Tuesday, October 19, 2021
Homeरिपोर्टराहुल गाँधी को 8 साल की बच्ची ने सिखाई राफेल की A B C...

राहुल गाँधी को 8 साल की बच्ची ने सिखाई राफेल की A B C D…

8 साल की बच्ची अपनी दो ज्यॉमेट्री बॉक्स के माध्यम से यह समझाने का प्रयास कर रही है कि क्या फ़र्क है मोदी जी के राफ़ेल में और राहुल गाँधी के राफेल में

विपक्ष द्वारा राफेल डील पर मचा कोहराम आए दिन कुछ नया ही करतब दिखाता है। या यूँ कह लीजिए कि इन करतबों में कॉन्ग्रेस का हमलावर और आक्रामक रुख़ कभी थमने का नाम ही नहीं लेता। इस तरह तो यह लगता है कि कॉन्ग्रेस पार्टी ने तरह-तरह के करतब दिखाने वाले एक कलाकार की भूमिका में अपने वजूद को तब्दील कर लिया हो, जिसका मक़सद केवल और केवल तमाशा देखने वाली भीड़ इकट्ठी करना है।

अब सवाल यह उठता है कि क्या सच में राफेल डील करतबों का मैदान बन चुका है या इसे अब तक बेवजह ही हवा दी जाती रही है। आम जनता और कॉन्ग्रेस समर्थकों के लिए भले ही यह समझ पाना मुश्किल हो कि इस डील के तहत राफेल की क़ीमत में इतना उतार-चढ़ाव क्यों है या यूँ कह लीजिए कि वो समझना ही नहीं चाहते। लेकिन एक 8 साल की बच्ची के द्वारा राफेल के गुणा-गणित को समझाना वाक़ई क़ाबिल-ए-तारीफ़ है।

आपको बता दें कि, ‘एकभारतश्रेष्ठभारत’ के ट्विटर हैंडल से एक ऐसा वीडियो शेयर हुआ है, जिसमें 8 साल की बच्ची अपनी दो ज्यॉमेट्री बॉक्स के माध्यम से यह समझाने का प्रयास कर रही है कि क्या फ़र्क है मोदी जी के राफ़ेल में और राहुल गाँधी के राफेल में। इस बच्ची ने एक बेहतर ढंग से राफेल जैसे विवादित मुद्दे को जितनी सरलता से परिभाषित किया है, वो एक मिसाल है। ट्विटर पर वायरल हुए इस वीडियो को 9 जनवरी 2019 को शेयर किया गया था।

वैसे तो विपक्ष का काम केंद्र को ग़लत निर्णय लेने से रोकने का होता है, लेकिन फ़िलहाल कॉन्ग्रेस बेवजह की भ्रामकता फैलाने में अपनी अहम भूमिका निभा रही है। जनता की नज़र में हीरो बनने की राहुल गाँधी की यह चाहत आगामी लोकसभा चुनाव के नज़दीक आने के साथ ही और परवान चढ़ती जा रही है, जिसके लिए वो ग़लत बयानों और प्रतिक्रियाओं का जमकर इस्तेमाल करते हैं। ऐसे कई उदाहरण हैं जब कॉन्ग्रेस ने बिना वजह ही बीजेपी को घेरने की न सिर्फ़ कोशिश भर की बल्कि सरकार द्वारा लिए गए कई बेहतर फ़ैसलों में अपनी टांग भी अड़ाई।

देश की बड़ी पार्टी होने के कारण कॉन्ग्रेस की यह ज़िम्मेदारी बनती है कि वो देश हित में लिए जाने वाले फ़ैसलों पर अपनी आपत्ति न जताए। देश की जनता को ग़लत दिशा में ले जाने की अपनी व्यर्थ की कोशिशों पर विराम लगाएँ।  

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बांग्लादेश का नया नाम जिहादिस्तान, हिन्दुओं के दो गाँव जल गए… बाँसुरी बजा रहीं शेख हसीना’: तस्लीमा नसरीन ने साधा निशाना

तस्लीमा नसरीन ने बांग्लादेश में हिंदुओं पर कट्टरपंथी इस्लामियों द्वारा किए जा रहे हमले पर प्रधानमंत्री शेख हसीना पर निशाना साधा है।

पीरगंज में 66 हिन्दुओं के घरों को क्षतिग्रस्त किया और 20 को आग के हवाले, खेत-खलिहान भी ख़ाक: बांग्लादेश के मंत्री ने झाड़ा पल्ला

एक फेसबुक पोस्ट के माध्यम से अफवाह फैल गई कि गाँव के एक युवा हिंदू व्यक्ति ने इस्लाम मजहब का अपमान किया है, जिसके बाद वहाँ एकतरफा दंगे शुरू हो गए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,824FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe