Saturday, July 24, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयशरिया का जानकार ISIS का सरगना: यजीदी बच्चियों से रेप, उन्हें सेक्स स्लेव बनाने...

शरिया का जानकार ISIS का सरगना: यजीदी बच्चियों से रेप, उन्हें सेक्स स्लेव बनाने का दिया था हुक्म

बगदादी अक्टूबर में मारा गया था। इसके बाद कुरैशी का नाम सामने आया था। लेकिन, बताया जा रहा है कि यह छद्म नाम है। बगदादी की मौत के बाद ISIS बड़ा खतरा नहीं उठाना चाहता। लिहाजा गोपनीयता बरती जा रही है।

आतंकी संगठन ISIS के सरगना अबू बकर अल-बगदादी के खात्‍मे के बाद उसके नए सरगनाओं को लेकर अक्टूबर से ही अलग-अलग रिपोर्टों में विभिन्‍न दावे किए जाते रहे। अब अंग्रेजी अखबार The Guardian ने अपनी रिपोर्ट में खुफ‍िया सेवाओं के हवाले से इस बारे में नया दावा किया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि खुफिया सेवाओं ने ISIS के नए सरगना की पहचान आमिर मोहम्मद अब्दुल रहमान अल मवली अल-सल्बी के रूप में की है।

अखबार ने दो खुफिया सेवाओं के अधिकारियों के हवाले से बताया है कि अब्दुल रहमान आईएस के संस्थापकों में से एक है। उसके इशारे पर ही इराक और सीरिया में इस्लामिक स्टेट का खिलाफत कायम होने के बाद यजीदी बच्चियों और महिलाओं से रूह कॅंपा देने वाले अत्याचार अंजाम दिए गए थे। उनसे बार-बार रेप किया गया और उन्हें सेक्स स्लेव बनाकर रखा गया।

यही नहीं दुनिया के अलग-अलग हिस्‍सों में उसी की देखरेख में ISIS के आतंकी हमलों को अंजाम देते थे। रिपोर्ट के मुताबिक, सल्बी का जन्म इराक के ताल अफरा शहर में हुआ था। तुर्कमेन परिवार के सल्‍बी ने मोसुल यूनिवर्सिटी से शरिया कानून की डिग्री ली है।

गौरतलब है कि अक्टूबर में विशेष अमेरिकी बलों के हमले में आईएस सरगना अबु बकर अल बगदादी के मारे जाने के बाद संगठन ने अपने सरगना के रूप में अबु इब्राहिम अल हाशिमी अल कुरैशी के नाम का प्रस्ताव दिया था। लेकिन कुछ समीक्षकों का मानना है कि बगदादी को मौत के घाट उतारे जाने के बाद ISIS कोई भी बड़ा खतरा नहीं उठाना चाहता है। यही कारण है कि उनके नए सरगना के बारे में कोई भी जानकारी पुख्‍ता तौर पर कहीं भी मौजूद नहीं है।

गार्जियन की रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि बगदादी के मारे जाने के कुछ ही घंटों के भीतर ही ISIS ने आमिर मोहम्मद अब्दुल रहमान अल मवली अल-सल्बी को अपना नया सरगना चुन लिया था। इसलिए ऐसा माना जा रहा है कि Islamic State की पूर्व घोषणा दुनिया को गुमराह करने के मकसद से की गई हो। बता दें, कुरैशी फिलहाल छद्मनाम है जिसकी पुष्टि अन्य सरगनाओं अथवा खुफिया एजेंसियों ने नहीं की हैं।

ISIS से मुक्त हुई यज़ीदी लड़कियाँ, जलाए बुरखे; ISIS लक्षण है, बीमारी नहीं

बिन बुर्क़े बाहर जाओगी तो हल्ला मच जाएगा: आईसिस ने यज़ीदी सेक्स स्लेव से यही कहा

कैसे बगदादी को उतारा गया मौत के घाट: अमेरिकी सेना ने जारी किया ‘मिशन कायला’ का VIDEO

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NH के बीच आने वाले धार्मिक स्थलों को बचाने से केरल HC का इनकार, निजी मस्जिद बचाने के लिए राज्य सरकार ने दी सलाह

कोल्लम में NH-66 के निर्माण कार्य के बीच में धार्मिक स्थलों के आ जाने के कारण इस याचिका में उन्हें बचाने की माँग की गई थी, लेकिन केरल हाईकोर्ट ने इससे इनकार कर दिया।

कीचड़ मलती ‘गोरी’ पत्रकार या श्मशानों से लाइव रिपोर्टिंग… समाज/मदद के नाम पर शुद्ध धंधा है पत्रकारिता

श्मशानों से लाइव रिपोर्टिंग और जलती चिताओं की तस्वीरें छापकर यह बताने की कोशिश की जाती है कि स्थिति काफी खराब है और सरकार नाकाम है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,987FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe