Thursday, May 30, 2024
Homeरिपोर्टन्यूज़ीलैंड की मस्जिद पर हमले से दु:खी बांग्लादेशी क्रिकेटर ने अपनी ‘Cousin’ से किया...

न्यूज़ीलैंड की मस्जिद पर हमले से दु:खी बांग्लादेशी क्रिकेटर ने अपनी ‘Cousin’ से किया निकाह

न्यूज़ीलैंड में हुई घटना के बाद मुस्तफिजुर बहुत परेशान था इसीलिए परिजनों ने उससे शादी करने को कहा। शादी का निर्णय मुज़तफिज़ुर की माँ ने लिया था।

बांग्लादेश में क्रिकेट का मैदान मानो शादी की शहनाई से गूँज उठा हो क्योंकि पेसर मुस्तफ़िज़ुर रहमान ने ढाका विश्वविद्यालय की छात्रा सामिया परवीन के साथ निकाह के बंधन में बंध गए जो रिश्ते में उनकी कज़िन लगती हैं। चूँकि कज़िन (cousin) शब्द का अर्थ चचेरा, ममेरा, फुफेरा कुछ भी हो सकता है इसलिए यह निश्चित नहीं है कि सामिया के साथ मुस्तफिजुर का रिश्ता क्या कहलाता है। बता दें कि इस्लाम में कज़िन के साथ निकाह किया जाना जायज़ माना जाता है।

जानकारी के मुताबिक़ निकाह शुक्रवार शाम को बांग्लादेश के सातखिरा के हादीपुर में सम्पन्न हुआ, जहाँ दूल्हा दुल्हन के परिवार समेत अन्य रिश्तेदार भी मौजूद थे। मुस्तफिजुर के भाई, महफ़ूज़ुर रहमान मिठू ने देशवासियों से नव-दंपत्ति के लिए प्रार्थना करने की अपील की।

मिठू ने कहा, “न्यूज़ीलैंड में हुई घटना के बाद मुस्तफिजुर घर आने के बाद बहुत परेशान था। इसीलिए हमने उससे शादी करने के लिए कहा। निकाह का यह निर्णय मेरी माँ ने लिया था। फ़िलहाल निकाह का रिसेप्शन विश्व कप के बाद होगा।”

बांग्लादेशी क्रिकेटर पेसर मुस्तफ़िज़ुर रहमान के निकाह की ख़बर जैसे ही लोगों की नज़र में आई वैसे ही सोशल मीडिया पर इसकी जमकर तफ़री ली गई। किसी ने लिखा कि ख़ुशी में शायद तलाक़ लेंगे और किसी ने लिखा कि ये क्या सच में कोई न्यूज़ है, या कोई मज़ाक है वरना ”ऐसा कौन करता है भई”।

बता दें कि बीते शुक्रवार (15 मार्च) की सुबह न्यूज़ीलैंड के क्राइस्टचर्च शहर के अल नूर मस्जिद में गोलीबारी हुई थी जिसमें कई लोगों के हताहत होने की ख़बर थी। इस घटना के बारे में न्यूज़ीलैंड पुलिस ने अपने बयान में क्राइस्टचर्च में गंभीर स्थिति पैदा होने की स्थिति को स्वीकारा था हमले से बिगड़ते हालात में शहर के सभी स्कूलों को बंद कर दिया गया था और भीड़भाड़ वाले इलाक़े से बचने की सलाह दी गई थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पीड़ितों को पहचान दे रहा CAA: उत्तराखंड, बंगाल और हरियाणा में भी पाकिस्तान से आए हिंदुओं को मिली भारतीय नागरिकता, दिल्ली में भी बँट...

नागरिकता संशोधन कानून के तहत मोदी सरकार ने बंगाल, हरियाणा और उत्तराखंड में पड़ोसी मुल्कों से आए हिंदुओं को भारत की नागरिकता देना शुरू कर दिया है।

आधी रात को जब नींद में था भारत, 18 साल के भारतीय ने क्लासिक शतरंज में रच दिया इतिहास: 5 बार के विश्व चैंपियन...

भारतीय चेस ग्रैंडमास्टर प्रग्गानंधा रमेशबाबू ने विश्व के नम्बर एक चेस ग्रैंड मास्टर मैग्नस कार्लसन को क्लासिक शतरंज खेल में मात दी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -