Sunday, November 27, 2022
Homeराजनीतिएक योगी के तौर पर मस्जिद के शिलान्यास में कतई नहीं जाऊँगा, टोपी पहन...

एक योगी के तौर पर मस्जिद के शिलान्यास में कतई नहीं जाऊँगा, टोपी पहन लेना ‘सेक्युलरिज्म’ नहीं ढोंग है: योगी आदित्यनाथ

“अगर आप मुझसे एक मुख्यमंत्री के रूप में पूछेंगे तो मुझे किसी मज़हब, संप्रदाय से परहेज नहीं है। अगर एक योगी के रूप में पूछेंगे तो कतई नहीं जाऊँगा। मैं इसलिए नहीं जाऊँगा क्योंकि क्योंकि मैं एक योगी हूँ। हिंदू धर्म का होने के नाते मेरे पास अपने तौर तरीकों से पूजा करने का अधिकार है। इसलिए न तो मुझे कोई मस्जिद के शिलान्यास में बुलाएगा। और न ही मैं इस तरह के किसी आयोजन का हिस्सा बनने वाला हूँ।”

अयोध्या में बनने वाली मस्जिद को लेकर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक बार फिर दो टूक जवाब दिया है। उन्होंने साफ़ शब्दों में कहा है कि वह बतौर योगी और बतौर हिंदू मस्जिद के शिलान्यास का हिस्सा नहीं बनेंगे। न तो वह ऐसे किसी कार्यक्रम में शामिल होंगे और न ही उन्हें ऐसी किसी कार्यक्रम से बुलावा आएगा।   

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एबीपी न्यूज़ के साथ साक्षात्कार के दौरान इस मुद्दे पर कई बातें कहीं। उन्होंने कहा कि बतौर राज्य के मुख्यमंत्री उन्हें किसी धर्म से परेशानी नहीं है। मुख्यमंत्री योगी ने कहा “ऐसे नेता जो रोज़ा और इफ़्तार में शामिल होते हैं और टोपी लगा कर खुद को धर्म निरपेक्ष साबित करने में लगे रहते हैं। असल में यह धर्म निरपेक्षता नहीं है और जनता यह बात बहुत अच्छे से समझती है।” 

इसके बाद उन्होंने कहा “अगर आप मुझसे एक मुख्यमंत्री के रूप में पूछेंगे तो मुझे किसी मज़हब, संप्रदाय से परहेज नहीं है। अगर एक योगी के रूप में पूछेंगे तो कतई नहीं जाऊँगा। मैं इसलिए नहीं जाऊँगा क्योंकि क्योंकि मैं एक योगी हूँ। हिंदू धर्म का होने के नाते मेरे पास अपने तौर तरीकों से पूजा करने का अधिकार है। इसलिए न तो मुझे कोई मस्जिद के शिलान्यास में बुलाएगा। और न ही मैं इस तरह के किसी आयोजन का हिस्सा बनने वाला हूँ।”

इसके बाद योगी आदित्यनाथ ने कहा, “जिस दिन मुझे इस तरह का कोई आमंत्रण आ गया उस दिन सेक्युलरिज्म खतरे में आ जाएगा। और मैं ऐसा बिलकुल नहीं चाहता कि धर्म निरपेक्षता पर किसी भी तरह का ख़तरा हो। इसलिए बेहतर यही होगा कि मैं शांति से अपने कर्तव्य का पालन करता रहूँ। जिससे प्रदेश के हर नागरिक को चाहे वह किसी भी धर्म, जाति या समुदाय का क्यों न हो। उसे सरकार की तरफ से किसी भी तरह की निराशा न हो।” 

भूमि पूजन के कार्यक्रम के बाद सभी अथितियों को संबोधित करते हुए सीएम योगी ने कहा था कि पाँच सदी के बाद आज 135 करोड़ भारतवासियों का संकल्प पूरा हो रहा है। राम मंदिर भूमि पूजन से इतर योगी आदित्यनाथ ने न्यूज चैनल आज तक के साथ खास बातचीत में मस्जिद के शिलान्यास पर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने साफ कर दिया कि वो मस्जिद के शिलान्यास कार्यक्रम का हिस्सा नहीं होंगे।

बता दें कि मीडिया चैनल ने सीएम योगी से सवाल किया था, “विरोधी कह रहे हैं कि आपने सभी धर्मों के लोगों को राम मंदिर के भूमि पूजन में बुलाया और सब आए। लेकिन आने वालों दिनों में जब अयोध्या में मस्जिद का निर्माण शुरू होगा, तो कहा जा रहा है कि कि सीएम योगी वहाँ नहीं जाएँगे।”  सीएम योगी आदित्यनाथ ने इसका जवाब देते हुए कहा, “मेरा जो काम है वो काम मैं करूँगा। मैं अपने कार्य को हमेशा कर्तव्य और धर्म मानकर चलता हूँ। मैं जानता हूँ कि मुझे कोई बुलाएगा नहीं इसलिए मैं जाऊँगा भी नहीं।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सोमनाथ में अल्लाह रहते हैं, अजमेर शरीफ में महादेव’ : गुजरात चुनाव से पहले कॉन्ग्रेस प्रत्याशी का बयान, मंच से लगाए ‘अल्लाह-हू-अकबर’ के नारे

गुजरात में राजकोट के कॉन्ग्रेस प्रत्याशी इंद्रानील राजगुरु ने बयान दिया है कि उनके लिए अल्लाह और महादेव दोनों एक हैं।

‘हमें PCR टेस्ट नहीं, आजादी चाहिए’ : चीन की सड़कों पर देर रात लगे वामपंथी सरकार के खिलाफ नारे, राष्ट्रपति शी जिनपिंग से कुर्सी...

चीन की वामपंथी सरकार की नीतियों से भड़के स्थानीय लोगों ने सड़कों पर आकर गुस्सा जाहिर किया और 'शी जिनपिंग कुर्सी छोड़ो' जैसे नारे लगाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
235,629FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe