Friday, July 23, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयबकरीद के लिए घर लौट रहे पश्तून मजदूरों पर पाकिस्तान ने किया हमला, कई...

बकरीद के लिए घर लौट रहे पश्तून मजदूरों पर पाकिस्तान ने किया हमला, कई की मौत

सीमा पर तनाव बढ़ने के कारण अफगानिस्तान ने अपनी आर्मी और एयरफोर्स को भी हाई अलर्ट पर कर दिया है। जुलाई माह की शुरुआत में ही, पाकिस्तान ने अफगानिस्तान के उत्तर-पूर्वी कुनार प्रांत में रॉकेट दागे, जिसमें तीन लोग मारे गए थे।

अफगानिस्तान सीमा पर बलूचिस्तान स्थित चमन सीमा (Chaman Border) चौकी पर पाकिस्तानी रेंजर्स की गोलीबारी में करीब 15 लोगों की मौत हो गई, जबकि 80 से ज्यादा लोग घायल हो गए।

घटना बृहस्पतिवार (जुलाई 30, 2020) को तब घटी जब चमन-स्पिन बोल्डक सीमा पार से लगभग 150 लोग पाकिस्तानी सीमा पर एकत्र हुए। उनमें से कई ईद के लिए अफगानिस्तान में प्रियजनों से मिलने की उम्मीद कर रहे थे, लेकिन सीमा को बंद कर दिया गया था।

अफगान अधिकारियों ने शुक्रवार (जुलाई 31, 2020) को कहा कि पाकिस्तान ने अपनी दक्षिण-पश्चिमी सीमा पर रॉकेटों से गोलाबारी की, जिसमें कई लोगों की जानें गई हैं और 80 से अधिक लोग घायल हो गए। पाकिस्तान ने कहा कि अफगान सीमा रक्षकों ने पहले गोलीबारी की और इस हमले के लिए उन्हें दोषी ठहराया है।

बृहस्पतिवार को भारी संख्या में लोग यहाँ फ्रेंडशिप गेट पर धरने पर बैठ गए और सीमा चौकी को खोलने की माँग करने लगे। इस पर वहाँ मौजूद पाकिस्तान के कर्मचारियों ने कहा कि जब तक प्रदर्शनकारी इस जगह से नहीं चले जाते, गेट नहीं खोला जाएगा। इस बात पर प्रदर्शनकारी हिंसक हो गए और वे फ्रेंडशिप गेट पर फ्रंटियर कोर और अन्य सरकारी एजेंसियों के कार्यालयों पर हमला करने लगे। रिपोर्ट्स के अनुसार, इसकी प्रतिक्रिया में पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर गोलियाँ चलाईं।

सीमा पर तनाव बढ़ने के कारण अफगानिस्तान ने अपनी आर्मी और एयरफोर्स को भी हाई अलर्ट पर कर दिया है। जुलाई माह की शुरुआत में ही, पाकिस्तान ने अफगानिस्तान के उत्तर-पूर्वी कुनार प्रांत में रॉकेट दागे, जिसमें तीन लोग मारे गए थे।

पाकिस्तान 1893 में औपनिवेशिक काल के विभाजन को ही अंतरराष्ट्रीय सीमा मानता है, जबकि अफगानिस्तान ने कभी सीमा को मान्यता नहीं दी है। पाकिस्तान और अफगानिस्तान दोनों ही एक-दूसरे पर अपने दुश्मनों को शरण देने का आरोप लगाते आए हैं। पाकिस्तान का कहना है कि उसे आतंकवादियों को पार करने से रोकने के लिए बाड़ की आवश्यकता है।

पाकिस्तान का कहना है कि पाकिस्तानी विद्रोही, जैसे कि बलूचिस्तान लिबरेशन आर्मी, जिसने जून में कथित तौर पर दक्षिणी बंदरगाह शहर कराची में स्टॉक एक्सचेंज बिल्डिंग पर हमला किया था, अफगानिस्तान के दक्षिणी कंधार प्रांत में छिपे हुए हैं।

ज्ञात हो कि चमन सीमा चौकी को मार्च से ही कोरोना वायरस महामारी के चलते बंद था। बकरीद को लेकर गत बुधवार को इसे खोला गया था, ताकि दोनों तरफ के लोग अपने मूल स्थानों पर जा सकें।

पाकिस्तान में रहने वाले कई पश्तून, अफगानिस्तान में मजदूरों के रूप में काम करते हैं, काम के लिए सीमा पार करते हैं और रात में घर लौटते हैं।

सोशल मीडिया पर इस हमले की भयानक तस्वीरें शेयर की जा रही हैं और मरने वालों की संख्या के अलग-अलग दावे भी किए जा रहे हैं। तस्वीरों में हताहतों के बीच छोटे मासूम बच्चे भी देखे जा सकते हैं। लोगों ने इन तस्वीरों की तुलना सीरियाई बच्चे एलेन कुर्दी से की है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कौन है स्वरा भास्कर’: 15 अगस्त से पहले द वायर के दफ्तर में पुलिस, सिद्धार्थ वरदराजन ने आरफा और पेगासस से जोड़ दिया

इससे पहले द वायर की फर्जी खबरों को लेकर कश्मीर पुलिस ने उनको 'कारण बताओ नोटिस' जारी किया था। उन पर मीडिया ट्रॉयल में शामिल होने का भी आरोप है।

जिस भास्कर में स्टाफ मर्जी से ‘सूसू-पॉटी’ नहीं कर सकते, वहाँ ‘पाठकों की मर्जी’ कॉर्पोरेट शब्दों की चाशनी है बस

"भास्कर में चलेगी पाठकों की मर्जी" - इस वाक्य में ईमानदारी नहीं है। पाठक निरीह है, शब्दों का अफीम देकर उसे मानसिक तौर पर निर्जीव मत बनाइए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,862FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe