबिक कोई भी आम आदमी निजी हैसियत से ICJ में केस दायर नहीं कर सकता है।

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

81,720फैंसलाइक करें
11,502फॉलोवर्सफॉलो करें
89,081सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

शेयर करें, मदद करें: