Monday, June 24, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयभारत के 700 छात्रों को वापस भेजेगा कनाडा: एजेंटों को ₹16-20 लाख देकर करने...

भारत के 700 छात्रों को वापस भेजेगा कनाडा: एजेंटों को ₹16-20 लाख देकर करने गए थे पढ़ाई, जाँच में नकली पाए गए दस्तावेज

छात्रों ने पढ़ाई और कार्य अनुभव प्राप्त करने के बाद जब स्थायी निवास के लिए आवेदन दिया तो उनके दस्तावेजों की जाँच की गई। इस दौरान पाया गया कि उन्हें दिया गया एडमिशन ऑफर लेटर फर्जी है।

कनाडा में पढ़ाई करने गए 700 से अधिक भारतीय छात्रों का भविष्य अधर में लटक गया है। कनाडाई सीमा सुरक्षा एजेंसी (CBSA) ने इन्हें देश छोड़ने का नोटिस दिया है। इन छात्रों का वीजा फर्जी पाया गया है। आश्चर्य की बात यह है कि इनमें से ज्यादातर छात्रों ने अपनी पढ़ाई पूरी कर ली है। कुछ ने वर्क परमिट और कार्य अनुभव (Work Experience) भी प्राप्त कर लिया था। लेकिन जब उन्होंने स्थायी निवास पत्र के लिए आवेदन दिया तो जाँच में उनका वीजा फर्जी पाया गया।

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक छात्रों ने जालंधर स्थित एजुकेशन माइग्रेशन सर्विस सेंटर से वीजा अप्लाई किया था। इसे बृजेश मिश्रा नाम का एक एजेंट संचालित कर रहा था। बृजेश मिश्रा ने हंबर कॉलेज में प्रवेश के नाम पर छात्रों से 16-20 लाख रुपए ऐंठ थे। इसमें हवाई टिकट और सिक्योरिटी डिपोजिट शामिल नहीं थे। छात्र 2018-19 में कनाडा पहुँचे।

छात्रों ने पढ़ाई और कार्य अनुभव प्राप्त करने के बाद जब स्थायी तौर पर निवास के लिए आवेदन दिया तो उनके द्वारा जमा कराए गए दस्तावेजों को सत्यापित किया गया। सीबीएसए ने उन डॉक्यूमेंट्स की जाँच की जिसके आधार पर इनका वीजा जारी किया गया था। जाँच में पाया गया कि छात्रों को दिया गया नामांकन प्रस्ताव पत्र (Admission Offer Letter) नकली है।

दस्तावेज नकली पाए जाने के बाद छात्रों को वापस भारत जाने का नोटिस थमा दिया गया है। अब 700 से अधिक छात्रों का करियर दाँव पर लगा हुआ है। कहा जा रहा है कि कनाडा में इस तरह का एजुकेशन फ्रॉड पहली बार सामने आया है। यह सवाल भी उठ रहे हैं कि नकली नामांकन दस्तावेज के आधार पर वीजा कैसे जारी हो गया और पहले इसकी जाँच क्यों नहीं की गई?

अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार जब छात्रों ने इस संबंध में जालंधर में संपर्क किया तो एजेंट के दफ्तर में ताला लगा मिला। एजेंट के फरार होने की बात कही जा रही है। डीसीपी जगमोहन सिंह के हवाले से बताया गया है कि इस संबंध में कोई लिखित शिकायत नहीं मिली है। शिकायत मिलने पर मामले की जाँच की जाएगी। बताया जाता है कि इन छात्रों को ‘पे फीस आफ्टर वीजा’ का विज्ञापन देकर एजेंट ने फँसाया था। एक छात्र के कनाडा जाने पर करीब 20 लाख रुपए तक का खर्च आता है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हरदीप सिंह निज्जर ने किया था पाकिस्तान का दौरा, चलाता था आतंकी कैम्प: जिस कनाडा ने उसकी हत्या पर संसद में रखा मौन, वहीं...

2013 में हरदीप सिंह निज्जर भी पाकिस्तान पहुँचा और CM बेअंत सिंह के हत्यारे जगतार सिंह तारा मिला। तारा 94 फुट का टनल खोद जेल से भागा था।

‘तू क्यों नहीं करता पत्रकारिता?’: नाना पाटेकर ने की ऐसी खिंचाई कि आह-ओह करने लगे राजदीप सरदेसाई, अभिनेता ने पूछा – तुझे सिर्फ बुरा...

राजदीप सरदेसाई ने कहा कि 'The Lallantop' ने वाकई में पत्रकारिता के नियम को निभाया है, जिस पर नाना पाटेकर पूछ बैठे कि तू क्यों नहीं इसको फॉलो करता है?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -