Monday, November 29, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयआतंक के खिलाफ फ्रांस को मिला दुनिया का साथ: UAE के क्राउन प्रिन्स ने...

आतंक के खिलाफ फ्रांस को मिला दुनिया का साथ: UAE के क्राउन प्रिन्स ने पैगंबर मोहम्मद के कार्टून पर कही ये बात

क्राउन प्रिंस ने यह भी जोर देकर कहा कि हिंसा पैगंबर मोहम्मद की शिक्षाओं का प्रतिनिधि नहीं है। क्राउन प्रिंस ने कहा, “ये हिंसक अत्याचार शांति, सहिष्णुता और प्रेम का आह्वान करने वाले सभी एकेश्वरवादी धर्मों की शिक्षाओं और सिद्धांतों के साथ असंगत हैं। जिसने मानव जीवन की पवित्रता पर जोर दिया।”

अबू धाबी क्राउन प्रिंस शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान ने रविवार (नवंबर 1, 2020) को फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के साथ फोन पर हाल में हुए आतंकवादी हमलों की निंदा की।

अबू धाबी के क्राउन प्रिंस और यूएई सशस्त्र बलों के उप-सर्वोच्च कमांडर ने राष्ट्रपति से हाल के हमलों के पीड़ितों के परिवारों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की। उन्होंने कहा कि उन्होंने आतंकवादियों द्वारा उनके अपराधों का बहाना करने के लिए इस्तेमाल किए गए किसी भी औचित्य को खारिज कर दिया।

क्राउन प्रिंस ने यह भी जोर देकर कहा कि हिंसा पैगंबर मोहम्मद की शिक्षाओं का प्रतिनिधि नहीं है। क्राउन प्रिंस ने कहा, “ये हिंसक अत्याचार शांति, सहिष्णुता और प्रेम का आह्वान करने वाले सभी एकेश्वरवादी धर्मों की शिक्षाओं और सिद्धांतों के साथ असंगत हैं। जिसने मानव जीवन की पवित्रता पर जोर दिया।”

उन्होंने कहा, “किसी भी परिस्थिति में पैगंबर को हिंसा या राजनीतिकरण से नहीं जोड़ा जाना चाहिए।” क्राउन प्रिंस ने विभिन्न पृष्ठभूमि के व्यक्तियों को घृणास्पद भाषण और हिंसा का सहारा लेने के बजाय सम्मानजनक बातचीत में शामिल होने का आह्वान किया।

पैगंबर ए इस्लाम के कार्टूनों को कक्षा में दिखाए जाने पर हुई फ्रांसीसी शिक्षक सैमुअल पैटी की हत्या के बाद हुए हमलों के बाद अबू धाबी क्राउन प्रिंस शेख मोहम्मद बिन जायद ने फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों को फोन किया। यूएई के क्राउन प्रिंस ने कहा कि अपराध, हिंसा और आतंकवाद का किसी भी तरह से बचाव करना गलत है। शेख मोहम्मद ने कहा कि पैगंबर मोहम्मद के लिए लोगों के मन में अपार आस्था है लेकिन इस मुद्दे को हिंसा से जोड़ना और इसका राजनीतिकरण करना बिल्कुल अस्वीकार्य है।

फ्रांस के नीस शहर में एक चर्च के बाहर दो महिलाओं समेत तीन लोगों की हत्या से पूरे देश में आक्रोश है। फ्रांस ने इसे आतंकी घटना करार दिया है। इसको लेकर दुनिया के तमाम मुल्क फ्रांस के साथ खड़े नजर आ रहे हैं।

यूएई के विदेश मंत्रालय ने आतंकवाद के खिलाफ इन आपराधिक कृत्यों की कड़ी निंदा करते हुए बयान जारी किया। मंत्रालय ने कहा कि वह हिंसा के सभी रूपों को स्थायी रूप से खारिज करता है।  

वहीं ईरान के विदेश मंत्री जवाद जरीफ ने इस घातक चाकू हमले की निंदा की है। उन्होंने ट्वीट कर कहा है, “हम नीस शहर में हुए आतंकवादी हमले की कड़ी निंदा करते हैं।” ईरान, यूएई के अलावा इस्राइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने भी हमले की निंदा की। उन्होंने ट्वीट करके सभी सभ्य देशों को फ्रांस के साथ पूर्ण एकजुटता के साथ खड़े होने की बात कही। साथ ही दुनिया के सबसे ताकतवर मुल्क के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने फ्रांस को समर्थन दिया और कहा कि अमेरिका इस लड़ाई में अपने सबसे पुराने सहयोगी के साथ खड़ा है।

ट्रंप ने ट्वीट कर कहा, “हमारा दिल फ्रांस के लोगों के साथ है। अमेरिका इस लड़ाई में अपने सबसे पुराने सहयोगी के साथ खड़ा है। इन कट्टरपंथी इस्लामिक आतंकवादी हमलों को तुरंत रोक देना चाहिए।”

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राजस्थान के मंत्री का स्वागत कर रहे थे कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता, तभी इमरान ने जड़ दिया एक मुक्का: बाद में कहा – ये मेरे आशीर्वाद...

राजस्थान में एक अजोबोग़रीब वाकया हुआ, जब मंत्री और कॉन्ग्रेस नेता भँवर सिंह भाटी को एक युवक ने मुक्का जड़ दिया।

‘मीलॉर्ड्स, आलोचक ट्रोल्स नहीं होते’: भारत के मुख्य न्यायाधीश के नाम एक बिना नाम और बिना चेहरा वाले ट्रोल का पत्र

हमें ट्रोल्स ही क्यों कहा जाता है, आलोचक क्यों नहीं? ऐसा इसलिए, क्योंकि हम उन लोगों की आलोचना करते हैं जो अपनी आलोचना पसंद नहीं करते।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,346FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe