Monday, July 26, 2021
Homeदेश-समाजविश्व स्तर पर प्रगति कर रहे भारतीय विश्वविद्यालयः THE

विश्व स्तर पर प्रगति कर रहे भारतीय विश्वविद्यालयः THE

'टाइम्स हायर एजुकेशन' के ग्लोबल रैंकिंग एडिटर एली बोथवेल ने कहा, "भारतीय संस्थानों में सफलता की अपार संभावनाएँ हैं - न केवल उभरते हुए मंच पर, बल्कि विश्व स्तर पर भी वे प्रगति कर रहे हैं।"

लंदन के टाइम्स हायर एजुकेशन (टीएचई) द्वारा एक आँकड़ा जारी किया गया है, जिसमें इस साल प्रतिष्ठित ‘इमर्जिंग इकोनॉमीज़ यूनिवर्सिटी रैंकिंग’ में भारत के 49 संस्थानों को जगह मिली है। बता दें कि इन 49 में से 25 संस्थान शीर्ष 200 में जगह बनाने में भी सफल रहे हैं।

‘टाइम्स हायर एजुकेशन’ की रिपोर्ट में 2019 की सूची में सबसे अधिक जगह पाने वाला देश चीन रहा। चीन की ‘शिंगुआ यूनिवर्सिटी’ ने इसमें शीर्ष स्थान और सूची के शीर्ष पाँच में से चार संस्थान भी चीन के ही हैं। बता दें कि ‘टीएचई’ उच्च शिक्षा पर डेटा एकत्र करने, उनका विश्लेषण करने और उस पर विशेषज्ञता हासिल करने वाला एक वैश्विक संगठन है। ये हर साल अलग-अलग स्तरों पर शिक्षा जगत से जुड़ी कई रैंकिंग जारी करता है।

चारों महाद्वीपों के विश्वविद्यालयों को मिली जगह

सूची में भारत के भारतीय विज्ञान संस्थान (IISc) 14वें, जबकि भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान IIT बॉम्बे 27वें नम्बर पर रहा। 2019 की रैंकिंग में चारों महाद्वीपों के 43 देशों के लगभग 450 विश्वविद्यालयों को इस सूची में जगह मिली है। वहीं अगर पिछले वर्ष की तुलना की जाए तो, पिछली बार से इस बार ज़्यादा विश्वविद्यालयों को शामिल किया गया है। पिछले साल इन विश्वविद्यालयों की संख्या 378 थी। 

इस साल की तालिका में भारत के तेज़ी से प्रगति कर रहे कई नए संस्थानों को प्रवेश मिला है। वहीं कई आगे पीछे भी हुए हैं। संगठन के अनुसार भारत ने 2018 में 42 संस्थानों की तुलना में इस साल सूची में 49 विश्वविद्यालयों के जगह हासिल करने के साथ ‘टाइम्स हायर एजुकेशन इमर्जिंग इकोनॉमी यूनिवर्सिटी रैंकिंग’ में अपना प्रतिनिधित्व बढ़ाया है। शीर्ष 200 में भारत के 25 विश्वविद्यालय शामिल हैं। जिसमें IIT रुड़की, 21 स्थानों की लंबी छलाँग लगाकर शीर्ष 40 में जगह हासिल करने में सफल रहा, और अब वह 35वें स्थान पर पहुँच गया है। 

‘टाइम्स हायर एजुकेशन’ के ग्लोबल रैंकिंग एडिटर एली बोथवेल ने कहा, “भारतीय संस्थानों में सफलता की अपार संभावनाएँ हैं – न केवल उभरते हुए मंच पर, बल्कि विश्व स्तर पर भी वे प्रगति कर रहे हैं।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘लखनऊ को दिल्ली बनाया जाएगा, चारों तरफ से रास्ते सील किए जाएँगे’: चुनाव से पहले यूपी में बवाल की टिकैत ने दी धमकी

राकेश टिकैत ने कहा कि दिल्ली की तरह लखनऊ का भी घेराव किया जाएगा। जिस तरह दिल्ली में चारों तरफ के रास्ते सील हैं, ऐसे ही लखनऊ के भी सील होंगे।

‘हम आपको नहीं सुनेंगे…’: बॉम्बे हाईकोर्ट से जावेद अख्तर को झटका, कंगना रनौत से जुड़े मामले में आवेदन पर हस्तक्षेप से इनकार

जस्टिस शिंदे ने कहा, "अगर हम इस तरह के आवेदनों को अनुमति देते हैं तो अदालतों में ऐसे मामलों की बाढ़ आ जाएगी।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,324FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe