Sunday, September 19, 2021
Homeरिपोर्टअलीगढ में दर्जन भर गायों को दफनाने का मामला; नाराज ग्रामीणों ने किया प्रदर्शन

अलीगढ में दर्जन भर गायों को दफनाने का मामला; नाराज ग्रामीणों ने किया प्रदर्शन

रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि उन्होंने नहर किनारे गाय के शरीर के कुछ टुकड़े देखे और ताजा बंद किये गए गड्ढों को देख कर उन्होंने खुदाई का फैसला लिया।

अलीगढ के इगलास थाना इलाके में मथुरा रोड पर अज्ञात लोगों ने नहर किनारे एक गड्ढे में जिंदा गायों को दफन करने का मामला सामने आया है। कहा जा रहा है कि सुबह जब लोग खेत में पहुंचे तो उन्हें इसकी भनक लगी और फिर उन्होंने उन गायों को नकालने के लिए जद्दोजहद शुरू कर दी। इतने में वहां सैकड़ों ग्रामीण इकट्ठे हो गए और उन्होंने पुलिस तथा प्रसाशन के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। ख़बरों के अनुसार पुलिस ने मौके पर पहुँच कर लोगों को समझा-बुझा कर शांत कराया। पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) मणिलाल पाटीदार ने इस बारे में विशेष जानकारी देते हुए कहा;

“हो सकता है यह गोवंश पूर्व में नहर किनारे दफन कर दी गई हों, जो आज कुछ लोगों को दिखाई दे गई हैं। लोगों ने इसे बढ़ाचढ़ाकर पेश किया और उपद्रव किया है। उपद्रवियों पर कठोर कार्रवाई की जाएगी।”

एसपी के बयान से लग रहा है कि पुलिस का मानना है कि गायों को काफी पहले मरने के बाद यहाँ दफ़न किया गया होगा और कुछ लोगों ने इसके मद्देनजर अफवाह फैला दी। दरअसल ये मामला टीकापुर गावं का है जहां नहर के किनारे बुधवार की रात कई गायों को मृत समझ कर दफनाया गया था। ऐसे में सुबह खेतों में काम करने पहुंचे किसानों ने ये देखा और फिर ग्रामीणों को इसकी सूचना दी जीके पाद प्रदर्शन और नारेबाजी चालू हो है। लोगों का कहना है कि करीब एक दर्जन गायों को ज़िंदा दफना दिया गया है। ताजा सूचना मिलने तक पुलिस ने मृत गायों को पोस्टमोर्टेम के लिए अस्पताल भेज दिया है।

पुलिस का दावा ग्रामीणों के उलट है। पुलिस ये मान कर चल रही है कि यहाँ ज़िंदा नहीं बल्कि मृत गायों को ही दफनाया गया था। मालूम हो कि अलीगढ़ में बुधवार को सैकड़ों किसानों द्वारा गायों से अपनी फसलें बचाने के लिए गायों को एक प्राइमरी स्कूल में बंद करने की खबर आई थी। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि उन्होंने नहर किनारे गाय के शरीर के कुछ टुकड़े देखे और ताजा बंद किये गए गड्ढों को देख कर उन्होंने खुदाई का फैसला लिया। बाद में मशीन से भी खुदाई की गई। ग्रामीणों ने कहा कि एक ज़िंदा गाय को भी गड्ढे ने निकाला गया जो कि कुछ देर बाद ही मर गई। गोरक्षा वाहिनी ने इसे हिन्दू धर्म पर चोट करने की साजिश करार दिया है।

मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डॉ. केवी वार्ष्णेय ने इस बारे में अधिक जानकारी देते हुए कहा;

“कुल 12 गायों का पोस्टमॉर्टम किया गया। उन गायों की मौत दम घुटने के कारण हुई थी। पांच गायों का इलाज अस्पताल में चल रहा है। मुझे नहीं पता कि वे गायें उसी जगह से खोदकर लाई गई थीं या कहीं और से यहां लाई गई हैं।”

वहीं डीएम सीबी सिंह ने दावा किया कि जिन्गायों का इलाज चल रहा है वो खुदाई वाली जगह के पास बैठी हुई मिली थी। उन्होंने ये भी कहा कि मृत गायों को ही दफनाया गया और लोग अफवाह फैला रहे हैं। कई थानों की पुलिस घटनास्थल पर कैम्प कर रही है और लोगों को समझाने-बुझाने का काम जारी है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सिब्बल की राह पर थरूर, कॉन्ग्रेसी आलाकमान पर साधा निशाना, कहा – ‘पार्टी को तुरंत नए नेतृत्व की जरूरत’

"सोनिया गाँधी के खिलाफ किसी ने एक शब्द नहीं कहा, लेकिन वह खुद से ही पद छोड़ना चाहती हैं। नए नेतृत्व को जल्द से जल्द पद सँभाल लेना चाहिए।"

पंजाब के बाद राजस्थान में फँसी कॉन्ग्रेस: सचिन पायलट दिल्ली में, CM अशोक गहलोत के OSD का इस्तीफा

इस्तीफे की वजह लोकेश शर्मा द्वारा किया गया एक ट्वीट बताया जा रहा है जिसके बाद कयासों का नया दौर शुरू हो गया था और उनके ट्वीट को पंजाब के घटनाक्रम के साथ भी जोड़कर देखा जाने लगा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,150FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe