Wednesday, May 25, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयगूगल, फेसबुक, ट्विटर, एप्पल, PayPal और माइक्रोसॉफ्ट के बाद अब सैमसंग भी रूस के...

गूगल, फेसबुक, ट्विटर, एप्पल, PayPal और माइक्रोसॉफ्ट के बाद अब सैमसंग भी रूस के खिलाफ उतरा: युद्ध में पश्चिम के एजेंडे पर यूँ चल रहे टेक जायंट्स

कोरियाई कंपनी सैमसंग ने यूक्रेन में राहत कार्यों में सहायता के लिए $60 लाख (45.85 करोड़ रुपए) देने का ऐलान किया है।

रूस और यूक्रेन (Russia-Ukraine War) के बीच लगातार युद्ध जारी है। इसका आज दसवाँ दिन है। जिस तरह से पुतिन की सेना यूक्रेन के खिलाफ कार्रवाई कर रही है अमेरिका समेत कई सारे देश उसके ऊपर प्रतिबंधों की बारिश कर रहे हैं। इसी क्रम में विश्व की टेक दिग्गज भी रूस के खिलाफ जंग लड़ रही हैं। गूगल, फेसबुक, ट्विटर और एप्पल के बाद अब दक्षिण कोरिया के कंपनी सैमसंग (Samsung) ने भी रूस के खिलाफ कार्रवाई करते हुए रूस में फोन और चिप बेचने पर रोक लगा दिया है।

सैमसंग रूसियों का पसंदीदा ब्रांड है और वहाँ इसे एप्पल और शाओमी से भी ज्यादा लोग पसंद करते हैं। यहीं नहीं, रूस के खिलाफ एक्शन लेने के साथ ही सैंमसंग यूक्रेन की मदद के लिए आगे आया है। कंपनी ने यूक्रेन में राहत कार्यों में सहायता के लिए $60 लाख (45,85,53,000 भारतीय रुपए) देने का ऐलान किया है। कोरियाई टेक जायंट की इस मदद में ग्राहकों और उसके कर्मचारियों के द्वारा दिया गया दान भी शामिल है।

ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक, दक्षिण कोरियाई कंपनी ने कहा कि वो लगातार यूक्रेन के हालात पर नजर बनाए हुए है। चिप्स से लेकर स्मार्टफोन और उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स तक सभी सैमसंग प्रॉडक्ट्स का रूस को निर्यात रोक दिया गया है।

सैमसंग ने इस मामले में एक बयान जारी कर कहा, “हमारी संवेदनाएँ प्रभावित लोगों के साथ हैं और हमारी प्राथमिकता अपने सभी कर्मचारियों और उनके परिवारों की सुरक्षा सुनिश्चित करना है।”

पहले भी कई कंपनियाँ ले चुकी हैं रूस के खिलाफ एक्शन

गौरतलब है कि यूक्रेन और रूस के खिलाफ जारी जंग के बीच शुक्रवार (4 फरवरी 2022) को अमेरिकी टेक दिग्गज माइक्रोसॉफ्ट ने भी रूस के खिलाफ कार्रवाई की थी। कंपनी ने अपने सभी उत्पादों की बिक्री और सेवाओं पर रोक लगा दिया था। इसी तरह से गूगल ने भी रूस में सभी तरह के विज्ञापनों को रोक दिया था। 1 मार्च 2022 को ट्विटर ने भी रूस के खिलाफ कार्रवाई करते हुए ऐलान किया था कि वो रूसी सरकार से जुड़े किसी भी कंटेंट में लेबल लगाएगा।

गूगल के पेमेंट ऐप ने रुस में अनी सेवाओं को बंद कर दिया। वहीं यूट्यूब ने रूस से जुड़े सभी मीडिया आउटलेट्स को ब्लॉक करना शुरू कर दिया है। वहीं PayPal ने भी आधिकारिक रूप से रूस में अपनी सेवाओं को रोक दिया है।

फेसबुक ट्विटर पर रूस की कार्रवाई

दुनिया की दिग्गज टेक कंपनियों के एक्शन के बाद अब रूस ने भी एक्शन लिया है। शुक्रवार को रूसी संसद में फेक न्यूज पर लगाम लगाने के लिए एक प्रस्ताव पास हुआ। नए कानून के तहत जानबूझकर फेक न्यूज फैलाने पर 15 साल तक की सजा होगी। इसी के तहत फेसबुक और ट्विटर को रुस में बैन कर दिया गया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मुस्लिम छात्रों के झूठे आरोपों पर अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी ने किया निलंबित’: हिन्दू छात्र का आरोप – मिली धर्म ने समझौता न करने की...

तिवारी और उनके दोस्तों को कॉलेज में सार्वजनिक रूप से संघी, भाजपा के प्रवक्ता और भाजपा आईटी सेल का सदस्य कहा जाता था।

आतंकी यासीन मलिक को उम्रकैद: टेरर फंडिग में सजा के बाद बजे ढोल, श्रीनगर में कट्टरपंथियों ने की पत्थरबाजी

कश्मीर में कश्मीरी हिंदुओं के नरसंहार के आरोपित यासीन मलिक को टेरर फंडिंग केस में 25 मई को सजा मुकर्रर हुई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
188,790FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe