Sunday, May 29, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयहिंदू नेता को जंजीरों से पेड़ में बाँधा, बर्बर तरीके से मारा: इफ्तार को...

हिंदू नेता को जंजीरों से पेड़ में बाँधा, बर्बर तरीके से मारा: इफ्तार को लेकर 40 कट्टरपंथियों का बांग्लादेश में हमला

हैदगांव यूनियन अवामी लीग के संयुक्त संयोजक शाहिदुल इस्लाम ज़ुलु ने आरोप लगाया कि यूनियन अवामी लीग ने बीएम जसीम को इफ्तार समारोह में आमंत्रित नहीं किया, क्योंकि वर्तमान अध्यक्ष को सत्तारूढ़ अवामी लीग के असंतुष्ट उम्मीदवार के रूप में चुना गया था।

बांग्लादेश में एक बार फिर एक हिंदू व्यक्ति के साथ बर्बरता करने का मामला सामने आया है। बांग्लादेश हिंदू बौद्ध ईसाई ओइकिया परिषद के दक्षिण चटगाँव के उपाध्यक्ष जितेंद्र कांति गुहा को एक पेड़ से बाँध कर बुरी तरह पीटने की खबर सामने आई है। बताया जा रहा है कि इफ्तार समारोह के निमंत्रण को लेकर स्थानीय सरकारी अधिकारी के इशारे पर उसके समर्थकों ने इस घटना को अंजाम दिया।

बांग्लादेश में अल्पसंख्यकों के मुद्दे को प्रमुखता से उठाने वाले ‘वॉइस ऑफ बांग्लादेश हिंदू़ (@VoiceOfHindu71)’ नाम के ट्विटर हैंडल ने गुहा की फोटो शेयर की है। इसके साथ हैंडल ने लिखा है, “इफ्तार पार्टी में भाग नहीं लेने पर स्थानीय अवामी लीग के नेता मोहम्मद जसीम द्वारा बर्बर तरीके से चटगाँव के एक हिंदू नेता जितेंद्र कांति गुहा पर हमला किया गया।”

उपद्रवियों ने चगाँव के पटिया उप-जिला के हैदगाँव यूनियन में गुहा को न सिर्फ बुरी तरह मारा, बल्कि एक पेड़ से बाँध भी दिया। घटना हैदगाँव में ब्राह्मणघाट के गौचिया कम्युनिटी सेंटर के सामने अंजाम दिया गया। गुहा आवामी लीग के स्थानीय अध्यक्ष भी रह चुके हैं। इस घटना बाद उन्हें पटिया स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया, लेकिन बाद में उन्हें चटगाँव मेडिकल कॉलेज अस्पताल में शिफ्ट कर दिया गया।

बताया जा रहा है कि हैदगाँव यूनियन अवामी लीग ने गौचिया कम्युनिटी सेंटर में इफ्तार पार्टी और बैठक का आयोजन किया था, लेकिन यूनियन परिषद (यूपी) के अध्यक्षद बीएम जसीम को आमंत्रित नहीं किया गया था। रिपोर्ट्स के मुताबिक, घटना के पीछे यही वजह रही।

हैदगांव यूनियन अवामी लीग के संयुक्त संयोजक शाहिदुल इस्लाम ज़ुलु ने आरोप लगाया कि यूनियन अवामी लीग ने बीएम जसीम को इफ्तार समारोह में आमंत्रित नहीं किया, क्योंकि वर्तमान अध्यक्ष को सत्तारूढ़ अवामी लीग के असंतुष्ट उम्मीदवार के रूप में चुना गया था।

नतीजतन, जसीम क्रोधित हो गया और 30-40 व्यक्तियों के एक समूह के साथ स्थान पर पहुँचा और यूनियन अवामी लीग के संयोजक महमूदुल हक हाफ़िज़ सहित कई लोगों का अपमान करना शुरू कर दिया। पूर्व सदस्य ने जितेंद्र गुहा को घूँसा मारा। इसके बाद जितेंद्र गुहा को बाहर निकाला गया और फिर एक पेड़ से जंजीर से बाँध दिया गया। फिर जसीम के समर्थकों द्वारा उन्हें बेरहमी से पीटा गया।

इस मामले पर जब बीएम जसीम ने पूछा गया तो उन्होंने आरोप लगाया कि गुहा ने अध्यक्ष रहते हुए सरकारी आवास, ट्यूबवेल और रोजगार देने का लालच देकर लोगों से पैसे लिए थे। उनका आरोप है कि उन्हीं युवकों ने पैसे वापस माँगते हुए उनकी पिटाई की।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

प्रोपेगंडा से आहत महंत ने रोते हुए छोड़ा पद, ‘The Lallantop’ ने चला दिया था शिवलिंग को फव्वारा बताने वाला बयान: कहा – 9...

गणेश शंकर उपाध्याय ने काशी करवट महंत के पद से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने कहा कि वो एजेंडा के तहत चलाई गई खबरों से निराश हैं। 'The Lallantop' ने चलाया था प्रोपेगंडा।

नूपुर शर्मा का सिर कलम करने वाले को ₹20 लाख इनाम का ऐलान, बताया ‘गुस्ताख़-ए-रसूल’: मुस्लिमों को उकसा रहा AltNews वाला जुबैर

तहरीक-ए-लब्बैक (TLP) वही समूह है जिसने कुछ दिनों सियालकोट में पहले श्रीलंकाई नागरिक की हत्या कर दी थी। अब नूपुर शर्मा का सिर कलम करने पर रखा इनाम।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
189,861FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe